Home /News /uttar-pradesh /

Ghaziabad Explainer :-कोल्ड फ्रंट की दस्तक के बाद गाजियाबाद में शीतलहर का प्रकोप, नगर निगम की लापरवाही आई सामने

Ghaziabad Explainer :-कोल्ड फ्रंट की दस्तक के बाद गाजियाबाद में शीतलहर का प्रकोप, नगर निगम की लापरवाही आई सामने

Filepic 

Filepic 

उत्तरप्रदेश में कोल्ड फ्रंट की दस्तक के बाद गाजियाबाद समेत पूरे प्रदेश में चल रही ठंडी हवाओं से न्यूनतम तापमान सोमवार को पांच डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया था.पहाड़ों से चलने वाली शीतलहर से एनसीआर में लोग दिन में ठिठुरते नजर आए.इसके बाद भी गाजियाबाद नगर निगम की ओर से शहर में सार्वजनिक जगहों पर अलाव की व्यवस्था नहीं की गई है.

अधिक पढ़ें ...

    उत्तरप्रदेश में कोल्ड फ्रंट की दस्तक के बाद गाजियाबाद समेत पूरे प्रदेश में चल रही ठंडी हवाओं से न्यूनतम तापमान सोमवार को पांच डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया था.पहाड़ों से चलने वाली शीतलहर से एनसीआर में लोग दिन में ठिठुरते नजर आए.शाम को तो गलन और बढ़ जाती हैं.इस वजह से तापमान भी औसत मानक (अधिकतम 25 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 10 डिग्री सेल्सियस) से नीचे आ चुका हैं.अधिकतम तापमान 19.8 रहा,जबकि न्यूनतम तापमान 5.0 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया.मौसम वैज्ञानिक के अनुसार अभी तीन चार दिन तक ऐसा ही मौसम बना रहेगा.सोमवार सुबह से धूप जरूर निकली लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ.10 से 15 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं भी चल रही हैं.

    मौसम वैज्ञानिक बताते हैं कि जब भी औसत से तापमान कम होकर पांच डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाए तो यह शीतलहर जैसी स्थिति होती है. आने वाले दिनों में ठंड और बढ़ेगी.इसके बाद भी गाजियाबाद नगर निगम की ओर से शहर में सार्वजनिक जगहों पर अलाव की व्यवस्था नहीं की गई.इस वजह से सबसे अधिक परेशानी उनको हो रही है जो किसी तरह चौराहों पर रात गुजारते हैं.परेशान लोगों ने अब तक अलाव की व्यवस्था न करने को नगर निगम की लापरवाही बताया है.आम तौर पर नवंबर महीना बीतने के बाद से ही नगर निगम की ओर से अलाव की व्यवस्था कर दी जाती थी लेकिन इस बार दिसंबर का महीना बीतने को है और अब तक अलाव कहीं नहीं जलते दिख रहे हैं. इससे लोग को ठिठुरने को मजबूर है.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर