अपना शहर चुनें

States

रेप के बाद गर्भवती हुई पीड़िता ने दिया बच्चे को जन्म, पर अभी तक पुलिस की पहुंच से दूर हैं रेपिस्ट

क्रांति फाउंडेशन की संचालिका सौम्या सिंह पटेल के साथ पीड़िता ने शनिवार को एसपी से मुलाकात की,
क्रांति फाउंडेशन की संचालिका सौम्या सिंह पटेल के साथ पीड़िता ने शनिवार को एसपी से मुलाकात की,

शनिवार को पीड़ित महिला एक बार फिर क्रांति फाउंडेशन की संचालिका सौम्या सिंह पटेल के साथ पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल के कार्यालय पहुंची और एसपी को शिकायती पत्र देकर इंसाफ की गुहार लगाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 9:04 PM IST
  • Share this:
फतेहपुर. फतेहपुर (Fatehpur) में बलात्कार की शिकार (rape victim) महिला अब एक बच्चे की मां बन चुकी है, लेकिन पुलिस जांच में कोई तेजी नहीं दिख रही. महिला और परिजनों का आरोप है कि यह बच्चा उसी बलात्कार का नतीजा है. पुलिस ने अभी तक इस बच्चे का डीएनए (DNA) टेस्ट भी नहीं कराया है. शनिवार को पीड़ित महिला एक बार फिर क्रांति फाउंडेशन की संचालिका सौम्या सिंह पटेल के साथ पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल के कार्यालय पहुंची और एसपी को शिकायती पत्र देकर इंसाफ की गुहार लगाई.

छोटी बहन ने की थी शिकायत

फतेहपुर जिले के जाफरगंज थाना इलाके में यह वारदात हुई थी. इस मामले में पीड़िता की नाबालिग बहन ने थाने में तहरीर दी थी कि उसकी 25 वर्षीय बड़ी बहन के साथ गांव के रामराज समेत कुछ लोगों ने बलात्कार किया है. उस तहरीर में उसने बताया था कि इस वारदात की वजह से उसकी बहन चार महीने की गर्भवती है. जब गर्भ ठहरने की बात आरोपियों को पता चली तो उन्होंने किसी से बताने पर जान से मारने की धमकी दी.



19 जून को दर्ज हुई थी FIR
पीड़िता की नाबालिग बहन की शिकायत पर पुलिस ने 19 जून 2020 को नामजद आरोपी रामराज व एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज कर लिया. पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल परीक्षण कराया और फिर 1 जुलाई 2020 को कोर्ट में 164 के तहत बयान कराया. पीड़िता ने बताया था कि गांव के रामराज, विनोद व संतोष उसके घर आते थे, और उसके साथ जोर जबरदस्ती करते थे. जब वह विरोध करती थी तो उसे जान से मारने की धमकी देते थे.

गांव के लोगों ने कर दिया है बहिष्कार

पीड़िता की बहन ने बताया कि जब से मेरी बहन ने बच्चे को जन्म दिया है, तक से गांव के लोग भी हम सबको बहुत प्रताड़ित करते हैं. जब हमलोग हैंडपंप से पानी भरने जाते हैं तो गांव के लोग छुआछूत और भेदभाव कर हम लोगों को टॉर्चर करते हैं. इसका नतीजा है कि मैं अपनी बड़ी बहन और दो छोटे भाइयों के साथ गांव के बाहर रहते हैं.

परिजन कर रहे बच्चे की परवरिश

क्रांति फाउंडेशन की संचालिका सौम्या सिंह पटेल ने बताया कि वारदात के बाद जब पीड़िता उनके संपर्क में आई तो वह उसे लेकर पुलिस अफसरों के पास पहुंचीं और मामले की शिकायत दर्ज कराई. जिसके बाद पुलिस ने केस तो दर्ज कर लिया, लेकिन पीड़िता के प्रसव के चार महीने बाद भी पुलिस ने आज तक बच्चे का डीएनए टेस्ट तक नही करवाया है. पीड़िता के बच्चे की परवरिश रिश्तेदारों की देखरेख में की जा रही है.

मानसिक रूप से बीमार थी पीड़िता

मीडिया को दिए बयान में सौम्या ने कहा कि रेप पीड़िता वारदात से पहले मानसिक रूप से बीमार थी. इलाज के दौरान ही उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया. वह पिछले 6 महीने से पीड़िता को लेकर पुलिस अफसरों के कार्यालयों का चक्कर काट रही है, लेकिन पुलिस ने आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है.

डीएनए टेस्ट करवाया जाएगा : एसपी

वारदात के बाबत एडिशनल एसपी राजेश कुमार ने बताया कि थाना जाफरगंज इलाके में एक महिला से रेप का मामला संज्ञान में आया था. इस संबंध में थाने में पहले से ही मुकदमा दर्ज है. मामले में बच्चे के डीएनए टेस्ट की कार्रवाई अभी शेष है, जिसे पूर्ण कर आगे की कार्रवाई की जाएगी. पीड़िता या उसके परिजनों को ग्रामीणों द्वारा प्रताड़ित किए जाने की बात को थाना प्रभारी ने गलत बताया है. मामले की तफ्तीश पूरी होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज