होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

GHAZIABAD: अपने घरों में खुद को कैद क्यों रखते हैं सोसाइटी वाले, आखिर किस बात का सता रहा डर?

GHAZIABAD: अपने घरों में खुद को कैद क्यों रखते हैं सोसाइटी वाले, आखिर किस बात का सता रहा डर?

गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के इंद्रप्रस्थ आवासीय सोसायटी में रहने वालों का जीना मुहाल हो चुका है. बंदरों के आंतक से सोसाइटी में रहने वाले परेशान हो चुके हैं. पहले तो वेलफेयर एसोसिएशन से इसकी शिकायत की गई, इसके बाद गाजियाबाद विकास प्राधिकरण से भी बंदरों के आतंक के लिए शिकायत दी गई, लेकिन शिकायत के बाद गाजियाबाद विकास प्राधिकरण की तरफ से ना तो किसी तरह का एक्शन हुआ और ना ही किसी ने कोई संज्ञान लिया, जबकि बंदरों का आतंक हर दिन बढ

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट: विशाल झा

गाजियाबाद : गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के इंद्रप्रस्थ आवासीय सोसायटी में रहने वालों की जिंदगी अब बंदरों के भरोसे चल रही है. दरअसल सोसाइटी के अंदर काफी संख्या में बंदर घुस आए हैं. बंदरों की संख्या इतनी ज्यादा है कि सोसाइटी वालों को घरों में कैद होकर रहना पड़ रहा है, क्योंकि कई लोगों पर बंदर अटैक कर चुके हैं.

सोसाइटी वासियों का कहना है कि इसको लेकर पहले तो वेलफेयर एसोसिएशन से इसकी शिकायत की गई. इसके बाद गाजियाबाद विकास प्राधिकरण से भी बंदरों के आतंक के लिए शिकायत दी गई. लेकिन शिकायत के बाद गाजियाबाद विकास प्राधिकरण की तरफ से ना तो किसी तरह का एक्शन हुआ और ना ही किसी ने कोई संज्ञान लिया. जबकि बंदरों का आतंक हर दिन बढ़ता ही जा रहा है.

घर बन गया है जेल खाना
NEWS18 LOCAL की टीम ने सोसायटी में रहने वाले बच्चों से बात की. इस दौरान बच्चों ने बताया कि बंदर कई बार उनके खेलने के सामानों को फेंक देते हैं. हाथ में कोई सामान हो तो छीन लेते हैं. कई बार तो काट भी लेते हैं. जब कोई बचाव करने आता है तो हमला भी कर देते हैं. कई बार तो हमारे घरों में घुसकर सामान तहस-नहस कर देते हैं

जवाब की जगह अधिकारियों ने नंबर ब्लॉक किया
NEWS18 LOCAL ने जब जीडीए के अधिकारियों से जवाब मांगने की कोशिश की तो उन्होंने हमें व्हाट्सऐप पर नंबर ब्लॉक कर दिया. व्हाट्सएप पर ब्लॉक करने से अगर समस्या हल हो जाती तो वाकई खुशी मिलती. सोसाइटी के रहवासी परेशान हैं और जीडीए के अधिकारी इस पूरे मामले से बचते दिख रहे हैं.

Tags: Ghaziabad News, Uttar pradesh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर