Home /News /uttar-pradesh /

गाज़ियाबाद कों मिलेगी प्रदूषण से राहत,किसानो कों साधारण भाड़े पर मिलेगी पराली निस्तारण मशीने 

गाज़ियाबाद कों मिलेगी प्रदूषण से राहत,किसानो कों साधारण भाड़े पर मिलेगी पराली निस्तारण मशीने 

Filepic

Filepic

प्रदुषण की वैसे तो कई सारी वजह है पर पराली कों भी इसके पीछे एक वजह मानी जाती है. इसी के चलते  सहकारी गन्ना विकास समिति के द्वारा पराली निस्तारण मशीनें लगाई हैं. इनमें दो मलचर (सात फीट व छह फीट) और एक हाईड्रालिक एमबी प्लाऊ शामिल है. मशीनों के हिसाब से ही अलग-अलग किराया निर्धारित किया गया है. 

अधिक पढ़ें ...

    यूपी में हवा प्रदूषण के मामले में गाज़ियाबाद नंबर वन है. प्रदूषण इतने खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है कि रोजाना जिले के अस्पतालों मे सांस के मरीज बढ़ते जा रहे है. प्रदुषण की वैसे तो कई सारी वजह है पर पराली कों भी इसके पीछे एक वजह मानी जाती है. इसी के चलते सहकारी गन्ना विकास समिति के द्वारा पराली निस्तारण मशीनें लगाई हैं. इनमें दो मलचर (सात फीट व छह फीट) और एक हाईड्रालिक एमबी प्लाऊ शामिल है. मशीनों के हिसाब से ही अलग-अलग किराया निर्धारित किया गया है. सात फीट मल्चर का किराया साढ़े 23 रुपये प्रति घंटा और छह फीट मल्चर व हाईड्रालिक एमबी प्लाऊ का किराया 22 रुपये प्रति घंटा रखा गया है. इन मशीनों के इस्तेमाल से पराली का निस्तारण खेतों में किया जा सकेगा. इससे वातावरण प्रदूषित नहीं होगा. बिना जलाए किसानों को पराली की समस्या से निजात मिलेगी, जो भी किसान इच्छुक हों, वे समिति में आकर मशीन किराए पर ले सकते हैं.

    लेकिन अब तक जागरूकता मे कमी होने के कारण किसान सहकारी गन्ना विकास सिमिति तक मशीन लेने नहीं आ पा रहे हैं. पिछली बार इससे ज्यादा संख्या में किसान मशीन लेने आये थे. अभी गन्ना काटना शुरू ही हुआ है अभी धीरे-धीरे किसान इस नीति का फायदा उठा सकेंगे. बाजारों मे यह मशीन काफी महंगी आती है इसलिए गरीब किसान के लिए इससे खरीदना मुश्किल हो जाता है लेकिन इस नीति के कारण किसान साधारण किराये पर मशीन उपलब्ध है.जिससे प्रदूषण मे एक बड़ी राहत जरूर मिलेगी.

    Tags: Environment, Pollution, Stubble Burning, गाजियाबाद

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर