होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Mental Health: प्यार में खोए रहने के कारण युवा भूलने लगे है रूटीन काम, पढ़ें आपके सेहत से जुड़ी खबर

Mental Health: प्यार में खोए रहने के कारण युवा भूलने लगे है रूटीन काम, पढ़ें आपके सेहत से जुड़ी खबर

Ghaziabad News: अनुपस्थित दिमाग वह है. जहां कोई व्यक्ति अत्यधिक सावधान या भूलने वाला व्यवहार दिखाता है. अक्सर थॉट्स ऑक् ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- विशाल झा

गाजियाबाद: “पहला नशा, पहला खुमार, नया प्यार है नया इंतजार” अक्सर इन गीतों में आपने हीरो को हीरोइन की मोहब्बत में खोते (Lost in Love) हुए देखा होगा. यह सब काफी अच्छा लगता है. लेकिन जब बात रील की जगह रियल लाइफ (Real Life ) की करें तो काफी चीजें बदल जाती है. जी हां, अक्सर प्यार में खोए रहने के कारण हम अपनी नई चीजों को सीखने की चाहत को कम कर देते हैं. कई बार अब्सेंट माइंड के शिकार हो जाते हैं. जिसके कारण से रोजमर्रा में स्कूल, कॉलेज या दफ्तर में हम अपना बेहतर परफॉर्मेंस नहीं दे पाते हैं. क्या आपने कभी सोचा है कि, ऐसा क्यों होता है, आज हम आपके लिए लाए हैं इन्हीं सारे सवालों के जवाब लेकर आए हैं. News 18 Local ने बात की जिला एमएमजी अस्पताल के मनोचिकित्सक डॉ साकेत जी से खास बातचीत की. जिसमें उन्होंने बताया कि, ऐसा क्यों होता है और इस परेशानी से निकलने के क्या उपाय है.

क्या होता है अनुपस्थित दिमाग?
अनुपस्थित दिमाग वह है. जहां कोई व्यक्ति अत्यधिक सावधान या भूलने वाला व्यवहार दिखाता है. अक्सर थॉट्स ऑक्यूपाइड (Thoughts Occupied) करने के कारण व्यक्ति एक ही चीज पर फोकस कर पाता है. जिसके कारण वह अपने आसपास की घटनाओं से बेखबर हो जाता है. यह एक मानसिक स्थिति है. इस कारण से व्यक्ति हाल में हुई घटनाओं को कम याद रखता है. उनके कार्य क्षेत्र में उनकी सक्रियता घट जाती है. जिसके कारण आत्मविश्वास गिरने लगता है और व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है. ऐसा नहीं है कि, ये सिर्फ प्यार में होता है, नहीं बल्कि इसके कई और अन्य कारण हो सकते हैं. हालांकि किसी के प्यार में ऐसा तब होता है. जब आप अपने पार्टनर के बारे में ज्यादा सोचने लग जाते हैं.

इस स्थिति से कैसे बचाव करें
ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए आपको अच्छा संगीत सुनना चाहिए. अपने आप को व्यस्त रखना चाहिए. आपके मन में जो थॉट्स आ रहे हैं. उन्हें किसी कागज पर नोट डाउन कर लेना चाहिए. जिससे की वो आपको याद रहे. परेशानी का निदान ना होने पर आपको मनोचिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए. अगर आप अपने स्लीप पैटर्न (Sleep Pattern) का ख्याल रखेंगे, तो ऐसी चीजें आपकी सेहत पर ज्यादा असर नहीं डालेगी.

Tags: Depression, Ghaziabad News, Love Stories, Love Story, Mental health

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें