फतेहपुर में परिजनों ने जिस लड़की का दाह संस्कार किया, वह मथुरा में जीवित मिली - जानें क्या है पूरा मामला

परिजनों ने अज्ञात लड़की की लाश को अपनी बेटी की लाश बता कर दाह संस्कार कर दिया था.

एसपी सतपाल अंतिल ने बताया कि मृतक युवती के बाल, नाखून और ब्लड डीएनए जांच के लिए ले रखे थे और अब उन्हें लखनऊ प्रयोगशाला भेजा जा रहा है. उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने लाश की गलत पहचान की है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:
    धारा सिंह

    फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. 15 जून को ललौली थाना इलाके के नाले से एक लाश मिली थी. गंगानगर के रहने वाले शिव प्रसाद रैदास और उनके परिजनों ने इस लाश की पहचान मोनिका के रूप में की थी. परिजनों ने इस लाश का दाह संस्कार भी कर दिया था. हत्या के इस मामले में परिजनों का आरोप था कि हत्या से पहले मोनिका के साथ बलात्कार भी किया गया है. अब इस केस की छानबीन के दौरान पुलिस को मथुरा जिले में मोनिका सकुशल मिली है. अब पुलिस के सामने यह सवाल खड़ा होता है कि जिस युवती की लाश 15 जून को ललौली थाना इलाके में मिली थी, वह किसकी थी. एसपी सतपाल अंतिल ने बताया कि पुलिस ने मृतक युवती के बाल, नाखून और ब्लड डीएनए जांच के लिए ले रखे थे और अब उन्हें लखनऊ प्रयोगशाला भेजा जा रहा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने इस लाश की गलत पहचान की है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

    15 जून को मिली थी अज्ञात युवती की लाश

    आपको बता दें कि 15 जून की दोपहर ललौली थाना क्षेत्र के कोर्रा कनक गांव के पास सूखे नाले से 20 वर्षीय अज्ञात युवती की लाश मिली थी. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया था. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या की पुष्टि हुई थी. जिसके बाद पुलिस जांच-पड़ताल में जुट गई थी.

    नाले में जिसकी लाश मिली वह किसकी थी

    उधर, 17 जून को जहानाबाद कस्बे के गंगानगर के रहने वाले शिव प्रसाद रैदास ने अज्ञात युवती की लाश की पहचान अपनी बेटी मोनिका के रूप में की थी और भाई बीरेंद्र ने गैंगरेप के बाद बहन की हत्या का आरोप लगाया था. पिता, भाई और बहनोई समेत 4 पड़ोसियों ने शिनाख्त से जुड़ा हलफनामा भी पुलिस को दिया था. इसके बाद पुलिस ने मोनिका की गुमशुदगी की रिपोर्ट को हत्या और अन्य धाराओं में तब्दील कर दिया था. परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया था. पूरे मामले में आए इस नाटकीय मोड़ के बाद अब सवाल है कि आखिर जिस युवती की लाश नाले में मिली है, वह किसकी थी.

    पहले दर्ज हुई थी गुमशुदगी की रिपोर्ट

    दरअसल, जहानाबाद कस्बे के गंगानगर के रहनेवाले शिव प्रसाद रैदास की 19 वर्षीय बेटी मोनिका 2 जून को लापता हो गई थी. गुमशुदगी की रिपोर्ट जहानाबाद पुलिस ने दर्ज की थी. अज्ञात युवती की लाश की पहचान जब परिवार वालों ने मोनिका के रूप में की तो पुलिस ने गुमशुदगी को हत्या के मामले में बदलते हुए जांच पड़ताल शुरू की.

    मोनिका तक ऐसे पहुंची पुलिस टीम

    उधर एसओजी व सर्विलांस पुलिस की संयुक्त टीम ने मृतका के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल खंगालकर शनिवार को मथुरा जिले के लिए रवाना हुई. सर्विलांस की मदद से पुलिस लोकेशन ट्रेस कर मौके पर पहुंची तो मोनिका को जिंदा देखकर पुलिस के होश उड़ गए. पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि दो दिन पहले ही मोनिका ने प्रेमी के साथ शादी रचा ली थी. पुलिस मथुरा से युवती को लेकर फतेहपुर के लिए निकल चुकी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.