लाइव टीवी
Elec-widget

गाजियाबाद: लॉटरी फ्रॉड से भारतीयों को ठग कर पाकिस्तानी हैंडलरों को रकम भेजने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 26, 2019, 8:30 AM IST
गाजियाबाद: लॉटरी फ्रॉड से भारतीयों को ठग कर पाकिस्तानी हैंडलरों को रकम भेजने वाले दो आरोपी गिरफ्तार
यूपी एटीएस को बड़ी कामयाबी मिली है. (फाइल फोटो)

यूपी एटीएस (UP ATS) की नोएडा यूनिट ने गिरफ्तार आरोपियों के 10 पाकिस्तानी हैंडलरों (Pakistani Handlers) से संपर्क का खुलासा भी किया है.

  • Share this:
गाजियाबाद. यूपी एटीएस (UP ATS) ने पाकिस्तानी हैंडलरों (Pakistani Handlers) के निर्देश पर काम करने वाले दो शातिर ठगों को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है. दोनों फर्जी लॉटरी के धंधे में लिप्त थे और उसका पैसा पाकिस्तान भेज रहे थे. दोनों अभियुक्तों प्रकाश उर्फ जय प्रकाश रूहेला और धीरूद्दीन के विरुद्ध एटीएस के लखनऊ थाने में आईपीसी की धारा 420, 467, 468 व 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

गिरफ्तार आरोपी जय प्रकाश शामली जिले के थाना क्षेत्र स्थित रामशाला मोहल्ले का रहने वाला है. वर्तमान में वह गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन स्थित क्लासिक रेजीडेंसी में ब्लॉक एक के फ्लैट संख्या 602 में रह रहा था. दूसरा अभियुक्त धीरूद्दीन मूल रूप से मुजफ्फरनगर जिले के खरड गांव का रहने वाला है और वर्तमान में वह गाजियाबाद के साहिबाबाद थाना क्षेत्र स्थित पसोंडा में रह रहा था. दोनों को गाजियाबाद के मोहन नगर से गिरफ्तार किया गया. दोनों आरोपियों के पास से 32 एटीएम कार्ड, पांच बैंकों की पासबुक और तीन बैंकों के चेकबुक बरामद किए गए हैं.

एटीएस नोएडा यूनिट ने दोनों आरोपियों के 10 पाकिस्तानी हैंडलरों से संपर्क का खुलासा भी किया है. दोनों आरोपी पाकिस्तानी हैंडलरों के बताए खातों में रकम भेजते थे. आशंका जताई जा रही है कि इन पैसों का इस्तेमाल टेरर फंडिंग में किया जा रहा था. पिछले डेढ़ महीने में दोनों आरोपियों द्वारा 15 लाख रुपये पाकिस्तानी हैंडलरों को भेजने की पुष्टि हुई है. एटीएस के मुताबिक, टेरर फंडिंग का नेटवर्क बिहार, छत्तीसगढ़ और कोलकाता तक फैले होने की भी पुष्टि हुई है.

टेरर फंडिंग का शक

एटीएस के एडीजी डीके ठाकुर ने बताया कि दोनों मामू, नजीर और असगर समेत 10 पाकिस्तानी हैंडलरों के संपर्क में थे. शुरुआती जांच में 12 खातों की जानकारी मिली है, जिससे 15 लाख रुपए पाकिस्तान भेजने की पुष्टि हुई है. एटीएस को शक है कि फ्रॉड के जरिए आए पैसों का इस्तेमाल टेरर फंडिंग में हो रहा है.

ऐसे करते थे ठगी
एटीएस के अनुसार, पाकिस्तान में बैठे जालसाज भारत में लोगों को सोशल मीडिया के जरिए लाटरी की बड़ी रकम या या गाड़ी निकलने का झांसा देते थे. जो लोग इनके झांसे में फंसते उन्हें अलग-अलग बैंकों के खतों में पैसा जमा कराते थे. ऐसे खातों की व्यवस्था जय प्रकाश व धीरुद्दीन करते थे. बाद में पैसों को पाकिस्तान के खाते में ट्रांसफर कर दिया जाता था.
Loading...

(इनपुट: ऋषभमणि त्रिपाठी/शक्ति सिंह)

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गाजियाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 8:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com