फर्रूखाबाद में बंधक संकट खत्म, सभी 23 बच्चे छुड़ाए गए, पुलिस मुठभेड़ में मारा गया सिरफिरा
Farrukhabad News in Hindi

फर्रूखाबाद में बंधक संकट खत्म, सभी 23 बच्चे छुड़ाए गए, पुलिस मुठभेड़ में मारा गया सिरफिरा
फर्रुखाबाद : बंधक बनाए गए सभी 23 बच्चे छुड़ाए गए, सिरफिरा मारा गया

छुड़ाए गए सभी 23 बच्चों का मेडिकल कराकर घर भेज दिया गया है. अगवा किए गए बच्चों को सुरक्षित बचाए जाने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने खुशी जाहिर की है

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2020, 7:59 AM IST
  • Share this:
फर्रुखाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फर्रुखाबाद (Farrukhabad) जिले के कसरिया गांव में बंधक बनाए गए सभी 23 बच्‍चों को सकुशल छुड़ा लिया गया है. लगभग ग्यारह घंटे तक चले इस हाई वोल्टेज ड्रामे का अंत सिरफिरे सुभाष बाथम की मौत के साथ हुआ. बताया जाता है कि आरोपी सुभाष और पुलिस के बीच काफी देर मुठभेड़ हुई, जिसके बाद आरोपी को मार गिराया गया. छुड़ाए गए सभी बच्चों का मेडिकल कराकर घर भेज दिया गया है. अगवा किए गए बच्चों को सुरक्षित बचाए जाने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने खुशी जाहिर की है. सीएम योगी (CM Yogi) ने इस ऑपरेशन को सफल बनाने वाली पुलिस टीम को 10 लाख रुपये और प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की है.






गुरुवार शाम आरोपी शख्स ने मोहल्ले के 23 बच्चों को अपने घर में बर्थडे पार्टी का बहाना कर बुलाया था, उसके बाद उसने उन सभी को बंधक बना लिया. आरोपी से जब बात करने की कोशिश की गई तो उसने फायरिंग की, जिसके बाद पुलिस टीम ने पूरे इलाके को घेर लिया था.



अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि सभी बच्चों को सुरक्षित बचा लिया गया है. घर के अंदर बच्चों के बंधक बने होने के कारण ऑपरेशन में ज्यादा वक्त लगा. सभी बच्चे पूरी तरह से सुरक्षित हैं. पुलिस ने मुठभेड़ के बाद आरोपी सुभाष बाथम को मार गिराया है. उन्होंने कहा कि हमें खुशी है कि इस ऑपरेशन को सफलता पूर्वक पूरा कर लिया गया.



सिरफिरे युवक ने DM के सामने रखी थी अपनी मांग
सिरफिरे सुभाष बाथम ने जिलाधिकारी (डीएम) को दिए मांग पत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर न मिलने और शौचालय न बनने पर नाराजगी जताई थी. सिरफिरे ने इस पत्र में ग्राम प्रधान समेत सचिव और डीएम को इसके लिए दोषी बताया था. बताया जाता है कि सिरफिरे ने अपनी मांग से जुड़ा पत्र घर के बाहर फेंका था, जिसे जिलाधिकारी को दे दिया गया था.

इसे भी पढ़ें- फर्रखाबाद: सिरफिरे युवक ने बंधक बनाए बच्चों में से 6 माह की बच्ची को घर के बाहर छोड़ा

एक साल पहले जमानत पर जेल से छूटा था
मिली जानकारी के मुताबिक सुभाष बाथम ने दो साल पहले अपने मौसा की हत्या कर दी थी. एक साल पहले ही वो जमानत पर छूटकर जेल से बाहर आया था. उसकी 10 साल की एक बेटी भी है. गुरुवार दोपहर उसने अपनी बेटी के जन्मदिन के बहाने गांव के बच्चों को घर बुलाया था. बच्चे दोपहर लगभग ढाई बजे घर पहुंचे थे. इसके बाद उसने घर अंदर से बंद कर लिया था. करीब साढ़े चार बजे एक महिला अपने बच्चे को लेने के लिए सुभाष के घर पहुंची तो पता चला कि अंदर बच्चे कैद हैं. जिसके बाद इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई.

इसे भी पढ़ें- फर्रखाबाद: प्रधानमंत्री आवास योजना का घर और शौचालय न मिलने से नाराज था सिरफिरा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading