शिवपाल की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने 6 दिसंबर को मनाया काला दिवस

पार्टी की तरफ से प्रदेश में बिगड़ी कानून-व्यवस्था को सही न कर पाने वाली भाजपा सरकार को भी बर्खास्त करने की मांग की गई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 6, 2018, 10:33 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: December 6, 2018, 10:33 PM IST
फर्रुखाबाद में शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के पदाधिकारियों ने 6 दिसम्बर को काला दिवस के रूप में मनाया है. इसके अतिरिक्त डीएम कार्यालय के बाहर भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गई. पार्टी नेता विश्वास गुप्ता ने राज्यपाल से मांग की कि जिन लोगों ने बाबरी मस्ज़िद को गिरवाया था उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए.

बता दें कि पार्टी की तरफ से प्रदेश में बिगड़ी कानून-व्यवस्था को सही न कर पाने वाली भाजपा सरकार को भी बर्खास्त करने की मांग की गई है. सरकार से परेशान जनता को न्याय मिलना ही चाहिए. बुलन्दशहर घटना की तुलना पार्टी ने जंगल राज से की है. साथ ही पार्टी ने वर्तमान सरकार पर संविधान और सुप्रीम कोर्ट को धोखा देने का भी आरोप लगाया है.

पार्टी का आरोप है कि भाजपा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण करने के लिए देश और संविधान की धज्जियां उड़ा रही है, जिसके लिए प्रदेश की कानून-व्यवस्था बिगाड़ने की साजिश रच रही है इसलिए सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाया जाए. उसके बाद सभी नेताओं ने मिलकर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा.

गौरतलब है कि इससे पहले पार्टी के संस्थापक शिवपाल यादव ने विहिप की धर्मसभा पर भी सवाल खड़े किए थे. इसके अतिरिक्त उन्होंने इसके विरोध में राजभवन तक पैदल मार्च किया और राज्यपाल राम नाईक को ज्ञापन सौंपा था. ज्ञापन देने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने कहा था कि राम मंदिर मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतज़ार करना चाहिए.

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि विवादित जगह पर ही मंदिर की जिद क्यों है, जबकि नीचे से लेकर ऊपर तक भ्रष्टाचार फैला है. शिवपाल ने उस समय मांग की थी कि यदि अयोध्या में सांप्रदायिक सौहार्द सरकार नहीं बनाए रख पा रही है तो प्रदेश सरकार को बर्खास्त करें.  (रिपोर्ट-सूर्या बाजपेई)

ये भी पढ़ें:

UPTET-2018 में सवालों के उत्तर में गड़बड़ी का मामला पहुंचा हाईकोर्ट, सचिव तलब
Loading...

केंद्रीय मंत्री उमा भारती के खिलाफ समन, पूर्व बसपा विधायक की निगरानी खारिज

यूपी बोर्ड 2019 के टाइम टेबल में बड़ा बदलाव, लाखों छात्रों को मिली ये राहत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर