• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • फतेहपुर: मूसलाधार बारिश से ढहे कई मकान, 5 हादसों में गई 4 लोगों की जान, 5 गंभीर

फतेहपुर: मूसलाधार बारिश से ढहे कई मकान, 5 हादसों में गई 4 लोगों की जान, 5 गंभीर

फतेहपुर में धराशायी हुई मकानों का मुआयना करने पहुंचे एसडीएम.

फतेहपुर में धराशायी हुई मकानों का मुआयना करने पहुंचे एसडीएम.

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में बारिश की वजह से कई मकान धराशायी हो गए. इन हादसों में 4 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 5 लोग गंभीर रूप से बीमार हैं. एसडीएम ने मौका मुआयना किया है और बारिश से हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में मूसलाधार बारिश का कहर देखने को मिला है. पिछले 12 घंटों से हो रही तेज बारिश के चलते जिले के तीन अलग-अलग जगहों पर घर और दीवार ढह गए हैं. इन हादसों में 4 लोगों की मलबे में दबकर मौत हो गई है, जिनमें 2 महिलाएं और 5 साल की एक बच्ची भी शामिल है. इन हादसों में 5 लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं. सभी घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सूचना के बाद पुलिस ने सभी शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. एसडीएम ने भी राजस्वकर्मियों के साथ घटनास्थल का मुआयना किया है. नुकसान का आकलन कर एसडीएम ने मृतकों के परिजनों को शासन की तरफ से आर्थिक मदद दिलाए जाने का आश्वासन दिया है.

पुलिस के मुताबिक, घर गिरने का पहला हादसा खागा तहसील के असदुल्ला नगर सिठियानी गांव में हुआ है. यहां भोर में तेज बरसात के दौरान कच्ची कोठरी गिर गई. मलबे के नीचे दबकर दादी और उनकी 5 वर्षीय नातिन की मौत हो गई. ग्रामीणों ने मलबा हटाकर दोनों के शव बाहर निकाले. सूचना के बाद एसडीएम आशीष सिंह के साथ कोतवाली पुलिस भी मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. बता दें कि सिठियानी गांव के रहने थे स्व. रामपाल कोरी. उनकी पत्नी चंद्रकली (55) बीती रात कच्ची कोठरी में अपनी नातिन शानवी (5) के साथ सो रही थीं. 3 बजे भोर में तेज बरसात के दौरान कच्ची कोठरी भरभरा कर ढह गई. मलबे के नीचे दोनों लोग दब गए. ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद मलबा हटाकर दोनों को बाहर निकाला. तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी.

इसे भी पढ़ें : Agra: इटावा के BJP सांसद के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी, जानें क्या है मामला

दूसरा हादसा जिले के बिंदकी तहसील के गौसपुर गांव में हुआ है. यहां टीन शेड के नीचे निराशा देवी (50) सो रही थीं. तभी भोर 4:30 बजे तेज बारिश के चलते घर धराशायी हो गया. मलबे में दबने से महिला निराशा देवी की मौके पर ही मौत हो गई. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. तीसरा हादसा बिंदकी तहसील के ही मेवना गांव का है. यहां कमलेश कुमार (45) घर के अंदर सो रहे थे. तभी तेज बारिश के कारण मकान की दीवार जमींदोज हो गई. कमलेश कुमार मलबे में दब गए. ग्रामीणों ने रेस्क्यू कर उन्हें बाहर निकाला, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी.

इसे भी पढ़ें : महंत नरेंद्र गिरि ने बनवाई थी तीन वसीयत, हर बार बदला था उत्तराधिकारी

इसी तरह सदर तहसील के करनपुर गांव में भी घर गिरने से हादसा हुआ है. नीरज (20), उदय (17) और भांजा प्रदीप (10) घर में सो रहे थे. तभी अचानक तेज बरसात के चलते घर गिर गया. मलबे के नीचे तीनों दब गए. ग्रामीणों ने कड़ी मसक्कत के बाद सभी को मलबे से बाहर निकाला और इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है.

इसे भी पढ़ें : Aligarh: मस्जिद में नाबालिग का यौन शोषण, परिजनों ने मौलवी के खिलाफ लिखाई FIR

पांचवा हादसा बिंदकी तहसील के ही दमीना खेड़ा गांव का है, जहां घर के बाहर छप्पर के नीचे पति-पत्नी व उनके तीन बच्चे सो रहे थे. तभी तेज हवा के साथ हो रही मूसलाधार बारिश के कारण छप्पर भरभरा गिर गया. जिससे मलबे में पूरा परिवार दब गया. बच्चों की चीख पुकार सुनकर ग्रामीणों ने रेस्क्यू कर सभी को बाहर निकाला. तीनों बच्चों की हालत ठीक है, लेकिन पिता ललित कुमार (30) और माता केतकी (28) को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज