लाइव टीवी

यूपी के इस सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स छील रहे घास, मना करने पर नंबर काटने की धमकी...

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 4, 2019, 6:27 PM IST
यूपी के इस सरकारी स्कूल के स्टूडेंट्स छील रहे घास, मना करने पर नंबर काटने की धमकी...
फतेहपुर के सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल ने छात्रों को पकड़ाए फावड़े

मामला जिले के हसवा विकास खण्ड (Haswa Development Block) के एकारी गांव में स्थित राजकीय हाईस्कूल (Government high school) का है. रिपोर्ट के मुताबिक यहां बच्चों को पढ़ाने के बजाय उनसे रोज दो घंटे तक घास छिलवाई जाती है....

  • Share this:
फतेहपुर. एक तरफ सरकार शिक्षा व्यवस्था (Education system) को बेहतर बनाने के पुरजोर दावे करती है वहीं सरकारी विद्यालयों (Government schools) में तैनात अध्यापक सरकार के दावों और योजनाओं को पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं. ताजा वाकया फतेहपुर जिले (Fatehpur district) का है यहां राजकीय विद्यालय (Government school) में छात्रों से घास छिलवाई जाती है और स्टूडेंट्स (Students) जब इसका विरोध करते हैं तो उन्हें प्रेक्टिकल परीक्षा (Practical examination) में नंबर कम देने की धमकी दी जाती है. यह हम नहीं कह रहे तस्वीरें और यहां पढ़ने वाले छात्र कह रहे हैं.

fatehpur government school
राजकीय विद्यालय में मैदान साफ़ करते छात्र


आप तस्वीरों में छात्रों को मैदान की सफाई करते देख सकते हैं. छात्रों का कहना है कि परीक्षाएं नजदीक आ रही हैं ऐसे में विद्यालय पढ़ाई करवाने के बजाय खुरपी और फावड़ा थमा कर मैदान साफ़ करवा रहा है. मामला जिले के हसवा विकास खण्ड (Haswa Development Block) के एकारी गांव में स्थित राजकीय हाईस्कूल का है. रिपोर्ट के मुताबिक यहां बच्चों को पढ़ाने के बजाय उनसे रोज दो घंटे तक घास छिलवाई जाती है. इस विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र अगर इस बात का विरोध करते है कि वह लोग इस काम को नहीं करेंगे तो उन्हें प्रैक्टिकल में मिलने वाले अंक काट लेने की धमकी दी जाती है.

प्रिंसपल का अनोखा तरीका!

इस विद्यालय में पढ़ने वाले कुल छात्र-छात्राओं की संख्या मात्र 90 है. इनको पढ़ाने की जिम्मेदारी विद्यालय में तैनात केवल दो शिक्षिकाओं में ऊपर है. आरोप यह भी है कि इन दो में से एक शिक्षिका अक्सर स्कूल से गायब रहती हैं. अब ऐसे में बच्चों को पढ़ाना न पड़े इससे बचने के लिए यहां तैनात प्रिंसपल (Principal) ने अनोखा तरीका इजाद कर लिया है. छात्रों को पढ़ाई के बजाय सवेरे स्कूल आते ही खुरपी और फावड़ा पकड़ा दिया जाता है. छात्र प्रेक्टिकल में नंबर न कटे इस लालच में सफाई का काम करने को मजबूर हैं.

किताब छोड़कर फावड़ा चलाने पर मजबूर यह छात्र प्रिंसिपल की धमकी के चलते यह काम कर रहे हैं. गरीब परिवारों से संबंध रखने वाले इन बच्चों के अभिवावक तो अपने बच्चों का भविष्य बनाने के लिए उन्हें स्कूल भेजते हैं लेकिन विद्यालय में तैनात प्रधानाध्यापिका इन्हें पढ़ाने के बजाय उनसे खुलेआम फावड़ा और खुरपी चलवा रही हैं. News 18 संवाददाता ने राजकीय हाईस्कूल में हो रहे बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ के बारे में जब जिला विद्यालय निरीक्षक (District school inspector) से बात की तो उन्होंने कहा मामले की जांच करवाई जा रही है अगर विद्यालय के अध्यापक दोषी पाए गए तो उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें - लखनऊ: आंसू निकाल रहा प्याज, कीमत 120 के पार !
Loading...



प्रो. फ़िरोज़ खान को लेकर BHU में शुरू हुआ पोस्टर वार, लिखा 'गैर हिंदू प्रवेश वर्जित'!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फतेहपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2019, 6:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...