CAA Protest: फिरोजाबाद के पीड़ितों को प्रियंका गांधी का पत्र-'अपनों को खोना क्या होता है मैं जानती हूं'
Firozabad News in Hindi

CAA Protest: फिरोजाबाद के पीड़ितों को प्रियंका गांधी का पत्र-'अपनों को खोना क्या होता है मैं जानती हूं'
फिरोजाबाद में CAA Protest के दौरान हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को प्रियंका गांधी का संदेश

फ़िरोज़ाबाद पहुंचे कांग्रेस नेताओं राशिद अल्वी (Rashid Alvi) और पीएल पुनिया (PL Punia) ने मृतक के परिजनों को प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) का पत्र सौंपा साथ ही हर संभव सहायता का भी भरोसा दिया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
फिरोजाबाद. जनपद में CAA Protest के दौरान हुई हिंसा में मारे गए लोगों के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Congress General Secretary Priyanka Gandhi) ने बेहद भावुक पत्र लिखते हुए उन्हें कांग्रेस (congress party) द्वारा हर संभव मदद का आश्वासन दिया. प्रियंका ने अपने पत्र में लिखा 'अपनों को खोने का दर्द क्या होता है मैं जानती हूं.... जब भी और जहां भी हमारी जरुरत हो आवाज देने में हिचक न करें'

congress, priyanka gandhi, firozabad
प्रियंका गांधी का पत्र


हमें आगे बढ़ना है-प्रियंका
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी (Rashid Alvi) और पीएल पुनिया (PL Punia) शुक्रवार देर रात फिरोजाबाद पहुंचे और स्थानीय नेताओं के साथ हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाक़ात की और पीड़ितों को हर संभव मदद का भरोसा दिलाते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का भावुक पत्र सौंपा. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के फ़िरोज़ाबाद जनपद में 20 दिसम्बर को हुए बवाल में छह लोग मारे गए थे. कांग्रेस के नेता राशिद अल्वी और पीएल पुनिया ने कार्यक्रम को पूरी तरह से गोपनीय रखा था क्योंकि मेरठ हिंसा पीड़ितों के परिजनों से मुलाक़ात के लिए जाते समय कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और सांसद राहुल गांधी को पुलिस ने रोक दिया था और वापस लौटा दिया था. बीती देर रात फ़िरोज़ाबाद पहुंचे कांग्रेस नेताओं ने मृतक के परिजनों को प्रियंका गांधी का पत्र सौंपा साथ ही हर संभव सहायता का भी भरोसा दिया. कार्यक्रम इतना गोपनीय था कि किसी को कानों-कान खबर तक नहीं लगी.



प्रियंका गांधी का पत्र पत्र काफी मार्मिक है जिसमें लिखा गया है 'अपनों का खोना क्या होता है मैं दिल की गहराइयों से समझती हूं. आपके साथ जो हुआ है उसकी कोई भरपाई तो नहीं की जा सकती मगर ऐसे मौके पर एक दूसरे का हाथ थामने से भी मन को तसल्ली मिलती है. आप कतई अपने को अकेला न समझें, हौसला न खोएं, हम आपके साथ हैं. हमें आगे बढ़ना है और इंसाफ की मांग को मजबूत करना है. इंसान को बांटने वाली ताकतें मुल्क को कमजोर कर रहीं हैं. हमें अपने प्यारे मुल्क और संविधान को बचाने के लिए लड़ना है जब भी और जहां भी हमारी जरूरत हो आवाज देने में हिचक न करें'. और पत्र के अंत में उन्होंने लिखा 'आपकी साथी प्रियंका गांधी वाड्रा'



ये भी पढ़ें- अखिलेश यादव का बड़ा आरोप- CAA Protest के दौरान पुलिस की गोली से गई सभी की जान
First published: January 4, 2020, 2:18 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading