Assembly Banner 2021

फर्रुखाबाद: कोल्ड स्टोरेज में सड़ रहा लाखों टन आलू

फर्रुखाबाद में मंदी और घाटे के कारण लाखों टन आलू बर्बाद हो रहा है. लाखों टन आलू सड़क किनारे फेंका जा रहा है, और इसे अब जानवर खा रहे हैं. फर्रुखाबाद के 70 कोल्ड स्टोरेज में 4 लाख मीट्रिक टन आलू पड़ा हुआ है. जिसे किसान वापस लेकर ही नहीं जा रहे हैं. वजह है दाम कम मिलने से होने वाला घाटा. योगी सरकार की पहल पर हुई आलू की सरकारी खरीद भी किसानों को इस घाटे से नहीं उबार सकी.

  • Share this:
फर्रुखाबाद में मंदी और घाटे के कारण लाखों टन आलू बर्बाद हो रहा है. लाखों टन आलू सड़क किनारे फेंका जा रहा है, और इसे अब जानवर खा रहे हैं. फर्रुखाबाद के 70 कोल्ड स्टोरेज में 4 लाख मीट्रिक टन आलू पड़ा हुआ है. जिसे किसान वापस लेकर ही नहीं जा रहे हैं. वजह है दाम कम मिलने से होने वाला घाटा. योगी सरकार की पहल पर हुई आलू की सरकारी खरीद भी किसानों को इस घाटे से नहीं उबार सकी.

किसानों के पास नई फसल के लिए आलू के बीज खरीदने को पैसे नहीं हैं. कोल्ड स्टोरेज मालिक अपनी मनमानी चलाकर कोल्ड स्टोरेज खाली कराने में लगे हैं.जिसके लिए वे कोल्ड स्टोरेज से निकालकर आलू को सड़क किनारे फेंक रहे हैं.

फसल और किसान की मेहनत की बर्बादी की यह न छिपाए जाने वाली हकीकत है. जिले में 34 हजार हेक्टेयर में आलू की फसल बोई गयी थी. सरकारी आंकड़ों पर जाएँ तो इस बार 12 लाख मीट्रिक टन आलू का उत्पादन हुआ था. जिले के 70 कोल्ड स्टोरेजों में 06 मीट्रिक टन आलू स्टोर किया गया था. जिला आलू विकास अधिकारी नेपाल राम की माने तो लगभग 40 प्रतिशत आलू किसान शीतगृहों से निकाल चुका है और अभी शीतगृहों में 4 लाख मीट्रिक टन आलू भरा पड़ा है. मंडियों में मांग न होने से आलू के भाव बहुत ही कम हैं.



सूर्या बाजपेई, फर्रुखाबाद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज