Home /News /uttar-pradesh /

गाज़ियाबाद:-जानिए आखिर क्यों सर्दियों में बढ़ जाते हैं ब्रेन स्ट्रोक के मामले,कैसे करें बचाव

गाज़ियाबाद:-जानिए आखिर क्यों सर्दियों में बढ़ जाते हैं ब्रेन स्ट्रोक के मामले,कैसे करें बचाव

X

जानिए आखिर क्यों सर्दियों मे बढ़ जाते हैं ब्रेन स्ट्रोक के मामले और किन लोगों को सबसे ज्यादा खतरा होता है ब्रेन स्ट्रोक होने का. दरअसल गाज़ियाबाद में शीतलहर के कारण ब्रेन हैमरेज के मामले बढ़ गए हैं. पिछले पांच दिनों में 35 लोगों को ब्रेन स्ट्रोक हुआ है.जिनका अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    जानिए आखिर क्यों सर्दियों मे बढ़ जाते हैं ब्रेन स्ट्रोक के मामले और किन लोगों को सबसे ज्यादा खतरा होता है ब्रेन स्ट्रोक होने का. दरअसल गाज़ियाबाद में शीतलहर के कारण ब्रेन हैमरेज के मामले बढ़ गए हैं. पिछले पांच दिनों में 35 लोगों को ब्रेन स्ट्रोक हुआ है.जिनका अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है, जबकि एमएमजी अस्पताल में पहुंचे पांच मरीजों को इलाज की व्यवस्था न होने के चलते रेफर कर दिया गया.यशोदा अस्पताल नेहरू नगर और कौशांबी में अब तक 30 मरीज भर्ती हो चुके हैं.10 दिन पहले एक या दो मामले ही थे.देखने में आया है कि अधिकांश लोगों को ब्रेन स्ट्रोक सुबह चार से छह बजे के बीच आया. डॉक्टरों का कहना है कि जनवरी तक हृदय और मधुमेह रोगियों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है, क्योंकि इनमें ब्रेन स्ट्रोक की आशंका ज्यादा रहती है.

    डॉक्टर बताते हैंकि सुबह उठने पर अचानक रक्त संचार बढ़ जाता है.ऐसे में मस्तिष्क में रक्त प्रवाह बाधित होता है तो कुछ कोशिकाएं तुरंत मर जाती हैं और शेष कोशिकाओं के मरने का खतरा पैदा हो जाता है.समय पर दवा देकर क्षतिग्रस्त कोशिकाओं को बचाया जा सकता है.दरअसल बार-बार ठंड व गर्मी के संपर्क में आने से त्वचा के पास की नसें फैलती-सिकुड़ती हैं. इससे व्यक्ति को सर्दी लगती है. इस दौरान नसों के फटने का डर रहता है. सर्दी लगने पर संक्रमण होने की भी आशंका रहती है.सर्दियों में मॉर्निंग वॉककरना नुकसानदायक हो सकता है.बच्चों व बुजुर्गों की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है.इस वजह से सर्दी-जुकाम, बुखार, नाक बंद होना, सांस में परेशानी, खराश, सिरदर्द व थकान की समस्या भी हो सकती है.

    जानिए ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण
    – शरीर के एक हिस्से पर लकवा मार जाना
    – चेहरा टेढ़ा हो जाना
    – हाथ या पैर का सुन्न होना
    – बोलने व देखने में दिक्कत होना
    – चक्कर व उल्टियां होना
    – तेज सिरदर्द

    इन्हें सतर्क रहने की जरूरत
    – 50 से अधिक उम्र के लोग, उम्रदराज, मधुमेह, कॉलेस्ट्रॉल, रक्तचाप के मरीज
    – स्मोकिंग, शराब पीने वाले वालों को भी अधिक खतरा.
    – ब्रेन स्ट्रोक की फैमिली हिस्ट्री होने पर इसकी संभावना 50% तक बढ़ जाती है.

    ये है उपाय
    – नियमित योग करें.
    – पानी की कमी न हो दें.
    – रोजाना व्यायाम करें.

    Tags: Ghaziabad News

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर