प्रयागराज में बाढ़ का कहर, जान जोखिम में डाल स्कूल पहुंच रहे हैं बच्चे

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 21, 2019, 12:31 PM IST
प्रयागराज में बाढ़ का कहर, जान जोखिम में डाल स्कूल पहुंच रहे हैं बच्चे
प्रयागराज में बाढ़ का कहर, जान जोखिम में डाल स्कूल पहुंच रहे हैं बच्चे

प्रयागराज (Prayagraj) में गंगा (Ganga) और यमुना (Yamuna) दोनों ही नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है.

  • Share this:
संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में गंगा और यमुना नदियों में आई बाढ़ (Flood) ने अब तबाही मचाना शुरू कर दिया है. कई मोहल्लों और गांवों में बाढ़ का पानी घुसने से वहां के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कई सड़कें और रास्ते भी बाढ़ की चपेट में आ गए हैं.

दो दिन पहले जिन सड़कों पर कार और बाइक तेजी से फर्राटा भरते थे वहां अब नाव चल रही हैं. कई गांवों का संपर्क बाकी जगहों से कट गया है. बिजली और पानी की सप्लाई ठप्प होने के बाद लोग या तो नाव के सहारे बाहर आ रहे हैं या फिर कई फिट जमा पानी में ज़िंदगी को दांव पर लगाकर बाहर निकलते हैं. इसमें सबसे बुरी हालत गंगापार इलाके की फूलपुर तहसील में है.

यहां स्कूली बच्चे अपनी जान जोखिम में डालकर बाढ़ के पानी को पार कर रहे हैं. बच्चे साइकिल लेकर पानी में चलते हैं और नाव पर बैठकर बाढ़ के पानी को पार करने के बाद स्कूल पहुंचते हैं. बच्चे कई बार संतुलन बिगड़ने से पानी में गिर भी जाते हैं.

घरों में घुसा गंगा का पानी

गंगा नदी का पानी अब सड़कों पर बह रहा है. हज़ारों घरों में पानी घुस गया है. ऊंचे-ऊंचे पेड़ बाढ़ के पानी में समा गए हैं. तकरीबन पचास गांवों में जनजीवन बेहाल है. प्रशासन ने नाव चलवा कर लोगों के बाहर निकलने का इंतजाम तो कर दिया है, लेकिन कहीं भी अब तक राहत सामाग्री नहीं बांटी जा सकी है.

मदद के लिए बुलाई गई NDRF की टीम
प्रयागराज में गंगा और यमुना दोनों ही नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. दोनों नदियां अब कभी भी खतरे के निशान से ऊपर जा सकती हैं. कई जगह मदद के लिए एनडीआरएफ (NDRF) की टीम भी बुलाई गई है. राहत की बात सिर्फ इतनी है कि नदियों में बढ़ोतरी की रफ़्तार अब थोड़ी कम हो गई है.वहीं संगम जाने वाले सभी रास्ते और घाट भी बाढ़ के पानी में समाए हुए हैं.
Loading...

खोले गए राहत केंद्र
सरकारी अमले ने दावे तो बड़े बड़े किए हैं, लेकिन ये दावे कागजों पर ज़्यादा और हकीकत में कम नज़र आ रहे हैं. तमाम लोगों को अब रोजमर्रा की ज़रूरतें परेशान करने लगी हैं. ऐसे में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए तकरीबन सौ चौकियां और दो दर्जन से ज़्यादा बाढ़ राहत केंद्र खोले गए हैं. गंगापार के झूंसी इलाके में आई बाढ़ का ग्राउण्ड जीरो पर जायजा लिया हमारे संवाददाता सर्वेश दुबे ने.


ये भी देखें: 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 12:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...