अयोध्या: क्या दो बाहुबली नेताओं में वर्चस्व की जंग ने ली ठेकेदार सोनू सिंह की जान?

अजय प्रताप सिंह के परिजन और पूर्व विधायक अभय सिंह ने बीजेपी विधायक खब्बू तिवारी पर हत्या करवाने का आरोप लगाया है. इस हाई प्रोफाइल मामले में पुलिस ने भाजपा विधायक के खिलाफ हत्या, गुंडा टैक्स वसूली और साजिश का मुकदमा दर्ज कर लिया है.

  • Share this:
अयोध्या जनपद में हुए प्रधान पुत्र ठेकेदार अजय प्रताप सिंह उर्फ सोनू सिंह की हत्या में सियासत उभर कर सामने आ रही है. गोसाईगंज विधानसभा के दो दिग्गज नेताओं की वर्चस्व की जंग में एक ठेकेदार मौत के मुंह में समा गया. ठेकेदार के परिजन और सपा के पूर्व विधायक अभय सिंह भाजपा विधायक खब्बू तिवारी पर हत्या का आरोप लगा रहे हैं. इसके साथ ही घटनास्थल पर मिले साक्ष्य हत्या को संदिग्ध होने का इशारा करते हैं.



ठेकेदार हत्याकांड: बीजेपी विधायक खब्बू तिवारी के खिलाफ दर्ज हुई हत्या की FIR



मौका-ए-वारदात पर जब पुलिस पहुंची तो पता चला कि दरवाजा अंदर से बंद था. घर वालों ने बाहर से हाथ डालकर दरवाजे की जंजीर खोली तो ठेकेदार लहूलुहान बेड के नीचे पड़ा था. वहां से एक रिवाल्वर भी मिली है, जिसमें से एक गोली फायर भी हुई है.





जनपद के गोसाईगंज विधानसभा क्षेत्र से पूर्व में समाजवादी पार्टी के अभय सिंह विधायक थे तो वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी और अपना दल से इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ खब्बू तिवारी विधायक चुने गए. दोनों बाहुबली विधायको में वर्चस्व के जंग में आए दिन दो चार होते रहते थे. मृतक ठेकेदार अजय प्रताप सिंह बिजली विभाग में ठेकेदारी का काम करता था और सपा के पूर्व विधायक अभय सिंह का करीबी था.
थाने में तोड़फोड़ और दारोगा को गले में रस्‍सी डाल खींचा, महिला कांस्टेबल से भी बदसलूकी



मृतक अजय प्रताप सिंह ने पूर्व में ही बीजेपी विधायक खब्बू तिवारी के गुर्गो पर गुंडा टैक्स वसूली का आरोप भी लगाया था लेकिन इसकी लिखित शिकायत पुलिस को नहीं दी थी. 22 दिसंबर की शाम लगभग 4 बजे उस की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो जाती है. घटना के दिन ठेकेदार अजय प्रताप सिंह अपने परिवार के साथ शहर के नाका स्थित एक मॉल में खरीदारी करने गया था. लौटने पर वो अकेला ही लौटा और परिवार पीछे रह गया और जब परिवार पहुंचा तो अंदर से दरवाजा बंद था.



जब पुलिस वहां पहुंची तो परिवारों ने बताया कि दरवाजा अंदर से बंद था. घरवालों ने ही दरवाजे में हाथ डालकर अंदर की कुंडी को खोला, जिसके बाद जब वे घर के अंदर पहुंचे तो अजय प्रताप सिंह लहूलुहान बेड के नीचे पड़े थे. आनन-फानन में उन्हें जिला अस्पताल लाया गया. जहां पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. घटनास्थल से पुलिस को एक रिवाल्वर भी मिली है, जिसमें 6 गोलियों की जगह केवल 5 गोली थी और एक गोली उसमें से गायब थी.



सीएम योगी बोले- हम ही करेंगे राम मंदिर निर्माण, जनेऊ दिखाकर भटकाने का हो रहा प्रयास



अजय प्रताप सिंह के परिजन और पूर्व विधायक अभय सिंह ने बीजेपी विधायक खब्बू तिवारी पर हत्या करवाने का आरोप लगाया है. इस हाई प्रोफाइल मामले में पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए मृतक के पिता की तहरीर पर भाजपा विधायक के खिलाफ हत्या गुंडा टैक्स वसूली और साजिश का मुकदमा दर्ज कर लिया है.



मृतक अजय प्रताप सिंह मूलतः थाना हैदरगंज के बैती कला गांव के रहने वाले थे और इनकी मां शीला सिंह उसी गांव की ग्राम प्रधान है. पुलिस के अनुसार अजय प्रताप सिंह तीन चार महीने पहले ही थाना कैंट के कौशलपुरी कॉलोनी में मकान लेकर रहने लगा था और इसी मकान पर 22 दिसंबर को गोली लगने से संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई.



ये भी पढ़ें: 



बाराबंकी: पीएल पुनिया का जोरदार स्वागत, बोले- रावण की तरह BJP कर रही हनुमानजी का अपमान



Facebook पर अपनी ही भांजी की बनाई फेक आईडी और वायरल कर दीं फर्जी अश्लील तस्वीरें



कानपुर: चलती ट्रेन में पत्नी को उतारा मौत के घाट, गिरफ्तार



सीतापुर में पति-पत्नी ने फांसी लगाकर जान दी, 8 महीने पहले हुई थी शादी



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज