Home /News /uttar-pradesh /

know how many societies of ghaziabad are facing the danger of fire revealed in the investigation of the fire department

जानिए गाजियाबाद की कितनी सोसाइटी के लोगों पर मंडरा रहा है आग का खतरा,दमकल विभाग की जांच में हुआ खुलासा

X

अगर आप गाज़ियाबाद में रहते हैं तो सतर्क हो जाइये क्योंकि आपकी जान पर आग का खतर मंडरा रहा है.जिले में लगभग सौ से अधिक सोसाइटी ऐसी हैं जिनके पास अग्निशमन विभाग का एनओसी मतलब अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं है.बात यहीं खत्म नहीं होती बल्कि इनमें से कुछ सोसाइटी ऐसी भी हैं जिनमें आ

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट :- विशाल झा

    गाज़ियाबाद:-अगर आप गाज़ियाबाद में रहते हैं तो सतर्क हो जाइये क्योंकि आपकी जान पर आग का खतर मंडरा रहा है.जिले में लगभग सौ से अधिक सोसाइटी ऐसी हैं जिनके पास अग्निशमन विभाग का एनओसी मतलब अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं है.बात यहीं खत्म नहीं होती बल्कि इनमें से कुछ सोसाइटी ऐसी भी हैं जिनमें आग बुझाने के उपकरण भी खराब पड़े हैं और कितनों में उपकरण हैं ही नहीं.ऐसे में आग लगने पे बड़ी संख्या में लोगों की जान भी जा सकती है.इस सब पर दमकल विभाग की नजर है.इसलिए लगभग 16 सोसाइटी के खिलाफ विभाग ने मुख्य न्यायिक मेगीस्ट्रेट कोर्ट में मुकदमा भी दायर किया है.

    दरअसल फायर एनओसी हर पांच साल में ली जाती है.जिसकी जिम्मेदारी बिल्डर, आर. डब्लू. ए, एओए की होती है.लेकिन अपनी जिम्मेदारी को भुलाकर लोगों की जान से खिलवाड़ किया जा रहा है.मुख्य अग्निशमन अधिकारी सुनील कुमार सिंह ने न्यूज़ 18 लोकल को बताया कि हमारे विभाग द्वारा जिले की 295 सोसायटियों का निरीक्षण किया गया जिनमें से 113 सोसायटियों में खामियां मिलीं हैं, जिसको ठीक कराने के लिए कहा गया.लगभग 113 सोसायटियों के खिलाफ नोटिस भी जारी किया गया.इसके अलावा विभाग लगातार लोगों से अपील करता है कि ऊपर छत पर जाने का रास्ता और नीचे आने का रास्ता खुला हुआ होना चाहिए क्योंकि आग लगने की घटना पर लिफ्ट बंद हो जाती है.

    कुछ सोसाइटी ऐसी हैं जिनमें आग बुझाने के उपकरण ही नहीं हैं.इनमें तुलसी निकेतन कॉलोनी, न्याय खंड, ज्ञान खंड, वैशाली सेक्टर 4, मंदाकिनी टॉवर समेत कई अन्य सोसायटियां हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर