Home /News /uttar-pradesh /

UP Chunav: उत्तर प्रदेश का वह जिला, जहां से आजादी के बाद से अब तक नहीं बनी कोई महिला विधायक

UP Chunav: उत्तर प्रदेश का वह जिला, जहां से आजादी के बाद से अब तक नहीं बनी कोई महिला विधायक

UP chunav: उत्तर प्रदेश में एक जिला ऐसा भी है, जहां की सभी सीटों पर आजतक कोई महिला उम्मीदवार नहीं जीती है. (सांकेतिक फोटो)

UP chunav: उत्तर प्रदेश में एक जिला ऐसा भी है, जहां की सभी सीटों पर आजतक कोई महिला उम्मीदवार नहीं जीती है. (सांकेतिक फोटो)

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) में विधानसभा चुनाव (UP Chunav) को लेकर सियासी घमासान जारी है. अभी तक यूपी (UP Election 2022) में दो चरण के चुनाव हो गए हैं और पांच चरण की वोटिंग बाकी है. चुनाव दर चुनाव यूपी में महिला विधायकों की संख्या भले ही बढ़ती दिख रही हो, मगर उत्तर प्रदेश का एक जिला ऐसा है, जहां से आजादी के बाद से अब तक एक भी महिला विधायक नहीं बनी है. जी हां, बीते 70 सालों में फिरोजाबाद (Firozabad) जिले के किसी भी विधानसभा क्षेत्र से कोई भी महिला उम्मीदवार नहीं जीती है.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) में विधानसभा चुनाव (UP Chunav) को लेकर सियासी घमासान जारी है. अभी तक यूपी (UP Election 2022) में दो चरण के चुनाव हो गए हैं और पांच चरण की वोटिंग बाकी है. चुनाव दर चुनाव यूपी में महिला विधायकों की संख्या भले ही बढ़ती दिख रही हो, मगर उत्तर प्रदेश का एक जिला ऐसा है, जहां से आजादी के बाद से अब तक एक भी महिला विधायक नहीं बनी है. जी हां, बीते 70 सालों में फिरोजाबाद (Firozabad) जिले के किसी भी विधानसभा क्षेत्र से कोई भी महिला उम्मीदवार नहीं जीती है. चूड़ी नगरी के नाम से मशहूर फिरोजाबाद की सभी सीटों पर पुरुषों का ही दबदबा रहा है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, आजादी के बाद से फिरोजाबाद के सभी विधानसभा क्षेत्रों में अब तक एक भी महिला उम्मीदवार की जीत नहीं हुई है. पिछले सात दशकों में हुए 17 विधानसभा चुनावों में जसराना निर्वाचन क्षेत्र को छोड़कर, कोई भी महिला उम्मीदवार दूसरा स्थान भी हासिल करने में कामयाब नहीं हो पाई है.

हालांकि, इस बार उम्मीद है कि इतिहास बदलेगा, क्योंकि इस बार कांग्रेस ने फिरोजाबाद में तीन महिला उम्मीदवारों और बसपा ने एक को पार्टी का टिकट दिया है. कांग्रेस ने शिकोहाबाद सीट से पार्टी कार्यकर्ता शशि शर्मा, सिरसागंज सीट से प्रतिमापाल और टूंडला (एससी) सीट से योगेश दिवाकर को मैदान में उतारा है. वहीं, मायावती की बसपा ने फिरोजाबाद सदर सीट से सपा के पूर्व विधायक अजीम भाई की पत्नी शाजिया हसन को मैदान में उतारा है. इसके अलावा, सपा और भाजपा दोनों के पास कोई महिला उम्मीदवार नहीं है.

बता दें कि केवल फिरोजाबाद शहर विधानसभा सीट की बात करें तो बीते दो चुनावों से भाजपा का कब्जा रहा है. चूड़ी नगरी के नाम से मशहूर फिरोजाबाद सदर विधानसभा सीट पर 10 साल से भाजपा के मनीष असीजा का कब्‍जा है. 3.79 मतदाताओं वाली इस सीट पर सबसे अधिक मुस्‍लिम वोटर हैं. जिनकी संख्‍या करीब 1.20 लाख है. इसके बाद वैश्‍य हैं, जो करीब 75 हजार हैं. मुस्‍लिम वोटरों की अधिकता की वजह से समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) यहां से दो दशक से मुस्‍लिम प्रत्‍याशी देती आई है. ध्रुवीकरण और वोटों का बंटवारा होने का फायदा भाजपा प्रत्‍याशी मनीष असीजा को मिलता रहा है.

Tags: Assembly elections, Firozabad News, Uttar Pradesh Assembly Elections, ​​Uttar Pradesh News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर