यहां इसलिए हो रही है किसान क्रेडिट कार्ड का लोन माफ करने की मांग!

तीन साल से डूब रही है फसल लेकिन किसी भी किसान को नहीं मिला मुआवजा, कहां से देंगे कर्ज?

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 11:33 AM IST
यहां इसलिए हो रही है किसान क्रेडिट कार्ड का लोन माफ करने की मांग!
घाघरा की बाढ़ में डूबे किसानों के खेत
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 11:33 AM IST
पूर्वांचल के कई जिलों में बाढ़ ने किसानों की फसल बर्बाद कर दी है. नेपाल की ओर से आ रहे पानी के चलते नदियां उफान पर हैं. घाघरा नदी में पानी बढ़ने से गोरखपुर और आजमगढ़ जिले के कई गांवों के किसानों की फसल डूब गई है. किसानों की मांग है कि जिन खेतों के कागजात पर किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के जरिए लोन लिया गया है वो अगर बाढ़ में डूब गए हैं तो उसका कर्ज माफ किया जाए. वरना जब किसान की फसल ही बर्बाद हो गई तो वो लोन कहां से चुकाएगा.

किसानों के हकों के लिए संघर्ष करने वाले अखिलेश सिंह ने बताया कि गोरखपुर और आजमगढ़ के सैकड़ों किसानों की फसल घाघरा नदी की बाढ़ में डुब गई है. गोरखपुर की खजनी तहसील के गांव बसही का 87 हेक्टेयर, समहुतापुर का 77, कटया का 73, घेरवा का 34, बाघाकुंड का 21 हेक्टेयर और बेइली व जितवारपुर गांव के किसानों की फसल डूब गई है. इसी तरह आजमगढ़ जिले में आने वाले गांवों सेमरी, लोहरैया, चनरहा, तहबरगंज, मदरही, दुर्गियापट्टी आदि गांवों की पूरी फसल घाघरा नदी की धारा में समा गई है.

बाढ़ पीड़ितों के लिए 127 दिन धरना देने वाले अखिलेश सिंह

इनके हजारों किसानों के सामने रोटी का संकट है. ऐसे में वे किसान क्रेडिट कार्ड का लोन कैसे चुकाएंगे. सिंह कहा कि इन गांवों के किसानों की फसल तीन साल से बाढ़ में बर्बाद हो रही है. एक भी किसान को 2017 के बाद से मुआवजा नहीं मिला है. जबकि हर साल फसल बाढ़ का पानी बहा ले जाता है. इसलिए तहसीलदार और एसडीएम से मांग की गई है कि उनका कर्ज माफ कर दें.

इस बारे में जब यूपी के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सरकार तो किसानों की फसल बर्बाद होने के बदले मुआवजा दे रही है लेकिन यहां पर किसानों को पैसा क्यों नहीं मिला, इसे दिखवाया जाएगा.

flood in uttar pradesh, agricultural debt, loan waiver, kisan credit card, bank, gorakhpur, azamgarh, farmer, यूपी में बाढ़, किसान, कृषि कर्ज, किसान क्रेडिट कार्ड, बैंक, गोरखपुर, आजमगढ़, up irrigation department, उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग, Compensation, मुआवजा        बाढ़ से बर्बाद हो गई है इन किसानों की फसल

केसीसी पर मिलता है सबसे सस्ता लोन
Loading...

सरकार किसानों को 7 फीसदी प्रति वर्ष की ब्याज दर पर 3 लाख रुपये तक का लोन देती है. वैसे इसकी दर 9 फीसदी है लेकिन 2 फीसदी ब्याज सब्सिडी प्रदान कर रही है. तय समय पर किसान पैसा वापस कर देता है तो 3 फीसदी की और छूट मिलती है. जिससे प्रभावी ब्याज दर सिर्फ 4 परसेंट रह जाती है. इससे सस्ता कोई लोन नहीं मिलता.

ये भी पढ़ें:

क्या आपको मिला खेती-किसानी से जुड़ी इन बड़ी योजनाओं का लाभ?

किसानों को तोहफा! अब सिर्फ इतने दिन में आसानी से मिल जाएगा किसान क्रेडिट कार्ड, जानें इससे जुड़ी सभी बातें

 
First published: July 22, 2019, 11:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...