लाइव टीवी

फैजाबाद कचहरी सीरियल ब्लास्ट में 12 साल बाद फैसला, दो आतंकियों को उम्र कैद, एक बरी
Faizabad News in Hindi

KB Shukla | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 20, 2019, 7:23 PM IST
फैजाबाद कचहरी सीरियल ब्लास्ट में 12 साल बाद फैसला, दो आतंकियों को उम्र कैद, एक बरी
फैजाबाद कचहरी सीरियल धमाकों के मामले के फैसले के मद्देनजर मंडल कारागार में चाक-चौबंद थी सुरक्षा.

फैजाबाद कचहरी (Faizabad court) में वर्ष 2007 में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों (Serial Bomb Blast case) के मामले में शुक्रवार को विशेष अदालत ने फैसला सुनाया. कोर्ट ने मामले में दो आतंकियों को उम्र कैद (life imprisonment) की सजा सुनाई, वहीं एक आरोपी को बरी कर दिया गया.

  • Share this:
अयोध्या. फैजाबाद कचहरी (Faizabad court) सीरियल ब्लास्ट मामले (Serial Bomb Blast case) में विशेष अदालत में शुक्रवार को अपना फैसला सुना दिया. 12 साल पुराने इस मामले में अपर जनपद न्यायाधीश प्रथम अशोक कुमार ने दो आरोपियों तारिक काजमी और मोहम्मद अख्तर को उम्र कैद (life imprisonment) की सजा सुनाई है. वहीं कोर्ट ने प्रकरण के तीसरे आरोपी सज्जादुर्रहमान को बरी कर दिया है. विशेष अदालत ने दोष सिद्ध दोनों आरोपियों को आईपीसी की धारा 302 और 120बी में उम्र कैद तथा 50 हजार रुपया जुर्माना और जानलेवा हमले की धारा 307 में 10 साल की सश्रम कारावास की सजा सुनाई है.

एटीएस ने की थी जांच
फैजाबाद कचहरी सीरियल धमाका मामले के चौथे आरोपी खालिद मुजाहिद की मुकदमे के दौरान ही बाराबंकी जेल में मौत हो गई थी. इस कारण कोर्ट में उसका केस बंद कर दिया गया था. उत्तर प्रदेश की आतंकवाद निरोधी दस्ते यानी एटीएस (ATS) ने इस मामले की पड़ताल की थी. एटीएस ने गहन छानबीन के बाद चारों आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट पेश की थी. विशेष न्यायाधीश ने फैसले के लिए मामले के आरोपियों को मंडल कारागार तलब किया था.

वाराणसी-लखनऊ और फैजाबाद में हुए थे धमाके



23 नवंबर 2007 को फैजाबाद समेत वाराणसी और लखनऊ की कचहरी में भी सीरियल बम धमाके हुए थे. फैजाबाद कचहरी में दो अलग-अलग स्थानों पर कुछ ही समय के अंतराल पर हुए धमाकों मे वरिष्ठ अधिवक्ता राधिका प्रसाद मिश्र समेत कुल 4 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं 26 लोग घायल हो गए थे. धमाकों के बाद एटीएस को मामले की जांच का जिम्मा सौंपा गया. एटीएस ने बाराबंकी के रेलवे स्टेशन के पास प्रदेश की कचहरियों में सीरियल धमाकों में शामिल चार संदिग्ध आतंकियों तारिक काजमी, मोहम्मद अख्तर उर्फ तारिक, सज्जाद उर रहमान और खालिद मुजाहिद को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. इस मामले की सुनवाई कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मंडल कारागार में बनाई गई विशेष अदालत में चल रही थी.



10 दिसंबर को पूरी हुई थी बहस
बीते 10 दिसंबर को विशेष न्यायाधीश एडीजे प्रथम अशोक कुमार की अदालत ने एटीएस के एसपीओ अतुल ओझा, सरकारी वकील विजय ओझा और बचाव पक्ष के वकीलों की बहस पूरी होने के बाद मामले में फैसले के लिए 20 दिसंबर की तारीख तय की थी. फैसले के मद्देनजर शुक्रवार को मंडल कारागार के आसपास सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए थे. सजा मंडल कारागार स्थित विशेष अदालत में सुनाई जानी थी इसको लेकर मंडल कारागार परिसर को एटीएस में अपने घेरे में लिया था. जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरक्षा व्यवस्था और घटनाक्रम की निगरानी में जुटे थे.

ये भी पढ़ें -

CAA Protest: कानपुर में प्रदर्शन के दौरान 12 लोग घायल, हैलेट अस्पताल में भर्ती

 

CAA Protest: गोरखपुर में प्रदर्शन के दौरान पत्‍थरबाजी, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फैजाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 20, 2019, 7:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading