यूपी बोर्ड की ‘जिला टॉपर’ ने 'सीबीएसई' से भी दी है परीक्षा, खड़े हुए गंभीर सवाल

फर्रुखाबाद शहर में ‘आर्मी पब्लिक स्कूल (कैंट)’ से यूपी बोर्ड के परीक्षा केंद्र बहोरिकपुर के बीच की दूरी 40 किलोमीटर है. दोनों केंद्रों की दूरी सिर्फ आधे घंटे में कैसे नापी गई इसका जवाब किसी के पास नहीं है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 4, 2018, 1:16 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 4, 2018, 1:16 PM IST
हाल ही यूपी बोर्ड ने 10वीं व 12वीं के रिजल्ट घोषित किए. उत्तर प्रदेश में इस बार नकल रोकने के लिए हरसंभव कोशिश की गई थी लेकिन एक बार फिर परीक्षा में शिक्षा माफियाओं की भूमिका निकलकर सामने आ रही है. फर्रुखाबाद से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है. यूपी बोर्ड से इंटरमीडिएट की परीक्षा में जिले में टॉप करने वाली छात्रा ने सीबीएसई बोर्ड से भी परीक्षा दी है. छात्रा को यूपी बोर्ड की परीक्षा में 89.8 फीसद अंक मिले हैं, जबकि सीबीएसई के रिजल्ट का इंतजार है. एक ही वर्ष में छात्रा का दो बोर्ड की परीक्षा देना और दोनों स्कूलों में लगातार उपस्थिति आश्चर्य का विषय बन गया है.

बता दे कि बहोरिकपुर में ‘श्रीगजेंद्र सिंह मीरा देवी बालिका इंटर कालेज’ के प्रबंधक की बेटी उन्हीं के कॉलेज से यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट की परीक्षार्थी थी. छात्रा ने परीक्षा में 449 अंक पाए और पूरे जिले में नाम रोशन कर दिया. परिवार से लेकर अध्यापकों ने भी वाहवाही लूटी. लेकिन अब पता चला कि वह शहर के ही एक कॉन्वेंट स्कूल की भी कई वर्षो से छात्र है.

छात्रा ने दो केंद्रों पर परीक्षा कैसे दी इसे लेकर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. 7 मार्च को सीबीएसई बोर्ड की फिजिक्स की परीक्षा थी जो कि सुबह 10.30 बजे शुरू हुई. तीन घंटे की परीक्षा दोपहर 1.30 बजे खत्म हुई. इसी दिन यूपी बोर्ड की जीव विज्ञान की परीक्षा दोपहर 2 बजे से थी. फर्रुखाबाद शहर में ‘आर्मी पब्लिक स्कूल (कैंट)’ से यूपी बोर्ड के परीक्षा केंद्र बहोरिकपुर के बीच की दूरी 40 किलोमीटर है. दोनों केंद्रों की दूरी सिर्फ आधे घंटे में कैसे नापी गई इसका जवाब किसी के पास नहीं है. जब छात्रा के पिता से यह सवाल पूछा गया तो उन्हें कोई जवाब नहीं सूझा.

वहीं उप-जिला विद्यालय निरीक्षक वित्त लेखाधिकारी राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि जिले में टॉप करने वाली लड़की का दो जगह परीक्षा देने का मामला संज्ञान में आया है. कोई भी छात्र या छात्रा दो बोर्ड से परीक्षा नही दे सकता है. इसकी जांच कराकर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें

जिन्ना की फोटो पर AMU में तनाव जारी, छात्रों की चेतावनी- करेंगे देशव्यापी आंदोलन
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर