बहनों की पहली पसंद बनीं डिजाइनर राखी, अब ओल्ड फैशन हुई भारी-भरकम राखियां

इस बार बाजार में पारंपरिक राखियों की जगह हल्की और मेटल निर्मित राखियों ने ले ली है. इनमें रेशम की धागे में जरी, नग, रुद्राक्ष, मोती, गणेश आकृति और स्वास्तिक लगी राखियां प्रमुख हैं. बाजार में 20 रुपए से लेकर 300 रुपए तक राखियां बिक्री के लिए उपलब्ध हैं

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 25, 2018, 7:04 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 25, 2018, 7:04 PM IST
रक्षाबंधन पर्व की पूर्व संध्या यानी शनिवार को फर्रुखाबाद जिले के बाजारों में रंग-बिरंगी राखियों की खूब रौनक देखी गई, जहां रंग-बिरंगे धागों में सजीं मोती, चंदन व रुद्राक्ष की राखियां की दुकानों पर लोगों की खूब भीड़ देखी गई. हालांकि इस बार बाजार में पारंपरिक राखियां नदारद दिखीं. बताया जाता है नेहरू रोड, घुमना, रेलवे रोड, स्टेट बैंक गली, टाउनहाल रोड स्थित दुकानों पर लोगों का बड़ा हुजूम दिखा.

यह भी पढ़ें-मां-बाप के झगड़े ने किया अलग तो SC ने रक्षाबंधन पर भाई-बहन को मिलाया

रिपोर्ट के मुताबिक इस बार बाजार में पारंपरिक राखियों की जगह हल्की और मेटल निर्मित राखियों ने ले ली है. इनमें रेशम की धागे में जरी, नग, रुद्राक्ष, मोती, गणेश आकृति और स्वास्तिक लगी राखियां प्रमुख हैं. बाजार में 20 रुपए से लेकर 300 रुपए तक राखियां बिक्री के लिए उपलब्ध हैं. इसके अलावा बाजार में छोटे बच्चों के लिए कार्टून, घड़ी वाली राखियां भी मौजूद है, जिन्हें बच्चे खूब पसंद कर रहे हैं.

यह भी पढें-रक्षाबंधन पर CM योगी ने दिया बहनों को तोहफा, फ्री में करेंगी बसों में यात्रा

गौरतलब है फतेहगढ़ में चूड़ी वाली गली और मुख्य मार्ग पर स्थित राखी बाजार अक्सर चहकता रहता है, जहां चाइना मेड राखियों के साथ साथ सूती धागे से निर्मित राखियां भी उपलब्ध होती हैं, लेकिन इस बार महिलाएं चाइना निर्मित राखियों को हाथ तक नहीं लगा रही हैं. दुकानदारों ने भी बताया कि चाइना मेड राखियों की खरीदारी कम हो गई है.

(रिपोर्ट-सुर्या, फर्रुखाबाद)

PHOTOS: जानिए 'तलवार' उठाने पर क्यों मजबूर हुईं भोजपुरी हीरोइन ख्याति सिंह

बिना मेकअप ऐसी दिखती हैं भोजपुरी सिनेमा की ये टॉप-5 अभिनेत्रियां

 

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर