फर्रुखाबाद: रेप के बाद नाबालिग हुई प्रेग्नेंट तो कराया गर्भपात, फिर हुआ गैंगरेप

शिकायत पुलिस से की गई तो छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया. अब पीड़िता ने एसपी से न्याय की गुहार लगाई है.

Suryaa Bajpai | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 14, 2018, 2:17 PM IST
फर्रुखाबाद: रेप के बाद नाबालिग हुई प्रेग्नेंट तो कराया गर्भपात, फिर हुआ गैंगरेप
सांकेतिक तस्वीर.
Suryaa Bajpai | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 14, 2018, 2:17 PM IST
फर्रुखाबाद में महिला सुरक्षा को लेकर पुलिस कितनी संवेदनशील है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बिन मां-बाप की नाबालिग बच्ची के साथ बार-बार रेप हुआ. वह प्रेग्नेंट हुई तो उसका गर्भपात करा दिया गया. पीड़िता का उत्पीड़न यहीं नहीं रुका. उसके साथ फिर गैंगरेप किया गया. जब इसकी शिकायत पुलिस से की गई तो छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया. अब पीड़िता ने एसपी से न्याय की गुहार लगाई है.

मामला थाना मोहम्दाबाद क्षेत्र के एक गांव का है जहां की रहने वाली 17 साल की नाबालिग के माता पिता की मौत के बाद गांव के लोग उससे छेड़खानी करने लगे. उसकी दो छोटी बहनें भी हैं. वह अपनी दादी के साथ रहती है. जब भी वह खेतों में जाती तो गांव के लड़के उसके साथ छेड़खानी करते थे. उसके बाद एक विवाहित युवक कल्लू ने उसके साथ कई बार बलात्कार किया. जिसकी वजह से वह गर्भवती हो गई. लेकिन आरोपी की पत्नी ने उसको मेडिकल स्टोर से दवा मंगाकर खिला दी. जिससे उसका गर्भपात हो गया. फिर भी आरोपी शांत नही हुए. 6 नवंबर को जब वह घर पर अकेली थी तभी अनिरुद्ध प्रताप, बंटी राठौर, बड़े लाला फुल्लन व एक अज्ञात युवक ने उसके साथ बारी-बारी बलात्कार किया. जब पीड़िता ने इसकी शिकायत थाने में की तो हल्का इंचार्ज ने एक आरोपी को पकड़कर छेड़छाड़ में जेल भेज दिया. लेकिन पुलिस ने मुकदमा दर्ज नही किया.

अब खुले घूम रहे अन्य आरोपी उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. पीड़िता ने परेशान होकर एसपी से न्याय की गुहार लगाई है. एसपी ने मुकदमा दर्ज करने के आदेश जारी कर दिए हैं. सामूहिक बलात्कार की घटना को लेकर अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह ने बताया कि यह मामला हमारे संज्ञान में आया है. जांच की जा रही है यदि दोषी पाए जाते हैं तो आरोपियों को जेल भेजा जाएगा. लेकिन पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. आखिर एक हफ्ते बाद भी मुकदमा दर्ज क्यों नहीं किया गया? उसकी और उसकी छोटी बहनों की सुरक्षा को लेकर स्थानीय पुलिस ने क्यों नहीं सोचा?

ये भी पढ़ें:

UP Board Exams 2019: पहली बार जारी हुआ प्रश्नपत्रों का ब्लू प्रिं​ट, ऐसे की तैयारी तो करेंगे टॉप

'शिवसेना, VHP के कार्यक्रम से दहशत में मुसलमान, सुरक्षा नहीं तो छोड़ दूंगा अयोध्या'

हाईकोर्ट ने खारिज की इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने को लेकर दखिल PIL
पढ़िए #MeToo पर क्या बोले टीम इंडिया के स्टार स्पिनर कुलदीप यादव

2019 से पहले हिंदुत्व को लेकर आक्रामक हुई बीजेपी को इन मुद्दों से चुनौती दे रहा विपक्ष
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...