fatehpur news

फतेहपुर

अपना जिला चुनें

अवैध धर्मांतरण: कौशांबी में मिला उमर कनेक्शन, एक मदरसे में हर महीने 12 लाख की विदेशी फंडिंग!

अवैध धर्मांतरण: कौशांबी में मिला उमर कनेक्शन, एक मदरसे में हर महीने 12 लाख की विदेशी फंडिंग!

अवैध धर्मांतरण मामले में गिरफ्तार उमर गौतम के कौशाम्बी में भी लिंक मिले हैं.

Kaushambi News: एलआईयू रिपोर्ट के बाद कौशांबी पुलिस अलर्ट हो गई है. शुरुआती जांच में मदरसे में 12 लाख रुपये हर महीने विदेशी फंडिंग की बात सामने आई है. पुलिस और अन्य एजेंसियां अब मदरसे में विदेशी मौलवी और बच्चों के रिकार्ड खंगालने में जुटी हैं.

SHARE THIS:
फतेहपुर/कौशाम्बी. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर (Fatehpur) जिले में अवैध धर्मांतरण (Illegal Religious Conversion) के आरोपी विजय सोनकर की गिरफ्तारी के बाद उमर गौतम का कौशांबी (Kaushambi) कनेक्शन भी सामने आया है. जब इस मामले की रिपोर्ट एलआईयू ने यूपी एटीएस समेत पुलिस के उच्चाधिकारियों को सौंपी तो कौशांबी पुलिस अलर्ट हो गई है. पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक कौशांबी जिले के सैय्यद सरावा गांव में स्थित एक मदरसे में विदेशी मौलवी मुस्लिम बच्चों के तालीम दिया करते हैं. इसके साथ ही देश के कई अन्य प्रांतों से आए कुछ हिन्दू बच्चों को भी बेहद गोपनीय तरीके से इस्लामिक तालीम दिए जाने की बात सामने आई है.

पता चला है कि मदरसे में हिन्दू बच्चों को ऐसा कपड़ा पहनाया जाता था की उन पर कोई शक न कर सके. इसके अलावा इस मदरसे में हर महीने 10 से 12 लाख की विदेशी फंडिंग की बात भी सामने आई है. विभागीय सूत्रों के अनुसार इस मदरसे में अवैध धर्मांतरण के आरोपी उमर गौतम का भी आना-जाना था.

आपको बता दें कि फतेहपुर जिले के खखरेरू थाना क्षेत्र के पुरमई गांव के रहने वाले विजय सोनकर ने करीब डेढ़ महीने पहले दिल्ली के गाजियाबाद इलाके में किसी मौलाना के बहकावे में आकर इस्लाम धर्म कबूल लिया था. जब विजय सोनकर वापस घर आया तो अपने परिवारवालों पर भी जबरन धर्मांतरण का दबाव बना रहा था. इतना ही नही वह अपनी छोटी बहन का निकाह भी एक मुस्लिम युवक से करना चाह रहा था. जब पत्नी पूनम सोनकर ने इस्लाम धर्म कबूलने से मना कर दिया तो उसके साथ मारपीट कर उसे छोड़ने की धमकी दे रहा था. जिसके बाद महिला अपने मायके कौशांबी के अफजलपुरवारी गांव गई और पूरी बात अपने परिवारवालों को बताई.

जानकारी के मुताबिक महिला पूनम सोनकर की तहरीर पर 26 जून को खखरेरू थाना पुलिस ने उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 के तहत सुसंगत धाराओं में आरोपी पति और दो अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर पति विजय सोनकर को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने जब आरोपी विजय सोनकर से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह दिल्ली के गाजियाबाद इलाके में डेढ़ महीने पहले ही इस्लाम धर्म कबूल कर चुका है. अब परिवारवालों पर भी जबरन धर्मांतरण का दबाव बना रहा था. सूत्रों की माने तो जिस मौलाना ने विजय सोनकर का धर्मांतरण कराया है, वह उमर गौतम से जुड़ा हुआ है. जिसकी पृष्टि स्वयं एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने 28 जून को किए गए प्रेसवार्ता में की थी.

अवैध धर्मांतरण मामले में फ़तेहपुर से उमर गौतम का कौशांबी कनेक्शन सामने आने के बाद जब न्यूज़ 18 ने प्रमुखता से खबर दिखाई तो कौशांबी पुलिस भी अलर्ट हो गई. वहीं इस मामले में अब चरवा पुलिस, एलआईयू समेत अन्य जांच एजेंसियां भी मामले की छानबीन शुरू में जुट गई है. बताया जाता है कि लोकल इंटेलिजेंस की शुरुआती जांच में मदरसे में 12 लाख रुपये हर महीने विदेशी फंडिंग की बात सामने आई है. इसके अलावा पुलिस टीम ने मदरसे में तालीम देने वाले विदेशी मौलवी और पढ़ने वाले छात्रों का रिकार्ड खंगालकर मामले की जांच तेज कर दी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP News: बारिश का कहर, फतेहपुर में मकान ढहने से 3 मासूमों सहित 6 लोगों की मौत

UP News: बारिश का कहर, फतेहपुर में मकान ढहने से 3 मासूमों सहित 6 लोगों की मौत

Heav Rains in UP: फतेहपुर जिले में पिछले 48 घंटों से लगातार हो रही बारिश ने अब परेशानियां खड़ी कर दी हैं. जिले में अलग अलग जगहों पर मकान और दीवार ढहने से छह लोगों की मौत हो गई, वहीं हादसों में 6 अन्य लोग घायल हो गए हैं.

SHARE THIS:

फतेहपुर. जिले में पिछले 48 घंटों से लगातार हो रही बारिश अब लोगों पर कहर बन कर टूट रही है. मूसलाधार बारिश के चलते अब जिले की अलग अलग जगहों पर बड़े हादसे हुए हैं, इनमें छह लोगों की मौत हो गई. दर्दनाक बात ये है कि इन हादसों में तीन मासूम बच्चियों की भी मौत हो गई है. वहीं करीब 6 अन्य लोग हादसों में घायल हो गए हैं. कच्चे मकान और दीवारों के ढहने के कारण हुए इन हादसों में घायल लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में उपचार के लिए भर्ती करवाया गया है.
हादसे के बाद अब प्रशासन मृतकों और घायलों के परिवारों की हर संभव मदद करने का आश्वासन दे रहा है. बताया जा रहा है कि जिन मकानों की दीवारें या घर ढहे हैं उनकी हालत काफी खराब बताई जा रही है.

कहां-कहां हुए हादसे
बारिश के चलते पहला हादसा कल्याणपुर के महरहा गांव में हुआ था, यहां पर एक कच्चा मकान ढह जाने के कारण मलबे में दबकर 2 साल की मासूम कोमल की मौके पर ही मौत हो गई. वहीं उसके पिता भिक्की और मां अनिता देवी इस हादसे में गंभीर तौर पर घायल हो गए. वहीं दूसरा हादसा सुल्तानपुरके दरियापुर गांव में हुआ, यहां पर भी एक कच्चा मकान ढह गया. हादसे में 13 साल की गुड़िया और 3 साल की मुस्कान की भी मौके पर ही मौत हो गई. तीसरा हादसा ललौली के जजरहा गांव में हुआ यहां पर एक मकान की दीवार ढहने से राकेश नामक व्यक्ति की मौत हो गई, वहीं जानीपुर गांव में मकान ढहने से 48 साल के किफायत ने दम तोड़ दिया. इधर चांदपुर के गोहरारी गांव में दीवार ढहने से 14 साल के बच्चे की मौत हो गई. वहीं उसके माता-पिता गंभीर रूप से घायल हो गए. हादसे के बाद सभी घायलो को उपचार के लिए जिले के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

Fatehpur News: स्कूल में सो रही 70 साल की वृद्ध महिला के साथ रेप, मुंह खोलने पर दी जान से मारने की धमकी

Fatehpur News: स्कूल में सो रही 70 साल की वृद्ध महिला के साथ रेप, मुंह खोलने पर दी जान से मारने की धमकी

Fatehpur Crime News: वृद्ध महिला का आरोप है कि रविवार की देर रात वह गांव के प्राथमिक विद्यालय में सो रही थी. तभी पास में गांव का ही एक व्यक्ति शराब पी रहा था. शराब पीने के बाद वह उसके पास आकर चारपाई में लेट गया और जोर जबरदस्ती कर अश्लील हरकतें करने लगा.

SHARE THIS:

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) जिले में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला एक बड़ा मामला सामने आया है. गांव के प्राथमिक विद्यालय में सो रही 70 साल की एक वृद्ध महिला के साथ शराब के नशे में धुत शख्स ने दुष्कर्म (Rape) किया. इस घिनौनी वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ने किसी को बताने पर महिला को जान से मारने की धमकी दी. घटना थरियांव थाना इलाके के एक गांव की है. वृद्ध महिला का आरोप है कि रविवार की देर रात वह गांव के प्राथमिक विद्यालय में सो रही थी. तभी पास में गांव का ही एक व्यक्ति शराब पी रहा था. शराब पीने के बाद वह उसके पास आकर चारपाई में लेट गया और जोर जबरदस्ती कर अश्लील हरकतें करने लगा. जब वृद्धा ने विरोध किया तो उसने चारपाई से नीचे उठाकर पटक दिया और हाथ-पैर बांधकर उसके साथ रेप किया.

वृद्ध महिला के साथ इस घिनौनी वारदात के बाद पुलिस ने तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर जांच पड़ताल की और आरोपी व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया. केस दर्ज करने के बाद पुलिस ने पीड़ित वृद्ध महिला का बयान दर्ज किया और मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल भेज दिया. वहीं घटना पर सीओ थरियांव अनिल कुमार ने बताया कि थरियांव थाना इलाके के एक गांव में रविवार की रात करीब 12 बजे 70 साल की एक वृद्ध महिला गांव के स्कूल प्रांगण में सो रही थी. तभी एक व्यक्ति शराब के नशे में महिला के पास पहुंचा और महिला के साथ उसने बलात्कार किया. इस मामले में पीड़ित महिला के तहरीर पर आरोपी के खिलाफ समुचित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

घटना के बाद ग्रामीणों में आक्रोश
उन्होंने बताया कि पीड़िता का बयान दर्ज कर मेडिकल आदि की कार्यवाई कराई जा रही है. आरोपी के खिलाफ लिखापढ़ी की कार्यवाई पूरी होने के बाद न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जाएगा. आपको बता दें कि पति की मौत के बाद पीड़ित वृद्ध महिला गांव के प्राथमिक विद्यालय में रहती है. वह लोगों से मांग कर अपना पेट पालती है. वृद्ध महिला के साथ हुए इस घिनौनी वारदात के बाद गांव के लोगो में भी काफी आक्रोश है.

Fatehpur News: गंभीर बीमारी से जूझ रहा है ये मासूम, इलाज के लिए चाहिए 16 करोड़ का इंजेक्शन

Fatehpur News: गंभीर बीमारी से जूझ रहा है ये मासूम, इलाज के लिए चाहिए 16 करोड़ का इंजेक्शन

Fatehpur News: इस बीमारी में मरीज के शरीर के अंग जैसे हाथ-पैर सही ढंग से काम नहीं कर पाते. मयंक की इस पीड़ा को देख उसके माता-पिता भी बहुत चिंतित है. माता पिता ने बीजेपी के सदर विधायक विक्रम सिंह से मिलकर मदद की गुहार लगाई है.

SHARE THIS:

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) जिले के थरियांव थाना क्षेत्र के रामपुर गांव के रहने वाले ज्ञानेंद्र सिंह का 6 वर्षीय बेटा मयंक पिछले चार महीनों से एक ऐसी गंभीर बीमारी से जूझ रहा है, जिस कारण वह दैनिक कार्य भी नहीं कर पाता है. दिखने में तो मयंक एकदम चुस्त-दुरुस्त है, लेकिन उसे जो बीमारी है उसका नाम मस्कुलर डिस्ट्रॉफी है. इस बीमारी में मरीज के शरीर के अंग जैसे हाथ-पैर सही ढंग से काम नहीं कर पाते. मयंक की इस पीड़ा को देख उसके माता-पिता भी बहुत चिंतित है. माता पिता ने बीजेपी के सदर विधायक विक्रम सिंह से मिलकर मदद की गुहार लगाई है.

डॉक्टरों ने बताया कि मयंक की बीमारी को ठीक करने वाला इंजेक्शन भारत में उपलब्ध नहीं है और इसे विदेश से मंगाना पड़ता है, जिसकी कीमत 16 करोड़ रूपये है. वहीं सदर विधायक विक्रम सिंह ने बताया कि इस बीमारी का इलाज अपने भारत देश में नहीं बल्कि विदेश में है. उन्होंने मासूम के इलाज के लिए लोगों से मदद की अपील करते हुए कहा कि वह पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ को भी मासूम के इलाज में मदद के लिए पत्र लिखेंगे।

लाखों में से किसी एक को होती है ये बीमारी
बता दें कि सदर विधानसभा क्षेत्र के रामपुर थरियांव गांव के रहने वाले ज्ञानेंद्र सिंह व उनकी पत्नी पिंकी सिंह अपने 6 वर्षीय बेटे मयंक को लेकर इधर से उधर भटक रहे हैं. ज्ञानेंद्र सिंह की मानें तो उसका 6 वर्षीय बेटा अचानक लड़खड़ा कर गिरने लगा. यह देखकर वह घबरा गए और उसे प्रयागराज के स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया, जहां मासूम की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने पीजीआई के लिए रेफर कर दिया. पीजीआई के डॉक्टरों ने जब जांच करवाया तो इस गरीब परिवार के होश उड़ गए. क्योंकि एक ऐसी बीमारी उनके बेटे को चपेट में ले लिया है जो अमूमन लाखों में से किसी एक व्यक्ति को होती है.

इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ रुपए
पीजीआई के डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि उनके बेटे को मस्कुलर डिस्ट्रोफी नाम की गंभीर बीमारी हुई है. इससे जैसे-जैसे बेटा बड़ा होगा उसका मस्तिष्क विकास नहीं कर पाएगा और बेटा खड़ा होने में असमर्थ हो जाएगा. परिजनों के मुताबिक पीजीआई के डॉक्टरों ने कहा कि इसका भारत में इलाज भी संभव नहीं है. इस बीमारी का इलाज विदेशों में संभव है, लेकिन उसके लिए जो इंजेक्शन लगाया जाता है उसकी कीमत करीब 16 करोड़ रुपए है. आर्थिक तंगी का शिकार ज्ञानेंद्र सिंह किसी भी कीमत में इतनी बड़ी रकम नहीं दे सकता. ऐसे में वह अपनी तकदीर को कोसता है और कहता है कि अब वह इतनी बड़ी रकम कहां से लाएं और कैसे अपने बेटे का इलाज कराए.

विधायक ने दिया मदद का भरोसा
खतरनाक बीमारी की जानकारी के बाद बेटे के इलाज के लिए उसके माता पिता दर-दर भटकते हुए सदर विधायक विक्रम सिंह के आवास पर पहुंचे और विधायक से सारी बातें बताकर मदद की गुहार लगाई. जिसके बाद विधायक विक्रम सिंह ने मासूम के इलाज के लिए लोगों से मदद की अपील करते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि पीएम नरेंद्र मोदी को भी मासूम के इलाज में मदद के लिए पत्र लिखेंगे. अगर प्रधानमंत्री राहत कोष से इस गरीब परिवार को मदद मिल गई तो 16 करोड़ रुपए के इंजेक्शन से मयंक को इक नई जिंदगी मिल जाएगी, जिससे वह खुद ही अपने पैरों पर खड़ा हो सकेगा.

(रिपोर्ट: धारा सिंह)

अवैध धर्मांतरण के आरोपी उमर गौतम के खिलाफ फतेहपुर में एक और FIR, जानिए पूरा मामला

अवैध धर्मांतरण के आरोपी उमर गौतम के खिलाफ फतेहपुर में एक और FIR, जानिए पूरा मामला

Fatehpur News: फतेहपुर में अवैध धर्मांतरण के मामले में उमर गौतम के खिलाफ एक और एफआईआर दर्ज की गई है. मामले में नुरूलहुदा स्कूल प्रबंधक और उसके बेटे पर भी केस दर्ज किया गया है.

SHARE THIS:

फतेहपुर. अवैध धर्मांतरण (Illegal Religious Conversion) के आरोप में जेल में बंद मौलाना उमर गौतम (Umar Gautam) का फतेहपुर (Fatehpur) जिले के नुरूलहुदा स्कूल से कनेक्शन सामने आने के बाद पुलिस ने एक और एफआईआर दर्ज की है. आरोप है कि अवैध धर्मांतरण का आरोपी उमर गौतम का शहर के नुरूलहुदा स्कूल में आना जाना था. वह अन्य मौलानाओं के साथ स्कूल में तकरीर करता था और मुस्लिम धर्म के प्रति स्टाफ और छात्र-छात्राओं का ब्रेनवॉश कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया करता था.

मामले में पुलिस ने पूर्व टीचर कल्पना सिंह की तहरीर पर जेल में बंद अवैध धर्मांतरण के आरोपी उमर गौतम, नुरूलहुदा स्कूल प्रबंधक के प्रबंधक उमर शरीफ महाजरी व उसके बेटे मोहम्मद उमैर शरीफ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. बता दें अवैध धर्मांतरण के आरोप में जेल में बंद मौलाना उमर गौतम मूलरूप से फतेहपुर जिले के पंथुवा गांव का ही रहने वाला है. 21 जून को यूपी एटीएस ने उमर गौतम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

स्कूल की पूर्व टीचर ने लगाए गंभीर आरोप

जानकारी के मुताबिक सदर कोतवाली क्षेत्र के बाकरगंज की रहने वाली कल्पना सिंह शहर के नुरुलहुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में 1 मई 2019 से लेकर 19 मार्च 2020 तक छात्र-छात्राओं को पढ़ाती थी. कल्पना सिंह का आरोप है कि स्कूल में हिंदू बच्चों को इस्लामिक ताालीम के साथ-साथ कलमा भी पढ़ाया जाता है.

वह बताती हैं कि फरवरी 2020 में कई मौलानाओं के साथ उमर गौतम भी स्कूल आया था और तकरीर के जरिए मुझे और स्कूली बच्चों को धर्मांतरण के लिए प्रेरित किया था. इतना ही नहीं उसके सामने हिन्दू देवी-देवताओं को अपमानित भी किया था व इस्लाम धर्म को ताकतवर बताते हुए धर्मांतरण के लिए दबाव बनाया था और अच्छी सुविधाओं के साथ विदेश भेजने का प्रलोभन भी दिया.

धर्मांतरण से मना किया तो स्कूल से निकाला: पूर्व टीचर

नुरूलहुदा स्कूल की पूर्व टीचर कल्पना सिंह ने न्यूज़ 18 से खास बातचीत में आगे बताया कि जब मैंने हिन्दू देवी-देवताओं के अपमान किए जाने और हिन्दू बच्चों को इस्लामिक तालीम दिए जाने का विरोध किया तो स्कूल प्रबंधक मौलाना उमर शरीफ महाजरी व उसका बेटा मोहम्मद उमैर शरीफ ने मुझे इस्लाम धर्म कबूल न करने पर पहले तो डराया धमकाया. इसके बाद भी जब उनकी बात नहीं मानी तो मुझे स्कूल में अपमानित कर नौकरी से निकाल दिया और मेरा वेतन भी नहीं दिया. जिस सम्बंध में मैंने पूर्व में ही सदर कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर एफआईआर दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस ने दौरान विवेचना स्कूल प्रबंधक को बचाने का काम किया था.

एफआईआर दर्ज, सभी की चल रही जांच: एसपी राजेश कुमार

एसपी राजेश कुमार ने बताया कि नुरुलहुदा स्कूल की पूर्व टीचर कल्पना सिंह के तहरीर पर जेल में बंद मौलाना उमर गौतम, स्कूल प्रबंधक मौलाना उमर शरीफ महाजरी व उसका बेटा मोहम्मद उमैर शरीफ के खिलाफ अवैध धर्म परिवर्तन एक्ट, मारपीट, प्रलोभन देने समेत सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. उमर गौतम से जुड़े सभी लोगों की कुंडली भी खंगाली जा रही है. इसके साथ ही नुरूलहुदा स्कूल में फंडिंग की भी जांच की जा रही है. पीड़ित टीचर को एतिहातन सुरक्षा कर्मी भी मुहैया कराया गया है. उन्होंने पूर्व में भी एक मुकदमा दर्ज कराया था. पूरे मामले की जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी.

UP के बाढ़ग्रस्त 24 में से 11 जिलों में औसत से कम बारिश, फिर भी क्यों बनी ये हालत?

UP के बाढ़ग्रस्त 24 में से 11 जिलों में औसत से कम बारिश, फिर भी क्यों बनी ये हालत?

UP News: उत्तर प्रदेश के 11 जिलों फतेहपुर, शाहजहांपुर, सीतापुर, गाज़ीपुर, चंदौली, आगरा, फर्रुखाबाद, कानपुर देहात, कौशाम्बी, इटावा और जालौन में औसत से कम बारिश हुई. लेकिन फिर भी ये जिले बाढ़ की चपेट में हैं.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में इस समय 24 जिले बाढ़ (Flood) से प्रभावित हैं. और हैरानी की बात है कि जिन जिलों में सामान्य से कम बारिश हुई वे इलाके भी बाढ़ के पानी में समां गए हैं. यूपी के बाढ़ ग्रस्त 24 जिलों में से 11 जिले कम बारिश वाले हैं. इस सवाल के जवाब से पहले कुछ आंकड़ों पर नज़र ज़रूरी है.

यूपी के 24 जिलों फतेहपुर, गोण्डा, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, गोरखपुर, बहराइच, गाज़ीपुर, चंदौली, आगरा, चित्रकूट, फर्रूखाबाद, कानपुर देहात, भदोही, कौशाम्बी, इटावा, वाराणसी, बलिया, हमीरपुर, बांदा, जालौन, प्रयागराज और मिर्जापुर में बाढ़ आई है. इन इलाकों की करीब 5 लाख से ज्यादा आबादी प्रभावित है. पहली नजर में लगता है कि इन जिलों में जमकर बरसात हुई होगी, लेकिन ऐसा नहीं है. इनमें से 11 जिलों फतेहपुर, शाहजहांपुर, सीतापुर, गाज़ीपुर, चंदौली, आगरा, फर्रुखाबाद, कानपुर देहात, कौशाम्बी, इटावा और जालौन में औसत से कम बारिश हुई है. चंदौली, फर्रुखाबाद और कानपुर देहात में तो औसत से 50 फीसद यानी आधी ही बारिश हुई है, फिर भी बाढ़ आ गई.

इसकी मुख्य वजह है नदियों का उफान. ये जरूरी नहीं कि यूपी से होकर बहने वाली नदियों में उफान तभी आएगा जब यूपी में भारी बारिश होगी. नेपाल, उत्तराखंड, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान से होकर आने वाली नदियां भी तब उफनाने लगती है, जब इन प्रदेशों में भारी बारिश हो जाती है. पिछले एक हफ्ते में मध्य प्रदेश और राजस्थान में जमकर पानी गिरा है. ये सारा का सारा पानी गंगा और यमुना में बहकर यूपी में आ रहा है.

खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज गाजीपुर में बाढ़ और राहत कार्यों का जायजा लेने के बाद कहा कि उत्तर प्रदेश के 24 जनपदों के 620 गांवों में बाढ़ का असर है. राजस्थान, हरियाणा, MP से अतिरिक्त जल छोड़े जाने से ये हालत हुई है.

सिंचाई विभाग में फ्लड कंट्रोल के इंजीनियर इन चीफ अशोक सिंह ने बताया कि सबसे ज्यादा पानी का स्तर राजस्थान और एमपी से आने वाली नदियों में दर्ज किया जा रहा है. इसी वजह से यमुना में पानी बढ़ गया है. यमुना प्रयागराज में गंगा से मिल जाती है. ऐसे में पहले से उफनती गंगा में पानी का स्तर और बढ़ गयाअब बनारस के आगे गंगा का जलस्तर बढ़ेगा. बाकी जगहों पर जलस्तर में कमी आने लगी है.

Fatehpur News: चारपाई कंधे पर उठाकर 7 KM बीमार मां को एंबुलेंस तक लेकर पहुंचे बेटे, देखें वीडियो

Fatehpur News: चारपाई कंधे पर उठाकर 7 KM बीमार मां को एंबुलेंस तक लेकर पहुंचे बेटे, देखें वीडियो

बब्बू का डेरा मजरे सरकंडी के रहने वाली शिवकली देवी जंगल जाते समय रविवार को कीचड़ में फिसलकर गिर गई थीं. महिला की कमर में फैक्चर हुआ है.

SHARE THIS:

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर (Fatehpur) के दोआबा गांव का स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल खोलता एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. बेटों ने चारपाई कंधे पर उठाकर बीमार मां को एंबुलेंस (Ambulance) तक लेकर पहुंचे. बताया जा रहा है कि रास्ता दलदल होने की वजह से एंबुलेंस गांव तक नहीं पहुंच सकी. जिसके बाद बेटों ने 7 किमी पैदल चलकर कंधे पर चारपाई उठाकर बीमार मां को एंबुलेंस तक पहुंचाना पड़ा. जिसके बाद महिला को शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बता दें कि क्षेत्रफल में जिले की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत असोथर ब्लॉक का बब्लू का डेरा सरकंडी गांव आज भी बदहाली पर आंसू बहा रहा है. 20 हजार से अधिक आबादी वाले इस गांव में लोग सड़क जैसे मूलभूति सुविधाओं को तरस रहे है. बारिश के दिनों में गांव में कुछ ऐसे हालात हैं कि गांव आने-जाने वाला संपर्क मार्ग पूरी तरह से कीचड़ और दलदल से पट जाता है. बब्बू का डेरा मजरे सरकंडी के रहने वाली शिवकली देवी जंगल को जाते समय रविवार को कीचड़ में फिसलकर गिर गई थीं. जिसकी वजह से उनके शरीर में कई जगह पर चोट लग गई थी. परिवार ने तुरंत एंबुलेंस को कॉल कर बुलाया.

लेकिन रास्ता कच्चा और दलदल होने की वजह से एंबुलेंस ड्राइवर ने गांव में जाने से इनकार कर दिया. इस दौरान एंबुलेंस गांव से 7 किमी दूर मनावा गांव के पास ही रुक गई. जिसके बाद उनके बेटों को मां को चारपाई पर लिटाकर 7 किमी पैदल चलकर एंबुलेंस तक जाना पड़ा. बीमार शिवकली देवी के बेटे राममिलन का कहना है कि गांव में पक्का रास्ता न होने की वजह से एंबुलेंस और दूसरे वाहन वहां नहीं पहुंच पाते हैं. इसी वजह से उन्हें बीमार माां के इलाज के लिए 7 किमी का सफर तय करना पड़ा. जिसके बाद एंबुलेंस ने उन्हें एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया.

भाजपा के 6 विधायक और एक सांसद, फिर भी….
महिला की कमर में फैक्चर हुआ है. जिसका इलाज किया जा रहा है. ऐसे में सवाल उठना लाज़िम है कि जिले में भाजपा के 6 विधायक और एक सांसद है. दो विधायकों में एक प्रदेश सरकार के खाद्य एवं रसद राज्यमंत्री तो दूसरे प्रदेश के कारागार राज्यमंत्री है और जिले की सांसद केंद्रीय राज्यमंत्री है. इसके बावजूद भी ग्रामीणों को पक्की सड़क जैसे मूलभूति सुविधाएं तक नहीं नसीब हो रही है.

झारखंड के बाद यूपी में जज के ऊपर जानलेवा हमला! सड़क हादसे में बाल-बाल बचे फतेहपुर के ADJ

झारखंड के बाद यूपी में जज के ऊपर जानलेवा हमला! सड़क हादसे में बाल-बाल बचे फतेहपुर के ADJ

Attack on Judge: फतेहपुर के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (स्पेशल जज पॉक्सो) मो. अहमद खान की कार को एक अन्य वाहन ने मारी टक्कर. स्पेशल जज ने इसे साजिशन हमला बताते हुए हत्या के प्रयास की तहरीर दी है.

SHARE THIS:

कौशांबी. फतेहपुर (Fathepur) के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (स्पेशल जज पास्को एक्ट ) मो. अहमद खान गुरुवार को एक सड़क हादसे (Road Accident) में बाल-बाल बच गए. जहां कौशाम्बी के कोखराज क्षेत्र के चाकवन गांव के पास उनकी कार में इनोवा ने जोरदार टक्कर मार दी. घटना में उनका गनर घायल हो गया और एडीजे की कार बुरी तरह छतिग्रस्त हो गई. एडीजे ने कोखराज थाने में हत्या के प्रयास की तहरीर दी है. उनका कहना है कि सड़क हादसे के जरिए उन्हें जान से मारने की कोशिश की गई है. उन्होंने कहा कि वह कार में जिस तरफ बैठे थे, उसी तरफ कई बार टक्कर मारी गई.

एडीजे मो. अहमद खान ने तहरीर में लिखा है कि बरेली में दिसंबर 2020 में एक मुस्लिम युवक की जमानत खारिज करने के दौरान उन्हें जान से मार देने की धमकी मिली थी. वह युवक कौशाम्बी का ही रहने वाला है. पुलिस ने इनोवा बरामद कर ड्राइवर को पकड़ लिया है. कार चालक से पूछताछ की जा रही है. एडीजे गुरुवार को किसी काम से प्रयागराज आए थे. वह कार से फतेहपुर लौट रहे थे तभी कोखराज में यह घटना हुई. स्पेशल जज ने इसे साजिश बताया है.

UP: योगी सरकार की उपलब्धियों को दर्शाती पुस्तकें, गांव-गांव जाकर सांसद और विधायक जगाएंगे अलख

तहरीर में उन्होंने कहा कि कार में जिस तरीके से टक्कर मारी गई वह जान लेने की कोशिश है. वह कुछ साल पहले इलाहाबाद जिला न्यायालय में एसीजेएम थे. स्पेशल जज के साथ हुई इस घटना से परिवार वाले परेशान हैं. कोखराज पुलिस मामले की जांच कर रही है. इंस्पेक्टर कोखराज ज्ञान सिंह यादव का कहना है कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है.

फतेहपुर में टला बड़ा हादसा: टार्च जलाकर सो गया गेटमैन, सिग्नल देखकर दौड़ती रहीं कई ट्रेनें

फतेहपुर में टला बड़ा हादसा: टार्च जलाकर सो गया गेटमैन, सिग्नल देखकर दौड़ती रहीं कई ट्रेनें

सेक्शन इंजीनियर (Section Engineer) अनूप सिंह ने बताया कि गेटमैन आरके शर्मा ने पूछताछ में बताया है कि उसकी दो दिनों से तबियत खराब थी. भोर में 3 से 4 बजे के बीच दवा खाकर सो जाने की बात उसने स्वीकार की है.

SHARE THIS:
फतेहपुर. उत्तर प्रदेश के फतेहपुर (Fathepur) के रमवां रेलवे क्रासिंग (Railway Crossing) पर तैनात गेटमैन की बड़ी लापरवाही सामने आई है. गुरुवार रात टार्च (इलेक्ट्रिक लैंप) से लाइन क्लियर का सिग्नल देकर गेटमैन सो गया. कई घंटे तक ट्रेनें टार्च की रोशनी को सिग्नल मानकर गुजरती रहीं. रेलवे फाटक बंद होने से वाहनों की लाइनें लग गईं. जाम बढ़ता देख सुबह करीब 6 बजे पीआरवी टीम पहुंची तो गेटमैन सोता मिला. गेटमैन का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो रेलवे में हड़कंप मच गया. डीआरएम प्रयागराज मोहित चंद्रा के आदेश के बाद लापरवाही बरतने वाले गेटमैन आरके शर्मा को निलंबित करते हुए उसके खिलाफ जांच के आदेश दिए गए है.

बता दें कि फतेहपुर जिले में दिल्ली-हावड़ा रूट के रमवां गेट नंबर- 47 पर गुरुवार की रात गेटमैन आरके शर्मा ड्यूटी पर था. रात करीब 12 बजे उसने फाटक बंद कर दिया. इसके बाद टार्च जलाकर बाहर रख दी और कमरे में जाकर सो गया. लाइन क्लियर का सिग्नल पाकर कई ट्रेनें दौड़ती रही. रेलवे क्रासिंग न खुलने के कारण वाहनों की लंबी लाइनें लग गई. सुबह करीब 6 बजे पीआरवी टीम पहुंचीं तो गेटमैन केबिन में सोते मिला. पुलिस ने उसे उठाकर फाटक खुलवाया. करीब छह घंटे बाद आवागमन सामान्य हुआ. लाइन क्लियर का सिग्नल पाकर रात 12 बजे से सुबह 6 बजे के बीच प्रयागराज एक्सप्रेस, रीवां एक्सप्रेस, शिवगंगा एक्सप्रेस, पुरुषोत्तम एक्सप्रेस, लिच्छवी, प्रयागराज-जयपुर एक्सप्रेस आदि ट्रेनें इस रूट से गुजर गई. गनीमत यह रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ.

Gorakhpur News: सीएम योगी को देखकर दौड़ा चला आया 'गुल्लू', सोशल मीडिया पर बना सेलिब्रिटी

गेटमैन की लापरवाही का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो रेलवे में हड़कंप मच गया. इस मामले में इंडियन रेलवे सेवा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से डीआरएम प्रयागराज मोहित चंद्रा को कार्यवाई के लिए निर्देशित किया. डीआरएम के आदेश पर गेटमैन आरके शर्मा को निलंबित कर उसके खिलाफ जांच बैठा दी गई. सेक्शन इंजीनियर अनूप सिंह ने बताया कि गेटमैन आरके शर्मा ने पूछताछ में बताया है कि उसकी दो दिनों से तबियत खराब थी. भोर में 3 से 4 बजे के बीच दवा खाकर सो जाने की बात उसने स्वीकार की है. ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर उसे निलंबित करके जांच बैठा दी गई है.

फतेहपुर: हरिशंकर मर्डर केस में 6 साल बाद आया फैसला, तीनों आरोपियों को आजीवन कारावास

फतेहपुर: हरिशंकर मर्डर केस में 6 साल बाद आया फैसला, तीनों आरोपियों को आजीवन कारावास

Fatehpur News: अपर जिला जज विवेक कुमार चौरसिया की अदालत ने तीनों आरोपियों राजू मिश्रा, दीपू मिश्रा और गिलकानी मिश्रा को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाते हुए 15-15 हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया है.

SHARE THIS:
फतेहपुर. उत्तर प्रदेश में फतेहपुर (Fatehpur) जिले के हरिशंकर मिश्रा हत्याकांड (Harishankar Mishra Murder Case) में अपर जिला जज विवेक कुमार चौरसिया की अदालत ने तीन दोषियों राजू मिश्रा, दीपू मिश्रा और गिलकानी मिश्रा को आजीवन कारावास (Life Imprisonment) की सज़ा सुनाई है. साथ ही अदालत ने तीनों दोषियों पर 15-15 हजार का अर्थदंड भी लगाया है. कोर्ट के फैसले के बाद पुलिस ने तीनों दोषियों को जेल भेज दिया है. छह साल बाद जब कोर्ट का फैसला आया तो मृतक की पत्नी लीलावती ने कहा कि मुझे आज न्याय मिल गया है. मामला असोथर थाना क्षेत्र के छिछनी गांव का है. 27 मई 2015 को पुरानी रंजिश के चलते तीनों दोषियों ने लाठी-डंडे और कुल्हाड़ी से हमला कर हरिशंकर मिश्रा को मौत के घाट उतार दिया था.

आपको बता दें कि असोथर थाना क्षेत्र के छिछनी गांव के रहने वाले हरिशंकर मिश्रा खेतीबाड़ी का काम कर अपने परिवार का भरण पोषण किया करते थे. 27 मई, 2015 की सुबह साढ़े सात बजे वह साइकिल पर भूसा लादकर घर की ओर जा रहे थे. तभी रास्ते में राजू मिश्रा, दीपू मिश्रा और गिलकानी मिश्रा ने उन्हें घेर लिया था. तीनों ने बरछी, कुल्हाड़ी और लाठी से हरिशंकर पर ताबड़तोड़ प्रहार किए. जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गए थे. परिजन उन्हें लेकर पीएचसी असोथर पहुंचे थे, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था. घटना के बाद हरिशंकर की पत्नी लीलावती की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज कर तीनो आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी थी.

लीलावती अपने पति के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए कोर्ट में छह सालों तक पैरवी करती रही. मामला अपर जिला जज विवेक कुमार चौरसिया की अदालत में विचाराधीन था. लीलावती को न्याय दिलाने के लिए जिला शासकीय अधिवक्ता सहदेव गुप्ता और सहायक शासकीय अधिवक्ता कल्पना देवी ने न्यायालय के समक्ष घटना से संबंधित सभी गवाह और साक्ष्य प्रस्तुत किए.

सभी पक्षों को सुनने के बाद अपर जिला जज विवेक कुमार चौरसिया की अदालत ने तीनों अभियुक्तों राजू, दीपू और गिलकानी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई. साथ ही अदालत ने तीनों दोषियों पर 15-15 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया. जिला शासकीय अधिवक्ता सहदेव गुप्ता ने बताया कि तीनों मुल्जिम हाईकोर्ट से जमानत पर थे. अदालत से फैसला आते ही तीनों को जेल भेज दिया गया.

UP: 4 जिलों के SP सहित 7 आईपीएस अफसरों का ट्रांसफर, देखें लिस्ट

UP: 4 जिलों के SP सहित 7 आईपीएस अफसरों का ट्रांसफर, देखें लिस्ट

UP News: यूपी सरकार ने 7 आईपीएस अफसरों के ट्रांसफर कर दिए हैं, इनमें सिद्धार्थनगर, जालौन, कासगंज और हमीरपुर के एसपी भी बदल दिए गए हैं.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार ने 7 आईपीएस अफसरों (7 IPS Transfer) के ट्रांसफर कर दिए हैं. इनमें 4 जिलों के कप्तान भी बदले गए हैं. जिन जिलों में एसपी पद पर फेरबदल किया गया है, उनमें सिद्धार्थनगर, जालौन, कासगंज और हमीरपुर शामिल हैं. गृह विभाग द्वारा जारी ट्रांसफर लिस्ट के अनुसार यशवीर सिंह एसपी सिद्धार्थनगर बनाए गए, यहां अब तक तैनात रहे राम अभिलाष त्रिपाठी को एसपी, ग्रामीण अभिसूचना, गोरखपुर भेज दिया गया है. बता दें यशवीर सिंह अभी तक जालौन में एसपी पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे, वहां अब उनकी जगह  रवि कुमार को एसपी जालौन भेजा गया है.

इनके अलावा बोत्रे रोहन प्रमोद एसपी कासगंज होंगे, जबकि कमलेश कुमार दीक्षित एसपी हमीरपुर बने. इनके अलावा राम अभिलाष त्रिपाठी एसपी अभिसूचना गोरखपुर बनाए गए हैं, जबकि मनोज सोनकर सेनानायक 12वीं पीएसी फतेहपुर और नरेंद्र कुमार सिंह सेनानायक 15वीं पीएसी आगरा भेजे गए हैं.

ट्रांसफर लिस्ट

यशवीर सिंह- एसपी जालौन से एसपी सिद्धार्थनगर

रवि कुमार- पुलिस उपायुक्त, लखनऊ से एसपी जालौन

बोत्रे रोहन प्रमोद- अपर पुलिस अधीक्षक, नगर आगरा से एसपी कासगंज

कमलेश कुमार दीक्षित- एसपी ग्रामीण, अभिसूचना, गोरखपुर से एसपी हमीरपुर

7 आईपीएस अफसरों की ट्रांसफर लिस्ट

ips transfer1
आईपीएस ट्रांसफर लिस्ट


राम अभिलाष त्रिपाठी- एसपी सिद्धार्थनगर से एसपी ग्रामीण अभिसूचना, गोरखपुर

मनोज सोनकर- एसपी, कासगंज से सेनानायक, 12वीं वाहिनी पीएसी, फतेहपुर

नरेंद्र कुमार सिंह- एसपी हमीरपुर से सेनानायक, 15वीं वाहिनी पीएसी, आगरा

इनपुट: ऋषभ मणि त्रिपाठी
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज