चिदंबरम मामले पर बोले अखिलेश यादव, सरकार से लड़ना है तो कागज की लड़ाई जीतनी पड़ेगी

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) पर सीबीआई (CBI) के कसते शिकंजे पर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने चुप्पी तोड़ी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 21, 2019, 10:43 PM IST
चिदंबरम मामले पर बोले अखिलेश यादव, सरकार से लड़ना है तो कागज की लड़ाई जीतनी पड़ेगी
माना जा रहा है कि अखिलेश यादव का इशारा दस्तावेजों पर चिदंबरम के पक्ष की मजबूती की तरफ था. (File Photo)
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 21, 2019, 10:43 PM IST
पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम (P. Chidambaram) पर सीबीआई (CBI) के कसते शिकंजे पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने चुप्पी तोड़ी. अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि अगर सरकार से लड़ना है तो 'कागज' की लड़ाई जीतनी पड़ेगी.

वहीं, बुधवार की रात आईएनएक्स मीडिया मामले में आरोपों का सामना कर रहे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तारी के बाद पी चिदंबरम को सीबीआई मुख्यालय ले जाया गया है, जहां उनसे इस मामले में पूछताछ की जाएगी.

अखिलेश ने फिरोजाबाद में एक कार्यक्रम से इतर मीडिया से बातचीत में पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा खारिज किए जाने और उन पर भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के कसते शिकंजे के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा, 'देखिए यह कागज की लड़ाई तो लड़नी पड़ेगी.'

उन्होंने कहा, 'अगर कोई सरकार पीछे पड़ जाए, सरकार के पास सब ताकत है. सरकार की ही पुलिस, सरकार की फौज, सरकार के ही विभाग हैं. सरकार से तभी लड़ पाओगे जब आप कागज पर जीत पाओगे.'

हाईकोर्ट ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी थी
माना जा रहा है कि उनका इशारा दस्तावेजों पर चिदंबरम के पक्ष की मजबूती की तरफ था. बता दें, चिदंबरम को मंगलवार को बड़ा झटका लगा था जब हाईकोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया मामले में उन्हें 'मुख्य षड्यंत्रकारी' बताते हुए उनकी अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी थी.

तब वित्त मंत्री थे चिदबंरम
Loading...

सीबीआई ने 15 मई 2017 को एक प्राथमिकी दर्ज की थी. जिसमें आईएनएक्स मीडिया समूह को 2007 में 305 करोड़ रुपये का विदेशी चंदा प्राप्त करने के लिए दी गई विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में गड़बड़ियों का आरोप लगा था. इस दौरान चिदबंरम वित्त मंत्री थे. इसके बाद 2018 में ईडी ने इस संबंध में धनशोधन का मामला दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें-

अयोध्या सुनवाई: CJI बोले- ये ज़मीन का केस है, धर्मग्रंथ सुनाने की जगह सबूत दीजिए

योगी सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार: इन 18 नए चेहरों को मिली जगह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फिरोजाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 10:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...