गठबंधन में रारः फर्रुखाबाद से सलमान खुर्शीद को घोषित किया कांग्रेस का उम्मीदवार

फर्रुखाबाद सीट पर सपा की दावेदारी को सिरे से ख़ारिज करते हुए श्रीमती खुर्शीद ने कहा कि वर्ष 1952 से अब तक हुए 18 लोकसभा चुनावों में कांग्रेस ने 9 बार फर्रुखाबाद सीट पर जीत दर्ज की है जबकि समाजवादी पार्टी केवल दो बार चुनाव जीती है

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 7:37 PM IST
गठबंधन में रारः फर्रुखाबाद से सलमान खुर्शीद को घोषित किया कांग्रेस का उम्मीदवार
(फाइल फोटो- सलमान खुर्शीद)
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 7:37 PM IST
2019 लोकसभा चुनाव को लेकर विपक्षी दलों के गठबंधन पर सभी की नजर है, लेकिन फर्रुखाबाद से संभावित और भावी चुनावी गठबंधन को खुली चुनौती मिली है. खबर है पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद की पत्नी लुईस खुर्शीद ने पति सलमान खुर्शीद को फर्रुखाबाद से कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित कर दिया है. यही नहीं, उन्होंने फर्रुखाबाद सीट पर सपा के दावे को भी सिरे से खारिज कर दिया है.

यह भी पढ़ें-राहुल बोले- सलमान खुर्शीद की सोच भले ही मुझसे अलग, फिर भी उनकी रक्षा करूंगा

बकौल लुईस खुर्शीद, यूपी में गठबंधन हो, लेकिन फर्रुखाबाद सीट को  छोड़कर हो, क्योंकि फर्रुखाबाद सीट से सिर्फ उनके पति सलमान खुर्शीद ही चुनाव लड़ेंगे. पूर्व विधायक श्रीमती लुईस के उक्त बयान से निः संदेह यूपी में महागठबंधन की कवायद पर पानी फिरता दिख रहा है, क्योंकि माना जा रहा था कि मोदी और भाजपा की सारी चुनावी रणनीति पर विपक्षी महागठबंधन भारी पड़ सकता है.

यह भी पढ़ें-कांग्रेस के दामन पर लगे हैं मुसलमानों के खून के दाग: सलमान खुर्शीद

गौरतलब है भाजपा को गठबंधन में टिकटों के बंटवारे पर साझा दलों में दरार और रार का इन्तजार है और एआईसीसी सदस्य लुईस खुर्शीद ने फर्रुखाबाद से पति सलमान खुर्शीद को कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित करके भावी गठबंधन की पोल खोलकर रख दी  है.

फर्रुखाबाद सीट पर सपा की दावेदारी को सिरे से ख़ारिज करते हुए श्रीमती खुर्शीद ने कहा कि वर्ष 1952 से अब तक हुए 18 लोकसभा चुनावों में कांग्रेस ने 9 बार फर्रुखाबाद सीट पर जीत दर्ज की है जबकि समाजवादी पार्टी केवल दो बार चुनाव जीती है. उन्होंने कहा कि जहां तक पिछले लोकसभा चुनाव में सपा के दूसरे नंबर पर आने का तर्क है, एक साल बाद ही विधानसभा चुनाव में सपा उम्मीदवार रहे रामेश्वर यादव विधानसभा का चुनाव भी हार गए थे.

यह भी पढ़ें-सलमान खुर्शीद ने की भगवान राम की आरती, देवबंद ने किया इस्लाम से खारिज

उधर, मामले पर सपा का कहना है कि यूपी में गठबंधन को लेकर सम्बंधित दलों के बीच वार्तालाप राष्ट्रीय स्तर पर चल रहा है, जो राष्ट्रीय स्तर पर तय होगा उसका हमें अक्षरशः पालन करना है. अगर कोई अनिवार्य रूप से चुनाव लड़ने की बात करेगा तो गठबंधन में यह बातें नहीं होतीं. पिछले लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी दूसरे नंबर पर रही है और फर्रुखाबाद सपा का गढ़ रहा है इसलिए इस सीट पर पर हमारा मजबूत दावा है.

(रिपोर्ट-सुर्या, फर्रुखाबाद)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर