Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    फतेहपुर: ट्रिपल मर्डर केस में 24 साल बाद आया फैसला, 15 को उम्रकैद, BJP नेता बरी

    इस घटना में एक पक्ष से तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी. (सांकेतिक फोटो)
    इस घटना में एक पक्ष से तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी. (सांकेतिक फोटो)

    घटना 6 अगस्त 1996 की है. इस रोज दिन के करीब साढ़े 11 बजे खागा बस स्टॉप (Khaga Bus Stop) पर दो पक्षों में जमकर गोली चली थी. इसमें तीन लोगों की हत्‍या की गई थी.

    • Share this:
    धारा सिंह

    फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में बहुचर्चित ट्रिपल मर्डर केस (Triple Murder Case) में घटना के 24 साल बाद फैसला आया है. अपर एवं सत्र न्यायालय (कोर्ट नंबर-3) ने फैसला सुनाते हुए 15 आरोपियों को आजीवन कारावास की सज़ा और 15-15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है. क्रॉस केस में जानलेवा हमले के आरोपियों में बीजेपी नेता उदय प्रताप सिंह (BJP leader Uday Pratap Singh) समेत 6 लोगो को कोर्ट ने बरी कर दिया है. ट्रिपल मर्डर केस के फैसले को लेकर सोमवार को समूचे दिन अदालत परिसर में गहमा-गहमी का माहौल बना रहा. दोपहर बाद आए कोर्ट के फैसले से वादी पक्ष में खुशी का माहौल छा गया, तो वहीं प्रतिवादी पक्ष के खेमे में मायूसी साफ झलक रही थी.

    दरअसल, घटना 6 अगस्त 1996 की है. इस रोज दिन के करीब साढ़े 11 बजे खागा बस स्टॉप पर दो पक्षों में जमकर गोली चली थी. इस गोली कांड में तीन लोगों की जान चली गयी थी. गोलीकांड के पीछे की वजह वर्चस्व के साथ-साथ प्राइवेट बस स्टाप पर डग्गामार वाहनों से 20 रुपये की अवैध वसूली को लेकर थी. इसके बाद दोनों तरफ से जमकर गोलीबारी हुई थी. इस घटना में एक पक्ष से तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी. कोर्ट में इसको लेकर 24 साल तक मुकदमा चला.



    एक अन्‍य मामले में आया फैसला
    बता दें कि इन दिनों उत्तर प्रदेश में दोषियों को कोर्ट से लगातार सजा मिल रही है. गाजियाबाद की एक फास्ट ट्रैक अदालत ने एक शख्स को बलात्कार के जुर्म में सोमवार को 10 साल की कैद की सजा सुनाई थी. जिला के सरकारी अधिवक्ता आदर्श त्यागी ने बताया दोषी जिले के साहिबाबाद इलाके के शालीमार गार्डन का रहने वाला है.  वह भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत दोषी पाया गया है. उसपर 20,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है. वह भारतीय दंड संहिता की धारा 323 और 506 के तहत भी दोषी पाया गया है. अदालत ने उसे धारा 323 के तहत पांच बरस की और 506 के तहत दो साल की सजा सुनाई है. साथ में जुर्माना भी लगाया है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज