vidhan sabha election 2017

नहीं पहुंचा ऑर्डर, अब सोमवार को हो सकती है तलवार दंपति की रिहाई

News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 9:02 PM IST
नहीं पहुंचा ऑर्डर, अब सोमवार को हो सकती है तलवार दंपति की रिहाई
नूपुर ने कहा कि वे आरुषि के नाम पर एनजीओ खोलना चाहती हैं.
News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 9:02 PM IST
देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री नोएडा के आरुषि-हेमराज हत्याकांड में तलवार दंपति की रिहाई टल सकती है. कोर्ट ऑर्डर नहीं पहुंचने के कारण उनकी रिहाई टल सकती है. ऐसी स्थिति में वे सोमवार को रिहा होंगे.

बता दें गुरुवार को इलाहबाद हाईकोर्ट ने देश को झकझोर देने वाले आरुषि-हेमराज हत्याकांड में संदेह के आधार पर आरुषि के पिता डॉ राजेश तलवार और डॉ नुपूर तलवार को दोषी न मानते हुए बरी कर दिया था.

हाईकोर्ट के फैसले के बाद तलवार दंपतियों के साथ-साथ परिजनों में भी खुशी की लहर है. जेल सुपरिंटेंडेंट दधिराम मौर्य ने बताया कि शुक्रवार को ऑडर आने के बाद उन्हें रिहा कर दिया जाएगा.

बता दें अभी तलवार के वकीलों के हाइकोर्ट से आर्डर सर्टिफाइड कॉपी नही मिली है. कॉपी मिलने के बाद हार्ड कॉपी गाजियाबाद सीबीआई कोर्ट में एप्लिकेशन लगाएगा. फिर कोर्ट आर्डर कॉपी को वेरीफाई करेगा. जिसके बाद राजेश और नुपूर को रिलीज़ किया जाएगा. अगर आर्डर 4 बज कर 59 मिनट से पहले डासना जेल पहुंचा तभी रिहाई होगी.

क्या था पूरा मामला?

6 नवम्बर 2013 को गाजियाबाद की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने आरुषि-हेमराज मर्डर केस में तलवार दंपति को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. इस फैसले के खिलाफ तलवार दंपति ने हाईकोर्ट में अपील की थी.

16 मई 2008 को दिल्ली से सटे नोएडा के जवलायु विहार स्थित घर में 14 साल की आरुषि का शव मिला. जबकि 17 मई को नौकर हेमराज (45) की डेड बॉडी छत पर मिली थी. आरूषि की गला रेतकर हत्या की गई थी.

तलवार दंपति ने इस फैसले को इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. जस्टिस बीके नारायण और जस्टिस एके मिश्रा ने इस साल 7 सितंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

कौन हैं तलवार दंपति

तलवार दंपति दिल्ली-एनसीआर के जाने माने डेंटिस्ट रहे हैं. डॉ राजेश पंजाबी परिवार से हैं और नुपुर महाराष्ट्रियन फैमिली से हैं. नुपूरर एयरफोर्स के अफसर की बेटी हैं और डॉ. राजेश हार्ट स्पेशिलिस्ट के बेटे हैं. आरुषि का जन्म 1994 में हुआ था.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर