रोंगटे खड़े करने वाली है हापुड़ पीड़िता की कहानी, 5 साल में 16 लोगों ने किया रेप

पीड़िता के साथ यातनाओं की शुरुआत 2011 में हुई जब उसके पिता और चाची ने उसे महज 10 हजार में बेच दिया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 14, 2019, 6:13 PM IST
रोंगटे खड़े करने वाली है हापुड़ पीड़िता की कहानी, 5 साल में 16 लोगों ने किया रेप
दिल्ली के अस्पताल में चल रहा पीड़िता का इलाज
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 14, 2019, 6:13 PM IST
पुलिस की अनदेखी से आहत होकर खुद को आग लगाकर दिल्ली के एक निजी अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रही हापुड़ गैंगरेप पीड़िता की कहानी रोंगटे खड़े कर देने वाली है. दिल्ली महिला आयोग द्वारा मामले का संज्ञान लिए जाने के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. एफआईआर के मुताबिक, पीड़िता के साथ 5 साल में 16 लोगों ने रेप किया. इतना ही नहीं एक रेपिस्ट से उसे बच्चा भी पैदा हुआ.

पीड़िता के साथ यातनाओं की शुरुआत वर्ष 2011 में हुई जब उसके पिता और चाची ने उसे महज 10 हजार में बेच दिया था. खरीदने वाले ने बाद में उससे शादी कर ली. साल 2014 के बाद से उसके साथ जो यौन प्रताड़ना का घिनौना दौर शुरू हुआ तो वह 28 अप्रैल को उसके द्वारा आत्मदाह के प्रयास के बाद सबके सामने आया.



बाबूगढ़ महिला थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक, पीड़िता नीलम (बदला हुआ नाम) की शादी आज से 10 साल पहले उसके पिता ने 14 साल के उम्र में हापुड़ के एक अधेड़ से कर दी थी. शादी के एक साल बाद जब उसे बेटा पैदा हुआ तो उसके पति ने उसे छोड़ दिया और वह अपने पिता के घर वापस आ गई. इसके बाद उसके पिता और चाची ने उसे 10 हजार में एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया. वर्ष 2011 में उसने उससे शादी कर ली.

पीड़ि‍ता की दुख भरी दास्‍तान

पीड़‍िता ने एफआईआर में कहा, 'दूसरी शादी से भी मुझे एक बेटा हुआ, लेकिन मेरे साथ यातनाओं की शुरुआत 2014 में हुई. मेरे पति ने अपने मालिक से लिए हुए कर्ज को 10 प्रतिशत ब्याज के साथ चुकाने में असमर्थ हो गया था. मेरे परिवार की आर्थिक तंगी का फायदा उठाते हुए उसने मेरे साथ बार-बार रेप किया. साथ ही धमकी भी दी तो मुझे गांव में बदनाम कर देगा. रेप के बाद उसने तीसरे बच्चे को जन्म दिया.'

पति ने कहा- शांत रहो
शिकायत के अनुसार, पीड़ि‍ता ने रेप की बात पति को भी बताई थी, लेकिन उसने शांत रहने को कहा और दूसरी जगह मजदूरी करने लगा. एफआईआर में उसने 2016 में शामू नामक व्यक्ति द्वारा उसके साथ रेप करने की बात भी कही गई है. घर में अकेला देखकर शामू ने उसके साथ रेप किया. इसके बाद वर्ष 2017 में उसके साथ 14 लोगों ने अलग-अलग समय में उसके साथ रेप किया. आरोपियों के नाम भी एफआईआर में लिखे हैं. इनके नाम हैं गुड्डू, मधु, गुरमीत, रामू, अनुज, गोपाल, डॉ सुभाष, डॉ प्रवीण, अरुण, सौरभ नागीनु, केदार और उसका एक साथी.
Loading...

CM हेल्‍पलाइन से भी नहीं मिली मदद
नीलम ने अपनी शिकायत में यह भी आरोप लगाया है कि पुराने और वर्तमान एसएचओ मुकेश और राजेश भारती ने उसकी शिकायतों को नजरंदाज किया था. यहां तक कि उसने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर पर भी शिकायत की लेकिन कोई मदद नहीं मिली. नीलम के मुताबिक, उसका पति प्रमोद सब कुछ जानता था, लेकिन उसने कुछ नहीं किया. पीड़ि‍ता ने बताया कि एक भंडारे में काम करने के दौरान उनकी एक व्यक्ति से मुलाकात हुई, जिससे उन्‍होंने अपनी आपबीती सुनाई. बकौल पीड़‍िता उस शख्‍स ने उन्‍हें मदद का भरोसा दिलाया था. इस बीच, आरोपी उन्‍हें जान से मारने की धमकी देने लगे. इसके बाद दोनों ने गांव छोड़ दिया और नवंबर 2018 में मुरादाबाद में साथ रहने लगे. लेकिन, यहां भी आरोपी उन्‍हें फोन कर धमकी देने लगे थे. पीड़ि‍ता ने बताया कि आखिरकार उन्‍होंने इससे तंग आकर 28 अप्रैल को खुद को ख़त्म करने की ठान ली.

बाबूगढ़ के एसएचओ राजेश भारती ने बताया कि इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है और जांच की प्रक्रिया जारी है. उधर, गांव वाले पीड़िता के आरोपों को नकार रहे हैं. उसके दूसरे पति का कहना है कि शादी के बाद से ही छोटी-छोटी बात पर वह पुलिस को बुला लेती थी. इस बार उसने इतना गंभीर आरोप इसलिए लगाया है, क्योंकि अब उसके पास कोई कहीं जाने का रास्ता नहीं बचा था.

इस बीच अब राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी यूपी पुलिस के डीजीपी को पत्र लिखकर रिपोर्ट मांगी है.

ये भी पढ़ें-

क्या बीजेपी से हाथ मिला लेंगी मायावती? अखिलेश यादव ने दिया ये जवाब

मदर्स डे पर विदेशी सैलानियों ने यमुना की सफाई कर दिया स्वच्छता का उपहार

रेप का आरोपी गठबंधन प्रत्याशी फरार, लोग परेशान किसे करें वोट?
 एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...