फतेहपुर Lockdown: मुफलिसी के बावजूद ये शख्स अपने दम पर रोज साइकिल से गरीबों तक पहुंचा रहा भोजन
Fatehpur News in Hindi

फतेहपुर Lockdown: मुफलिसी के बावजूद ये शख्स अपने दम पर रोज साइकिल से गरीबों तक पहुंचा रहा भोजन
फतेहपुर के राम नारायन खुद बेरोजगार हैं लेकिन रोज कई परिवारों को लॉक डाउन के बीच भोजन उपलब्ध करा रहे हैं.

फतेहपुर (Fatehpur) शहर के कृष्ण बिहारी नगर के रहने वाले राम नारायन पूरे शहर में अपनी साइकिल से गरीब लोगों को खाना पहुचाने में लगे हुए हैं.

  • Share this:
फतेहपुर. अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कठिनाइयां भी उसके आगे बौनी साबित हो जाती हैं. कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते देश भर में हुए लॉक डाउन (Lockdown) के दौरान फतेहपुर (Fatehpur) जिले में गरीब और भिखारियों की भूख मिटाने के लिए एक व्यक्ति गरीब बस्तियों में साइकिल से घूम-घूम कर लोगों की भूख मिटाने में लगा हुआ है. फतेहपुर शहर के कृष्ण बिहारी नगर के रहने वाले राम नारायन पूरे शहर में अपनी साइकिल से गरीब लोगों को खाना पहुचाने में लगे हुए हैं.

राम नारायन खुद बेरोजगार हैं और लॉक डाउन से पहले मलिन बस्तियों में बच्चों को पढ़ाने का काम किया करते हैं. कई सालों से चल रहे अपने इस काम के बदले रामनारायन बच्चो को पढ़ाने के बदले एक रुपये की भी फीस नहीं लेते हैं.

जिन गरीब बच्चों को पढ़ाते थे, उन्हें भूखा देख उठाई साइकिल



कोरोना वायरस के चलते हुए लॉक डाउन के बाद राम नारायन ने बच्चों के घर जाकर उन्हें पढ़ाने का काम बन्द कर दिया. उन्हें जब इस बात की जानकारी हुई कि जिन बच्चों को वह पढ़ाने जाया करते थे, उनमें से कई बच्चों के घर मे खाने का राशन तक नहीं बचा है तो राम नारायन ने खुद खाना खिलाने की ठान ली. इस दौरान रास्ते मे अगर कोई भूखा व्यक्ति मिल गया तो राम नारायन उसकी भी मदद करने से पीछे नहीं रहते हैं.



अपने दम पर और थोड़ा सहयोग लेकर पहुंचा रहे भोजन

आर्थिक रूप से कमजोर राम नारायन के पास इतने संसाधन और पैसे भी नही हैं कि वह लोगों को रोज खाना बांट सकते है लेकिन इसके बावजूद भी राम नारायन लोगों को के घरों में जाकर रोज खाना पहुंचा रहे हैं. रामनारायन का कहना है कि उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि वह गरीबों के घर-घर जाकर भोजन करा सकते थे लेकिन जब उन्हें पता चला कि मलिन बस्तियों में रहने वाले कई घरों में खाना नहीं बन रहा है तो उनके पास जो भी था और अपने नजदीकियों से सहयोग लेकर जरूरतमन्दों के घरों में पहुंचकर लोगों खाना खिला रहे हैं.

उनका कहना है कि जब तक लॉक डाउन जारी रहेगा, तब तक वह गरीब बस्तियों में जाकर लोगों को खाना खिलाने का काम जारी रखेंगे. इसके लिए उन्हें अगर किसी से सहयोग लेने की जरूरत पड़ती है तो वह अपने नजदीकियों से सहयोग लेकर इस काम को अंजाम देते रहेंगे.

ये भी पढ़ें:

UP में कोरोना पॉजिटिव की संख्या हुई 219, नोएडा में 55, आगरा में 45 केस

मऊ लॉक डाउन: घर में घुसे प्रेमी को प्रेमिका के घरवालों ने पकड़ा, हत्या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading