Home /News /uttar-pradesh /

गाजियाबाद: 25वें तल से गिरकर जुड़वा भाइयों की मौत मामले में पुलिस हर एंगल से कर रही जांच

गाजियाबाद: 25वें तल से गिरकर जुड़वा भाइयों की मौत मामले में पुलिस हर एंगल से कर रही जांच

उन्होंने कहा कि इस घटना की जांच कर रही पुलिस को यह भी शक हो रहा है कि कहीं यह किसी मोबाइल गेम की किसी चुनौती से जुड़ी आत्महत्या तो नहीं है. (सांकेतिक फोटो)

उन्होंने कहा कि इस घटना की जांच कर रही पुलिस को यह भी शक हो रहा है कि कहीं यह किसी मोबाइल गेम की किसी चुनौती से जुड़ी आत्महत्या तो नहीं है. (सांकेतिक फोटो)

क्षेत्र के थाना प्रभारी महिपाल सिंह (Mahipal Singh) ने सोमवार को बताया कि दोनों किशोरों के माता-पिता द्वारा इसे दुर्घटना बताये जाने एवं कोई शिकायत दर्ज कराने से इनकार करने के बावजूद पुलिस सभी संभावित कोणों से जांच कर रही है.

    गाजियाबाद. गाजियाबाद पुलिस सिद्धार्थ विहार इलाके (Siddharth Vihar Localities) में एक ऊंची बिल्डिंग के 25वें तल से गिरकर दो जुड़वा भाइयों की मौत (Death Of Twin Brothers) के मामले में अब हर एंगल से जांच कर रही है, ताकि यह पता चल सके कि यह दुर्घटना थी या आत्महत्या. क्षेत्र के थाना प्रभारी महिपाल सिंह (Mahipal Singh) ने सोमवार को बताया कि दोनों किशोरों के माता-पिता द्वारा इसे दुर्घटना बताये जाने एवं कोई शिकायत दर्ज कराने से इनकार करने के बावजूद पुलिस सभी संभावित कोणों से जांच कर रही है.

    उन्होंने कहा कि इस घटना की जांच कर रही पुलिस को यह भी शक हो रहा है कि कहीं यह किसी मोबाइल गेम की किसी चुनौती से जुड़ी आत्महत्या तो नहीं है, क्योंकि दोनों किशोरों को मोबाइल गेम पसंद था. शनिवार देर रात को इस ऊंचे अपार्टमेंट के 24 वें तल पर अपने फ्लैट की बालकनी से दो भाइयों सत्यनारायण एवं सूर्या डी गिर गये थे. उनकी उम्र 14 साल थी. दोनों के गिरने की तेज आवाज पर गार्ड ने जाकर देखा तो दोनों खून से लथपथ पड़े मिले.

    दुर्घटना के दिन वह मुंबई गये हुए थे
    सिंह के अनुसार, उसके बाद गार्ड उस स्थान के ऊपर 25 वें तल पर फ्लैट की बालकनी की लाइट जलती हुई नजर आने के बाद वहां गया और उसने फ्लैट की मालकिन से उनके बच्चों के बारे में पूछा तो घर के लोगों को अपने बेटों की मौत का पता चला. इन दोनों किशोरों के पिता टीएस पलानी ने महज छह महीने पहले ही यह फ्लैट खरीदा था. दुर्घटना के दिन वह मुंबई गये हुए थे.

    बचाने की कोशिश में दूसरा भी गिर गया होगा
    सिंह ने बताया कि मुंबई से लौटने के बाद पलानी एवं उनकी पत्नी ने यह कहते हुए शिकायत दर्ज कराने से इनकार कर दिया कि उनके बेटे दुर्घटनावश गिर गये. किशोरों के माता-पिता ने पुलिस को बताया कि उनके बेटों को चांद देखना अच्छा लगता था, उन्हें मोबाइल पर गेम खेलना पंसद था और वे छिपकली से नफरत करते थे तथा जब कभी वे उसे देख लेते थे तो वे उसे डराकर भगाने का प्रयास करते थे. दोनों मियां-बीवी ने कहा कि उन्हें किसी गड़बड़ी की आशंका नहीं है. उन्होंने कहा कि उनका एक बेटा शायद पहले गिरा हो और उसे बचाने की कोशिश में दूसरा भी गिर गया होगा.

    Tags: Noida news, Noida Police, Uttar pradesh news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर