अपना शहर चुनें

States

गाजीपुर: अस्पताल में इलाज के बजाए बांधे जा रहे हैं मवेशी

गांवों में लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के नाम पर बेशक हर वर्ष करोड़ों रुपये खर्च हो रहे हों लेकिन लोगों को जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. अस्पताल में इलाज के बजाए मवेशी बांधे जा रहे हैं. लाखों की लागत से बना अस्पताल उपले रखने का गोदाम बना हुआ है.

  • Share this:
गांवों में लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के नाम पर बेशक हर वर्ष करोड़ों रुपये खर्च हो रहे हों लेकिन लोगों को जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. अस्पताल में इलाज के बजाए मवेशी बांधे जा रहे हैं. लाखों की लागत से बना अस्पताल उपले रखने का गोदाम बना हुआ है.

ऐसा ही एक मामला गाजीपुर में सामने आया है जहां मुहम्मदाबाद तहसील की बालापुर पीएचसी में इलाज नहीं होता वहां मवेशी बांधे जाते हैं. बालापुर पीएचसी उपले रखने का गोदाम बन चुका है. दिलचस्प है कि सालों पहले लाखों की लागत से बना ये प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को आज तक कार्यदायी संस्था ने स्वास्थ्य विभाग को हैंडओवर ही नहीं किया.

ऐसे में लोग अनाधिकृत रूप से पीएचसी में मवेशी बांध रहे हैं. इतना ही नहीं पीएचसी में उपले स्टोर किए जा रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की लापरवाही से लाखों की लागत से बनी ये पीएचसी तबेले में तब्दील नजर आ रही है.



पीएचसी में इलाज के बजाय मवेशी बांधने के मामले में स्वास्थ्य महकमें के अफसर पल्ला झाड़ने का बहाना खोज रहे हैं. ऐसे में पूरे मामले को लेकर स्वास्थ्य विभाग पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज