Lockdown: दो जनपदों के बॉर्डर पर महिला ने दिया बच्चे को जन्म, पुलिस ने भिजवाया अस्पताल
Fatehpur News in Hindi

Lockdown: दो जनपदों के बॉर्डर पर महिला ने दिया बच्चे को जन्म, पुलिस ने भिजवाया अस्पताल
बच्चे के जन्म के बाद पुलिस ने मां-बेटे को अस्पताल भिजवाया

चिल्ला थाना प्रभारी इंस्पेक्टर विजय सिंह ने जब सड़क किनारे महिला को प्रसव पीड़ा में देखा तो उन्होंने तत्काल महिला कांस्टेबल प्रतिमा को दो अन्य महिलाओं के साथ उसकी मदद को भेजा...

  • Share this:
फतेहपुर/बांदा. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) से संक्रमण के बचाव के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) है. बिना आवश्यकता लोगों के बाहर निकलने पर रोक है. लेकिन ऐसे में बीमार लोगों व गर्भवती महिलाओं (Pregnant women) को भी कई बार परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसा ही वाकया उत्तर प्रदेश के फतेहपुर/बांदा जनपद के बॉर्डर पर हुआ. जहां प्रसव पीड़ा (labor pain) से ग्रस्त एक महिला को एंबुलेंस न मिलने के चलते उसका पति उसे बाइक पर बैठा कर नजदीकी हॉस्पिटल ले जाने का प्रयास कर रहा था लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला की हालत बिगड़ने लगी और उसने सड़क के किनारे ही बच्चे को जन्म दिया.

पुलिस का मानवीय चेहरा
हालांकि इस दौरान पुलिस का मानवीय चेहरा एक बार फिर नजर आया. जनपद बॉर्डर पर तैनात चिल्ला थाना प्रभारी इंस्पेक्टर विजय सिंह ने जब महिला को प्रसव पीड़ा में देखा तो उन्होंने तत्काल महिला कांस्टेबल प्रतिमा को दो अन्य महिलाओं के साथ उसकी मदद को भेजा. महिला द्वारा बच्चे को जन्म देने के बाद चिल्ला थाना प्रभारी विजय सिंह ने महिला व उसके नवजात बच्चे को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया जहां मां और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. रिपोर्ट के मुताबिक बांदा के मलकपुर गांव में रहने वाली एक गर्भवती महिला को लेबर पेन हुआ. महिला के परिजनों ने कई बार सरकारी एंबुलेंस के लिए न किया लेकिन मौके पर एंबुलेंस नहीं पहुंची और उसकी तकलीफ बढ़ती गई जिसके बाद महिला का पति उसे बाइक पर बैठा कर अस्पताल जाने लगा लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला ने बांदा और फतेपुर दो जनपद को जोड़ने वाले बॉर्डर पर बच्चे को जन्म दे दिया. मामला चिल्ला थाना क्षेत्र के यमुना और केन नदी पुल के पास का है जहां पर फतेहपुर जनपद के ललौली थाना क्षेत्र के मलकपुर गांव के रहने वाले ननकू निषाद अपनी पत्नी फूला निषाद को लेकर फतेहपुर जनपद से नजदीक पड़ने वाले स्वास्थ्य केंद्र ले जा रहे थे.

स्वस्थ हैं मां-बेटा
लॉकडाउन की वजह से बॉर्डर के तमाम एरिया में पुलिस बल तैनात है और सीमाओं को सील कर दिया गया है. चिल्ला थाना प्रभारी विजय सिंह ने सड़क किनारे महिला को प्रसव पीड़ा से कराहते हुए देखा तो उन्होंने महिला कांस्टेबल प्रतिमा और 2 अन्य महिलाओं गर्भवती महिला की मदद करने के लिए भेजा. कुछ ही देर बाद महिला ने बच्चे को रास्ते में ही जन्म दे दिया. जिसके बाद थाना प्रभारी ने सरकारी जीप में जच्चा-बच्चा और उसके पति को बैठाकर चिल्ला के जच्चा-बच्चा केंद्र भेज दिया. मामले की जानकारी देते हुए चिल्ला थाना प्रभारी विजय सिंह ने बताया कि हम लोग बांदा जनपद के अंतिम थाना जिला में बेरियल में ड्यूटी पर तैनात थे उसी दौरान एक बाइक सवार युवक महिला को लेकर आ रहा था बॉर्डर से कुछ ही दूरी पर महिला बेसुध हो गई. मौके पर पहुंच कर देखा गया तो महिला प्रसव पीड़ा में थी जिसके बाद महिला कांस्टेबल को उसकी मदद के लिए भेजा गया. कुछ ही देर बाद महिला ने बच्चे को जन्म दिया. बच्चे के जन्म के बाद अपनी सरकारी गाड़ी से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भिजवाया है जहां नवजात बच्चे व मां का स्वास्थ्य ठीक बताया जा रहा है.



ये भी पढ़ें- COVID-19: लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों की पुलिस ने उतरवाई शर्ट, फिर...

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज