लाइव टीवी

दूर था उनका कॉलेज, लड़कियों ने पैसे जोड़कर खरीदा ई-रिक्शा, खुद चलाकर जाती हैं पढ़ने

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: October 3, 2019, 10:42 AM IST
दूर था उनका कॉलेज, लड़कियों ने पैसे जोड़कर खरीदा ई-रिक्शा, खुद चलाकर जाती हैं पढ़ने
फारुख की तीनों बेटियां और गांव की दूसरी 5 लड़कियां इसी ई रिक्शा में बैठकर स्कूल जाती हैं.

Beti-Bachao-Beti-Padhao: पढ़ाई-लिखाई के लिए मुस्लिम बेटियों की ऐसी ललक कम ही दिखने को मिलती है. यह कहानी है यूपी के रामपुर की. जहां एक मजदूर ने अपनी बेटियों को पढ़ाने के लिए ई-रिक्शा खरीदकर दिया. बेटियों ने उसे चलाना सीख लिया. अब स्कूल दूर है तो क्या हुआ. बेटियां वहां आसानी से पहुंच जाती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2019, 10:42 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' ( Beti Bachao-Beti Padhao) सही मायने में इस एक नारे का असली मतलब तो फारुख ने ही समझा है. तभी तो वो किसी भी कीमत पर ऊंची तालीम (Education) की ओर बढ़ रहीं अपनी तीन बेटियों (Daughter) की पढ़ाई को रुकने नहीं देना चाहता. घर से स्कूल (School)  दूर था, उसने बेटियों की तालीम जारी रखने के लिए ई-रिक्शा (e-rickshaw) खरीद दिया, ताकि वे उससे स्कूल जा सकें. उसकी एक बेटी शमां ने उसे चलाना सीख लिया और काम आसान हो गया. अब वो ई-रिक्शे में गांव की लड़कियों को लेकर निकल पड़ती है स्कूल. फारुख मजदूरी करके अपना घर चलाते हैं, लेकिन अब बेटियों की शिक्षा को लेकर उनके हौसले को क्षेत्र के लोग सलाम कर रहे हैं.

फारुख की पत्नी इस चिंता में रहती थी कि स्कूल घर से दूर है, रास्ते में कोई अनहोनी न हो जाए, बस से आने-जाने का खर्च और बेटियों का दर्द दोनों एक साथ परेशान कर रहे थे. तभी फारुख ने यह तरकीब निकाल ली. गांवों में खासतौर पर मुस्लिम समुदाय में बेटियों की पढ़ाई-लिखाई को लेकर इतनी ललक कम ही देखने को मिलती है. फारुख से उसकी बेटी शमां कहती रहती थी कि अब्बू पढ़ने-लिखने का वक्त आने-जाने में खर्च हुआ जा रहा है, लेकिन अब यह समस्या हल हो गई है. फारुख की यह कोशिश उस सोच को भी आईना दिखाती है जो कहती है कि बेटियों को पढ़ाने से क्या फायदा?

कौन है फारुख और ई-रिक्शा से स्कूल जाने वाली उसकी बेटियां

यूपी के रामपुर ज़िले में एक जगह है टांडा. फारुख टांडा क्षेत्र में पड़ने वाले सैंताखेड़ा गांव का रहने वाला है. न्यूज18 हिन्दी ने जब फारुख से बात की तो उन्होंने बताया, “मेरी पांच बेटियां और एक सबसे छोटा बेटा है. मैं कभी खेत में तो कभी बाजार में मजदूरी कर लेता हूं.

बेटियों की पढ़ाई के लिए और ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सकूं इसके लिए मैं दिल्ली में भी काम करने गया था. लेकिन वहां काम मिला नहीं. अब कुछ दिन से मैं टांडा में ही मजदूरी करके 200 से 250 रुपये रोज कमा रहा हूं. मेरी दो बेटी शमा और मंतशा परवीन हाईस्कूल में पढ़ती हैं तो तीसरे नम्बर की जैबुनिंशा 8वीं क्लास में पढ़ रही है. सबसे छोटी दो बेटियां मदरसे में पढ़ने जाती हैं.”



बेटियों को इसलिए दिलाया ई-रिक्शा
Loading...

फारुख बताते हैं, “जब बेटियां बड़ी होने लगीं और बड़ी क्लास में आने लगीं तो मुझे इस बात का इल्म था कि अब एक बात जरूर उठेगी कि बड़ी-बड़ी बेटियों को अकेले इतनी दूर स्कूल में भेजते हो कोई अनहोनी हो गई तो? दूसरा बेटियां भी शिकायत करने लगीं थी कि हमारा आने-जाने में बहुत वक्त लग जाता है. ऊपर से पत्नी भी बस के खर्चे को लेकर फिक्रमंद थीं. जैसे ही यह सब दिमाग में आया तो ई-रिक्शा दिला दिया.”



ई-रिक्शा के लिए ऐसे जमा किए 76 हजार रुपये

एक बाप अपनी बेटी के लिए स्कूटी खरीदता है, साइिकल खरीदता है तो फिर ऐसे में स्कूल आने-जाने के लिए ई-रिक्शा क्यों. इस सवाल के जवाब में फारुख का कहना है, “गांव से स्कूल की दूरी 9 किमी है. बस से जाने के लिए गांव से एक किमी दूर आना पड़ता था. तीनों बेटियों को एक साथ स्कूल आना-जाना था जिससे उनकी सुरक्षा भी बनी रहे. और पैसा भी ज्यादा खर्च नहीं करना था.



सही बात तो यह थी कि पैसा हमारे पास ज्यादा था भी नहीं. बीवी ने घर में मौजूद एक भैंस का दूध बेचकर कुछ पैसे जमा किए थे वो निकाल लिए. कुछ पैसा बच्चियों ने दिया. इस तरह से जोड़-तोड़कर 76 हजार रुपये का ई-रिक्शा खरीद लाया. स्कूटी इसलिए नहीं खरीदी कि उसके लिए रोजाना पेट्रोल की जरूरत पड़ेगी. आए दिन मैकेनिक के पास ठीक कराने के लिए भी जाना पड़ेगा.”



ऐसे निकल रहा है ई-रिक्शा का खर्च

फारुख की बड़ी बेटी शमा बताती है, ई-रिक्शा की बैटरी चॉर्ज करने के लिए बिजली खर्च होती है. कभी-कभी रिक्शा में भी काम कराना होता है, इसलिए हम तीनों बहनों सहित गांव की दूसरी 5 लड़कियां भी स्कूल जाती हैं. वो पांचों मिलकर ई-रिक्शा का खर्च उठा लेती हैं. फिलहाल लड़कियों के संघर्ष को देखते हुए उस सन राइज इंटर कॉलेज ने दो लड़कियों की फीस माफ कर दी है जिसमें वो पढ़ती हैं.

ये भी पढ़ें-  

कारगिल युद्ध में इस तहसील के शूरवीरों ने दुश्‍मनों को किए थे दांत खट्ठे, अब देश को दिया IAF Chief

वक्फ बोर्ड ने नजीब की मां को दिया 5 लाख का चेक, भाई को इंजीनियर की नौकरी देने का वादा

गांधी@150: अफ्रीका ही नहीं हरियाणा के इस रेलवे स्टेशन से भी जुड़ा है अंग्रेजों और गांधीजी का किस्सा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रामपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 3, 2019, 9:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...