फतेहपुर: अस्पताल के सफाईकर्मी ने की आत्महत्या, परिवार का आरोप- डॉक्टरों की प्रताड़ना से था परेशान

फतेहपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक स्वास्थ्य कर्मी के सुसाइड से हड़कंप मच गया
फतेहपुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक स्वास्थ्य कर्मी के सुसाइड से हड़कंप मच गया

फतेहपुर (Fatehjpur): एसडीएम आशीष सिंह के मुताबिक, नरेश कुमार ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है. परिजनों का आरोप है कि सीएचसी प्रभारी और कुछ डॉक्टर्स उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे, जिससे तंग आकर उन्होंने सुसाइड किया है.

  • Share this:
धारा सिंह

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर (Fatehpur) जिले में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बिंदकी में तैनात सफाई कर्मचारी नरेश कुमार ने सोमवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. जिसके बाद नाराज परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टर्स पर मृतक को मानसिक रूप से प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाकर घंटो हंगामा किया. घटना की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची. इस दौरान परिजनों ने पुलिस को शव उठाने से रोक दिया और अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़ गए.

मामला बढ़ता देख बिंदकी तहसील के एसडीएम आशीष सिंह मौके पर पहुंचे और मृतक के परिवारवालों से बात कर उन्हें निष्पक्ष जांच के बाद कार्रवाई का भरोसा जताया. जिसके बाद नाराज परिजन शांत हुए तो पुलिस ने रात करीब 8 बजे शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.



जानकारी के मुताबिक 45 वर्षीय नरेश सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बिंदकी में सफाई कर्मचारी के पद पर नियुक्त था. नरेश की पत्नी अनुराधा ने बताया कि रोज की तरह जब वह सोमवार की सुबह अस्पताल में साफ-सफाई करने पहुंचा तो आरोप है कि इस दौरान सीएचसी प्रभारी और डॉक्टर्स ने उसे भला बुरा कहा. इतना ही नहीं उसे हाजिरी रजिस्टर में हस्ताक्षर तक नहीं करने दिया, जिसके बाद नरेश अस्पताल की साफ-सफाई कर वापस अपने आवास में आ गया और फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली.
लोगों का गुस्सा देख सीएचसी प्रभारी और डॉक्टर फरार

मृतक की पत्नी ने जब शव फांसी पर झूलता देखा तो अस्पताल परिसर में हड़कंप मच गया. घटना के तुरंत बाद लोगों का गुस्सा देखते हुए सीएचसी प्रभारी और कुछ डॉक्टर्स अपना-अपना चेम्बर छोड़ अस्पताल से फरार हो गए. मृतक की पत्नी अनुराधा का आरोप है कि अस्पताल प्रभारी और कुछ डॉक्टर्स उसके पति को मानसिक रूप से बहुत प्रताड़ित करते थे. इतना ही नही घर मे यदि कोई बड़ा कार्यक्रम भी रहता था तो उन्हें कभी अवकाश भी नही देते थे. डॉक्टरों की प्रताड़ना से तंग आकर उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

सफाई कर्मचारी की मौत के बाद मचा हंगामा

सफाई कर्मचारी के मौत के बाद अस्पताल परिसर में हंगामा शुरू हो गया. घटना की सूचना के बाद स्थानीय पुलिस भी मौके पर पहुंची पर परिजनों ने घंटो शव को नही उठाने दिया. जिसके बाद बिंदकी तहसील के एसडीएम आशीष सिंह मौके पर पहुंचे और परिजनों की पूरी बात सुनी. एसडीएम के आश्वासन के बाद परिजन शांत हुए तो पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

निष्पक्ष जांच के निर्देश दिए गए हैं: एसडीएम

एसडीएम आशीष सिंह के मुताबिक, नरेश कुमार ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है. परिजनों का आरोप है सीएचसी प्रभारी और कुछ डॉक्टर्स उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे, जिससे तंग आकर उन्होंने सुसाइड किया है. परिवारवालों की शिकायत पर निष्पक्ष जांच के निर्देश दिए गए हैं. जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके विरुद्ध आवश्यक वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज