हापुड़: किसान पर बरपा आबकारी विभाग का कहर, हिरासत में पिटाई से हुई मौत

परिजनों ने आबकारी इंस्‍पेक्‍टर पर रिश्‍वत न देने के चलते पिटाई से मौत का आरोप लगाते हुए गढ थाने के बाहर जमकर हंगामा किया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 23, 2018, 9:03 AM IST
हापुड़: किसान पर बरपा आबकारी विभाग का कहर, हिरासत में पिटाई से हुई मौत
किसान लेखराज की हत्या के बाद थाने के बाहर शव रखकर प्रदर्शन करते परिजन
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 23, 2018, 9:03 AM IST
हापुड़ जनपद में शराब माफियाओं पर नकेल कसने के बजाय आबकारी विभाग किसानों पर कच्‍ची शराब बनाने का आरोप लगाकर कहर बरपा रहा है. कच्ची शराब बनाने के आरोप में हापुड़ आबकारी विभाग ने एक किसान की इतनी बेरहमी से पिटाई की कि उसकी मौत हो गई. इस बीच परिजनों ने आबकारी इंस्‍पेक्‍टर पर रिश्‍वत न देने के चलते पिटाई से मौत का आरोप लगाते हुए गढ थाने के बाहर जमकर हंगामा किया. जिसके बाद पुलिस ने आबकारी विभाग के 7 सिपाहियों पर हत्‍या की रिपोर्ट दर्ज की है.

दरअसल, जिले में अवैध कच्‍ची शराब पर रोक लगाने में नाकाम हापुड़ जनपद के आबकारी अधिकारियों ने एक किसान को कच्‍ची शराब बनाने का आरोप लगाकर हिरासत में लेकर जमकर पीटा. जिसके बाद किसान की हालत बिगड़ गई और आबकारी विभाग की हिरासत में ही किसान की मौत हो गई.

मामला गढमुक्‍तेश्‍वर के कल्‍याणपुर मढैया का है, जहां आबकारी सिपाहियों ने खेत पर काम कर रहे एक किसान लेखराज को कच्‍ची शराब बनाने के आरोप में हिरासत में लिया और खेत पर ही उसकी जमकर पिटाई की. जिसके बाद उसे अपने साथ ले गए. किसान के परिजन जब आबकारी कार्यालय पहुंचे तो वहां लेखराज बेहोशी की हालत में मिला. जिसे परिजन अस्‍पताल लेकर पहुंचे तो डॉक्‍टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. किसान लेखराज की मौत के बाद परिजनों ने शव को थाने के बाहर रखकर जमकर हंगामा किया. परिजनों का आरोप है कि आबकारी विभाग ने लेखराज को छोड़ने के लिए एक लाख रूपये की मांग की थी, जिसमें से 50 हजार रूपये दे भी दिए, लेकिन बाकि 50 हजार न मिलने पर आबकारी सिपाहियों ने लेखराज को बेरहमी से पीटा. जिससे उसकी मौत हो गई.

परिजनों ने आबकारी इंस्‍पेक्‍टर सीमा पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं. परिजन आबकारी टीम पर कार्यवाही की मांग को लेकर कई घंटे तक थाने पर हंगामा करते रहे. जिसके बाद पुलिस ने आबकारी विभाग के 3 नामजद व 4 अज्ञात सिपाहियों के खिलाफ हत्‍या की रिपोर्ट दर्ज कर ली है. लेकिन परिजन इससे भी शांत नही हुए और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे. बाद में उच्‍च अधिकारियों के दखल के बाद ग्रामीण शांत हुए.

वहीं, आबकारी विभाग के अधिकारी मामले पर चुप्‍पी साधे हुए है और जिले के अधिकारी मीडिया के कैमरे से नजर बचाते घूम रहे हैं.

(रिपोर्ट: विपिन गिरी)

यह भी पढ़ें:
Loading...
खबर का असर: शामली जहरीली शराब कांड में चौकी प्रभारी समेत 4 पुलिसकर्मी निलंबित
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर