फर्रुखाबाद: बीजेपी सांसद ने एक्सईएन को धमकाया, बोले- तू पीटने वाला काम कर रहा है

फर्रुखाबाद सांसद और बीजेपी प्रत्याशी मुकेश राजपूत नामांकन दाखिल करने के लिए बिजली विभाग से नोड्यूज लेने गए थे.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 2, 2019, 8:31 AM IST
फर्रुखाबाद: बीजेपी सांसद ने एक्सईएन को धमकाया, बोले- तू पीटने वाला काम कर रहा है
फर्रुखाबाद सांसद और बीजेपी प्रत्याशी मुकेश राजपूत नामांकन दाखिल करने के लिए बिजली विभाग से नोड्यूज लेने गए थे.
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 2, 2019, 8:31 AM IST
फर्रुखाबाद सांसद और बीजेपी प्रत्याशी मुकेश राजपूत द्वारा बिजली विभाग के एक अधिकारी को धमकी देने का मामला सामने आया है. आरोप है कि मुकेश राजपूत को नामांकन दाखिल करने के लिए बिजली विभाग से नो ड्यूज लेनी थी. लेकिन नो ड्यूज नहीं मिलने पर सांसद महोदय बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता पर भड़क गए और हड़काते हुए कहा, "तू पीटने का काम कर रहा है."

भयभीत नगरीय अधिशासी अभियंता पंकज अग्रवाल ने सांसद की जिलाधिकारी सहित पॉवर कॉरपोरेशन के आलाधिकारियों से शिकायत की है. अधिशासी अभियंता अग्रवाल ने सोमवार को ही डीएम को शिकायती पत्र भेजकर अवगत कराया कि सांसद मुकेश राजपूत ने लोकसभा चुनाव में नामांकन के लिए विद्युत विभाग की एनओसी खंड कार्यालय से मांगी थी.

सांसद मुकेश राजपूत ने बीते 7 वर्षो से बिजली बिल का भुगतान नही किया है. 31 मार्च की शाम 6.50 बजे मेरे मोबाइल फोन पर सांसद मुकेश राजपूत ने अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए कहा कि तू पीटने का काम कर रहा है. मैं बिल नहीं जमा करूंगा. भयभीत अधिशासी अभियंता ने डीएम को अवगत कराया कि सांसद की धमकी से अगर भविष्य मे मेरे एवं परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना होती है तो इसके लिए सांसद मुकेश राजपूत पूर्ण उत्तरदायी होंगे.

अधिशासी अभियंता ने डीएम से स्वंय एवं परिवार को सुरक्षा प्रदान करने की भी गुहार लगाई है. अधिशासी अभियंता अग्रवाल ने सांसद के द्वारा धमकाए जाने का ऑडियो भी वायरल कर दिया. बताया गया कि सांसद मुकेश राजपूत के आईटीआई चौराहा स्थित आवास पर उनकी पत्नी सौभाग्यवती के नाम से वर्ष 2012 से घरेलू बिजली कनेक्शन है. बेटे अमित राजपूत के नाम से मेसर्स अमित मोर्टस के नाम से कार्मिशयल कनेक्शन रहा. दोनों कनेक्शनों पर अभी तक कोई भी बिल नही जमा किया गया.

सौभाग्यवती के नाम पर 4,87,449 रुपए का बिल है. जिसमे 1,19,111 रुपए की छूट मिलने पर बिल का 3,68,338 रुपए बाकी है. जबकि अमित राजपूत के नाम पर 1,32,345 रुपए बाकी है. दोनों बिलो का 500,683 रुपए बाकी है. 2014 के लोकसभा चुनाव में विभाग ने बकाया होने के बावजूद मुकेश राजपूत को नोड्यूज जारी कर दिया था. उस समय राजपूत पर करीब 10 हजार रुपए बकाया था. सुरेश कुमार अधिशासी अभियंता थे.

बताया गया कि नोड्यूज लेने मुकेश राजपूत अधिशासी अभियंता कार्यालय गए थे. लेकिन अधिशासी अभियंता ने 5 लाख रुपए बाकी होने पर नोड्यूज देने से मना कर दिया था. इसके बाद सांसद के सेक्रेटरी अनूप मिश्रा ने अधिशासी अभियंता को बिल कम करने को कहा. तो अधिशासी अभियंता ने बिल न कम हो पाने की बात कही.

सांसद ने अधिशासी अभियंता से नोड्यूज देने की बात कहते हुए कहा कि इतना पैसे कैसे जमा करा पाएंगे. तभी गुस्साए सांसद ने अधिशासी अभियंता से कहा कि तुमने जिले को लूटा है. अधिशासी अभियंता ने इस आरोप को गलत बताया. तभी सांसद ने अधिशासी अभियंता से कहा कि तू ठुकने-पीटने वाला काम कर रहा है. बिल ठीक कर दे, तेरा दिमाग खराब हो गया है. पुरे मामले पर अभी तक सांसद मुकेश राजपूत मीडिया से कुछ भी कहने से बच रहे है.
Loading...

यह भी पढ़ें- सुर्खियां: मुलायम के नामांकन में नहीं पहुंचे शिवपाल, सैटेलाइट से पकड़ी 15 करोड़ की टैक्स चोरी

यह भी पढ़ें- 'मोदी जी की सेना' पर घिरे सीएम योगी, चुनाव आयोग ने तलब की रिपोर्ट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: April 2, 2019, 8:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...