शामली में महिला हेल्पलाइन डेस्क की खुली पोल, इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही पीड़िता

महिला हेल्पलाइन में शिकायत करने पहुंची महिला और उसके परिजन.
महिला हेल्पलाइन में शिकायत करने पहुंची महिला और उसके परिजन.

योगी सरकार (Yogi Government) ने प्रदेश के सभी जिलों के थानों में महिला पुलिस हेल्प लाइन डेस्क बनाया है, यह डेस्क महिलाओं को न्याय (justice) दिलाने में मदद करेगी, लेकिन डेस्क इसके ठीक उलटी दिशा में काम कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 6:41 PM IST
  • Share this:
शामली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में योगी सरकार जहां महिलाओं की सुरक्षा (Women Security) के लिए हर संभव प्रयास कर रही है वहीं कुछ महिला हेल्प लाइन (Women Help Line) में काम करने वाले लोग महिलाओं को न्याय दिलाने की बजाय उनसे थाने और पुलिस चौकी (Police Station) के चक्कर लगवा रहे हैं. योगी सरकार ने महिला सुरक्षा के लिए प्रदेश के सभी थानों में महिला हेल्पलाइन डेस्क का शुभारंभ किया था, ताकि महिलाओं को इंसाफ के लिये भटकना ना पड़े, लेकिन सरकार के दावों को खोखला करने के लिए झिंझाना पुलिस कोई भी कमी नहीं छोड़ रही है.

झिंझाना में एक पीड़ित नवविवाहित इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही है. नवविवाहिता का आरोप है कि उसकी शिकायत के बाद भी पुलिस आरोपी पक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं कर रहा है. पीड़िता का आरोप है कि उसे कभी थाने तो कभी पुलिस चौकी का चक्कर लगवाया जाता है, जिससे युवती परेशान हो चुका है.

नाबालिग दलित लड़की को अकेला पाकर गांव के ही दो युवकों ने किया गैंगरेप



मामला झिंझाना थाना क्षेत्र के गांव गढ़ी हसनपुर का है. गांव गढ़ी हसनपुर निवासी महिला आर्शी की शादी 6 माह पहले गांव के ही कासिम नामक युवक से हुई थी. इस शादी में पीड़िता के पिता ने अपनी हैसियत के अनुसार दान दहेज भी दिया था, किन पीड़िता आर्शी के ससुरालिया शादी में मिले दान दहेज से खुश नहीं थे. शादी के बाद से ही पति और ससुरालिया विवाहिता को तंग करने लगे और अतिरिक्त दहेज की मांग करने लगे, जिसके बाद से पीड़ितों को प्रताड़ित किया जा रहा है. इसके बाद ससुरालियों ने नवविवाहिता को घर से निकाल दिया और दहेज में 1 लाख रुपए और बुलेट बाइक की डिमांड कर रहे हैं.
ससुरालियों का यह भी कहना है कि अगर वह दहेज लाने में असमर्थ हैं तो वह घर में ना घुसें. आरोप है कि ससुरालिया नवविवाहिता को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं, जिसकी शिकायत लेकर पीड़िता थाने पहुंची थी, लेकिन पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर मामला दर्ज नहीं किया. उल्टा पीड़िता को पुलिस ने कभी थाने और कभी चौकी के चक्कर कटवा रही है. पीड़िता इंसाफ पाने के लिए दर-दर भटक रही है, लेकिन पुलिस पीड़िता की शिकायत पर कोई एक्शन नहीं ले रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज