UP Board 12वीं की टॉपर बोलीं, मेहनत की है तो result की फिक्र न करें

News18hindi से बातचीत में प्रियांशी तिवारी ने आगे कहा, 'सभी छात्र-छात्राओं को इस वक्‍त चाहिए कि वे रिजल्‍ट की फिक्र करने के बजाय सिर्फ अपनी पढ़ाई और मेहनत पर यकीन करें. डर को दूर भगाएं. अपने मन को शांत करें और अच्‍छा सोचें.'

प्रिया गौतम | News18Hindi
Updated: April 27, 2019, 12:37 PM IST
UP Board 12वीं की टॉपर बोलीं, मेहनत की है तो result की फिक्र न करें
यूपी बोर्ड 2017 में 12वीं की टॉपर प्रियांशी तिवारी
प्रिया गौतम | News18Hindi
Updated: April 27, 2019, 12:37 PM IST
'आज यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं के बोर्ड परीक्षा परिणाम आ रहे हैं. सभी को रिजल्‍ट जानने में दिलचस्‍पी रहती है लेकिन जिन्‍होंने यूपी बोर्ड की परीक्षाएं दी हैं, वे इस वक्‍त अलग ही टेंशन से जूझ रहे होंगे. मेरा उन सबसे यही कहना है कि रिजल्‍ट के दिन टेंशन लेने से कुछ नहीं होगा क्‍योंकि अगर आपने पूरे साल मेहनत की है और परीक्षाएं अच्‍छे ढंग से दी हैं तो निश्चित ही उसका फल भी मिलेगा और परिणाम भी अच्‍छा ही आएगा.' ये बातें UP board results 2017 में 12वीं की परीक्षा में उत्‍तर प्रदेश में पहला स्‍थान हासिल करने वाली फतेहपुर की प्रियांशी तिवारी ने कहीं.

News18hindi से बातचीत में प्रियांशी तिवारी ने आगे कहा, 'सभी छात्र-छात्राओं को इस वक्‍त चाहिए कि वे रिजल्‍ट की फिक्र करने के बजाय सिर्फ अपनी पढ़ाई और मेहनत पर यकीन करें. डर को दूर भगाएं. अपने मन को शांत करें और अच्‍छा सोचें. 2017 में जब मेरा रिजल्‍ट आने वाला था तो मैं इतनी आश्‍वस्‍त तो थी कि परीक्षाएं अच्‍छी गई हैं इसलिए अच्‍छे मार्क्‍स आएंगे लेकिन ये नहीं पता था कि मैं यूपी टॉपर बनूंगी.'


यूपी बोर्ड रिजल्ट 2019

यूपी बोर्ड रिजल्ट 2019



प्रियांशी इस समय इलाहाबाद में रहकर प्राचीन इतिहास, अर्थशास्‍त्र और अंग्रेजी विषय से बीए कर रही हैं.  इसके साथ ही उन्‍होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए कोचिंग भी ज्‍वॉइन कर ली है. इन्‍होंने कहा कि अक्‍सर बच्‍चे उनसे उनका सक्‍सेज फंडा पूछते हैं लेकिन वे यही कहती हैं कि हर बच्‍चे की रुचि, पढ़ने का तरीका अलग-अलग होता है. इसलिए हर छात्र को अपना एजेंडा और सक्‍सेज मंत्र खुद सेट करना चाहिए.

एक सबसे खास बात यह कि अगर आपने भविष्य के लिए कोई सपना तय किया है तो ऐसा न करें कि उस सपने के चक्‍कर में जिस सीढ़ी पर आप हैं उसे दरकिनार कर दें. बल्कि अगर 10वीं, 12वीं, उसके आगे की पढ़ाई, सभी को एक महत्‍वपूर्ण पड़ाव समझकर पूरा फोकस करें. हर सीढ़ी को गंभीरता से पार करते जाएंगे तो भविष्‍य का लक्ष्‍य खुद ब खुद सरल होता जाएगा और पास आता जाएगा. यहीं वजह रही कि सिविल सेवा का सपना उनके मन में जरूर था लेकिन फोकस 12वीं की पढ़ाई पर रहा.

आज के दौर में सोशल मीडिया को लेकर प्रियांशी ने कहा, 'आज मैं सुनती हूं तो लोग क‍हते हैं कि सोशल मीडिया ने बच्‍चों का समय खराब कर दिया. इसलिए वे पढ़ नहीं पाते. तो ये बात एक हद तक सही भी हो सकती है क्‍योंकि जब मैं 12वीं में थी तो मेरे पास फोन भी नहीं था. यहां तक कि मनोरंजन के लिए टीवी थी और बाकी समय मैं पढ़ती रहती थी. लेकिन मुझे लगता है कि तकनीक और सोशल मीडिया भी पढ़ाई में काफी मददगार हो सकते हैं बशर्ते बच्चों को पता हो कि उन्‍हें क्‍या देखना है और क्‍यों देखना है. सोशल मीडिया से बहुत कुछ सीखा जा सकता है.'

प्रियांशी कहती हैं कि लड़के हाें चाहे लड़कियां अगर कुछ पाना चाहते हैं तो उसके लिए पढ़ना तो पड़ेगा इसलिए भरपूर मेहनत करें. अब ऐसा दौर नहीं रहा कि मां-पिता ये सोचें कि ये लड़की है तो इसे नहीं पढ़ाना या लड़का है तो इसे आगे बढ़ाना है.

ये भी पढ़ें
Loading...

UP Board Result 2019: रिजल्ट में लगे गड़बड़ी तो स्टूडेंट्स यहां करें शिकायत, लेटेस्ट अपडेट के लिए upmsp.edu.in पर जाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फतेहपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 27, 2019, 11:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर