अब नेता पढ़ेंगे सियासत का पाठ, यहां खुलेगा देश का पहला पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट

देश के पहले सियासी स्कूल को बनाने के लिए पहली किश्त के तौर पर 198 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है. इसे दो साल में तैयार किया जायेगा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 10, 2018, 11:48 PM IST
अब नेता पढ़ेंगे सियासत का पाठ, यहां खुलेगा देश का पहला पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट
योगी कैबिनेट फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: October 10, 2018, 11:48 PM IST
देश की सियासत में सत्ता का रास्ता कहे जाने वाला उत्तर प्रदेश अब नेताओं को राजनीति का 'क ख ग'  सिखाएगा. इसके लिए योगी सरकार गाजियाबाद में देश का पहला पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट खोलने जा रही है. बुधवार को योगी सरकार की कैबिनेट बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई.

योगी सरकार ने देश के पहले सियासी स्कूल को बनाने के लिए पहली किश्त के तौर पर 198 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है. इसे दो साल में तैयार किया जायेगा. इतना ही नहीं पॉलिटिकल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के लिए कोर्स और फैकल्टी डिसाइड करने के लिए एक समिति का गठन भी किया गया है. यह समिति इस ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के पाठ्यक्रम की रूपरेखा तय करेगी.

कैबिनेट बैठक में मौजूद नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना ने बताया कि इस इंस्टिट्यूट का मकसद नेताओं को पॉलिटिकल ट्रेनिंग देना है. यह ट्रेनिंग देश के सीनियर नेता और राजनीति के विशेषज्ञ देंगे. सुरेश खन्ना ने इसे गाजियाबाद में बनाने के पीछे का मकसद भी बताया. उन्होंने कहा कि गाजियाबाद देश की राजधानी दिल्ली के बेहद करीब है. लिहाजा दूसरे देशों के राजदूत और राष्ट्राध्यक्ष भी यहां बुलाए जा सकते हैं.

‘टैक्सपेयर पैसा बर्बाद कर रही है सरकार’

वहीं सरकार के इस फैसले पर विपक्ष सवाल उठा रहा है. समाजवादी पार्टी का कहना है कि सरकार सबसे पहले विश्वविदयालयों में छात्र-संघ का चुनाव कराए. क्योंकि यूनिवर्सिटी का छात्र संघ चुनाव नेताओं के लिए नर्सरी है. इस देश में जितने भी बड़े नेता हुए उन्होंने किसी भी ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट से प्रशिक्षण नहीं लिया. नेता छात्रों की राजनीति से आते हैं. सपा ने कहा कि जनता के बीच उनके समस्यों के साथ संघर्ष कर नेता बनते हैं. सरकार टैक्सपेयर के पैसों को बर्बाद कर रही है.

‘संघ की विचारधारा थोप रही है सरकार’

उधर योगी सरकार का मानना है कि इससे राजनीति में ऐसे नेताओं की एंट्री होगी जिन्हें सियासत का नहीं मतलब पता होगा. हालांकि कांग्रेस इसे संघ की विचारधारा थोपने का आरोप लगा रही है. कांग्रेस का कहना है कि सरकार इस ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के जरिए आरएएस की विचारधारा को आगे बढ़ाने का काम करेगी. नेता बनने के लिए ऐसे किसी भी ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट की जरूरत नहीं है.
Loading...
ये भी पढ़ें:

योगी सरकार ने निरस्त की 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती, ये रहा कारण

योगी ने 18 यूनिवर्सिटी के शिक्षकों को दिया बड़ा तोहफा, कैबिनेट से 12 प्रस्ताव पास
पूरी ख़बर पढ़ें
Loading...
अगली ख़बर