लाइव टीवी
Elec-widget

फर्रुखाबाद: लोन सैंक्शन होने के बाद भी दौड़ाता रहा बैंक स्टाफ, परेशान युवक ने की आत्महत्या, बनाया VIDEO

Suryaa Bajpai | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 28, 2019, 2:42 PM IST
फर्रुखाबाद: लोन सैंक्शन होने के बाद भी दौड़ाता रहा बैंक स्टाफ, परेशान युवक ने की आत्महत्या, बनाया VIDEO
आत्महत्या से पहले मनीष ने बनाया वीडियो

मामला शहर कोतवाली क्षेत्र नारायणपुर आर्यावर्त ग्रामीण बैंक का है, जहां अधिकारियों की रिश्वतखोरी से तंग आकर बेरोजगार युवक मनीष उर्फ मनु शर्मा ने फांसी लगाकर जान दे दी.

  • Share this:
फर्रुखाबाद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बेरोजगारों के स्वरोजगार के लिए चाहे कितने भी योजना चलाएं, लेकिन सरकारी सिस्टम उनके मंसूबे पर पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहा. बैंकों से ऋण (Bank Loan) लेकर रोजगार करने की सोचने वालों को किस कदर बैंककर्मी परेशान करते हैं इसकी बानगी फर्रुखाबाद (Farrukhabad) में देखने को मिली. जब एक युवक बैंक से लोन लेने के चक्कर में इतना परेशान हुआ कि उसने आखिर में थक-हारकर आत्महत्या कर ली. इतना ही नहीं आत्महत्या (Suicide) से पहले युवक ने एक वीडियो भी बनाया, ज्सिमें उसने बैंक स्टाफ पर गंभीर आरोप लगाए हैं. इतना ही नहीं सरकार को भी नसीहत दी है.

मामला शहर कोतवाली क्षेत्र नारायणपुर आर्यावर्त ग्रामीण बैंक का है, जहां अधिकारियों की रिश्वतखोरी से तंग आकर बेरोजगार युवक मनीष उर्फ मनु शर्मा ने फांसी लगाकर जान दे दी. मनु कोतवाली फर्रुखाबाद के ग्राम पपियारपुर निवासी स्वर्गीय प्रवेश शर्मा का 25 वर्षीय अविवाहित पुत्र था. मनु ने मंगलवार रात ग्राम विजाधर पुर निवासी पंडित जी के बाग के पेड में प्लास्टिक की रस्सी से फासी लगा ली.

मांग रहे थे कमीशन

पपियापुर निवासी विजय राजपूत की सूचना पर पीआरबी 3494 एवं रेलवे रोड चौकी इंचार्ज राजीव सिंह सिपाही सुरजेश के साथ मौके पर पहुंचे. पुलिस ने मनु के शव को नीचे उतरवाकर पंचनामा भरा. मनीष चार भाइयों में दूसरे नंबर का था. मनु ने सरकारी योजना के तहत 5 लाख के कर्जे के लिए आवेदन किया था. उसकी पत्रावली ग्रामीण बैंक नारायनपुर में विचाराधीन है. पूर्व मैनेजर ने मनु से रिश्वत के 40 हजार रुपयों की मांग की थी. बैंक अधिकारियों की बजह से आत्महत्या करने से पहले चार वीडियो बनाये जिसमे उसने बैंक कर्मचारियों का भी वीडियो बनाया. परेशान युवक के लिए दर्जनों लोगों ने सिफारिश भी की थी. लेकिन किसी भी बैंक अधिकारी ने ध्यान नही दिया. वीडियो में उसने कहा कि सरकार गरीबो को बढ़ावा देने के लिए योजनाये चला रही है. लेकिन स्थानीय अधिकारी अपनी जेबें भरने के लिए गरीबो को मौत के मुंह मे झोकने का काम कर रहे है. मरने से पहले उसने अपना वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल किया. मृतक ने बैंक आफ इंडिया से स्वरोजगार प्रशिक्षण योजना से डिप्लोमा भी किया था. उसी आधार पर उसका पांच लाख का लोन स्वीकृत हुआ था. लेकिन बैंक अधिकारियों को कमीशन न देने की बजह से उसने मौत को गले लगा लिया है.

वीडियो कलेजा कंपाने वाला

मनु ने मैनेजर से कहा था कि कर्जा मंजूर कर दो उसी में से तुम्हें कमीशन दे देंगे. मेरे पास जो रुपये थे वह पत्रावली तैयार करने में खर्च हो गए हैं. तबादले के बाद नए मैनेजर ने मनु से 50 हजार की मांग की. जिसके कारण मनु काफी टेंशन में रहता था. इसी टेंशन में उसने फांसी लगाई ली. मौत से पहेले बनाए हुए सभी वीडियो में किसी का भी कलेजा सिहर उठेगा. मृतक युवक ने अपने सभी वीडियो में बैंक कर्मियों को दोषी बनाया है, लेकिन अब देखना यह है कि इस युवक को सरकार व अफसरान कैसे इंसाफ दिला पाते हैं.

पूरे मामले पर जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने न्यूज़ 18 को बताया कि जांच समिति बना कर दोषियों के बिरूद्ध कड़ी कार्यबाई करने की बात कही है. एसपी अनिल मिश्र ने मृतक के द्वारा बनाए गए वीडियो समेत पूरे मामले की जांच कराने के निर्देश दिए है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फर्रुखाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 2:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...