Home /News /uttar-pradesh /

Ghaziabad Explainer :- 1971 युद्ध में पाकिस्तान कों धूल चटाने वाला टैंक टी-55 लगाएगा शहर की शान में चार चांद

Ghaziabad Explainer :- 1971 युद्ध में पाकिस्तान कों धूल चटाने वाला टैंक टी-55 लगाएगा शहर की शान में चार चांद

Filepic 

Filepic 

भारतीय सेना का टैंक टी-55 शहर की शान बनेगा.गाज़ियाबाद निवासियों कों जल्द ही भारतीय सेना का नया गौरव देखने कों मिलेगा.भारतीय सेना का टैंक टी-55 शहर की शान बनेगा.नगर निगम शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन (नया बस अड्डा) के बाहर टैंक को रखवाएगा.नगर निगम शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन (नया बस अड्डा) के बाहर टैंक को रखवाएगा.

अधिक पढ़ें ...

    क्या आपने कभी करीब से भारतीय सेना का टैंक देखा है.आपने भारतीय सेना के टैंको की मारक क्षमता और वीरता के अनेक किस्से और कहानियां सुनी होंगी.पर जल्द ही आप भारतीय सेना का टैंक टी -55 कों बहुत ही करीब से भी देख पाएंगे.जी हां गाज़ियाबाद निवासियों कों जल्द ही भारतीय सेना का नया गौरव देखने कों मिलेगा.भारतीय सेना का टैंक टी-55 शहर की शान बनेगा.नगर निगम शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन (नया बस अड्डा) के बाहर टैंक को रखवाएगा. निगम को केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्री वीके सिंह के प्रयास से टैंक मिलने जा रहा है.अगले 10 से15 दिन में प्रक्रिया पूरी होने के बाद टैंक को रखवा दिया जाएगा.

    नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि भारतीय सेना का टैंक टी-55 विजय स्मारक निशुल्क मिल रहा है.जिस स्थान पर टैंक रखवाया जाएगा उसका निरीक्षण कर लिया है.वहां टैंक रखने से पहले सभी आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.नगर आयुक्त ने बताया कि शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन शहर का केंद्र स्थल है.वहां से कई लाख लोग प्रतिदिन आवागमन करते हैं.शहीदों के सम्मान के साथ-साथ शहर की सुंदरता विजय स्मारक टी-55 टैंक से होगी. 10 से 15 दिन में टैंक मिल जाएगा. लोग परिवार के साथ टैंक देखने आ सकेंगे. उन्होंने बताया कि शहर में देश पर शहीद होने वाले शहीदों के प्रति सम्मानित चिन्ह के स्थापित होने पर पार्षदों ने भी केंद्रीय मंत्री वीके सिंह का आभार जताया है.

    क्या खासियत है टैंक टी 55 की
    टैंक टी 55 की बात करे तो इसका निर्माण रूस में हुआ था.1966 में ये टैंक भारतीय सेना ( Indian Army ) का गौरव बना था. टी-55 टैंक 36 टन वजनी होता है. इसमे चार क्रू मेंबर बैठते हैं. दुश्मन पर बम्पर गोलाबारी के साथ-साथ ही इसमें एंटी एयरक्राफ्ट गन भी लगी होती है.यह टैंक 14 किमी दूर स्थित शत्रु सेना को भी तबाह करने की क्षमता रखता है.पाकिस्तान के साथ हुए 1971 के युद्ध में नैनाकोट, बसंतर एवं गरीबपुर की लड़ाई में इस टैंक ने पाकिस्तानी सेना को करारी शिकस्त दी थी.अब टी – 55 टैंक जल्द गाज़ियाबाद की शान बनेगा.

    रिपोर्ट
    विशाल झा

    Tags: Indian army

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर