...तो बच सकती थी कर्नल एमएन राय की जान, देखिए अंतिम संस्‍कार की तस्‍वीरें

शहीद हुए युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित कर्नल एमएन राय अगर आतंकी के परिजनों की बात पर यकीन करने के बजाय स्टैंडिंग ऑपरेशनल प्रोसीजर (एसओपी) का पूरी तरह पालन करते तो आज वह जिंदा होते। गुरूवार को पूरे सम्‍मान के साथ दिल्‍ली में उनका अंतिम संस्‍कार किया जा रहा है। आर्मी चीफ दलबीर सिंह सुहाग भी राय को श्रद्धांजलि देने के लिए अंतिम संस्‍कार में शमिल हुए।

News18
Updated: January 29, 2015, 11:55 AM IST
...तो बच सकती थी कर्नल एमएन राय की जान, देखिए अंतिम संस्‍कार की तस्‍वीरें
शहीद हुए युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित कर्नल एमएन राय अगर आतंकी के परिजनों की बात पर यकीन करने के बजाय स्टैंडिंग ऑपरेशनल प्रोसीजर (एसओपी) का पूरी तरह पालन करते तो आज वह जिंदा होते। गुरूवार को पूरे सम्‍मान के साथ दिल्‍ली में उनका अंतिम संस्‍कार किया जा रहा है। आर्मी चीफ दलबीर सिंह सुहाग भी राय को श्रद्धांजलि देने के लिए अंतिम संस्‍कार में शमिल हुए।
News18
Updated: January 29, 2015, 11:55 AM IST
शहीद हुए युद्ध सेवा मेडल से सम्मानित कर्नल एमएन राय अगर आतंकी के परिजनों की बात पर यकीन करने के बजाय स्टैंडिंग ऑपरेशनल प्रोसीजर (एसओपी) का पूरी तरह पालन करते तो आज वह जिंदा होते। गुरूवार को पूरे सम्‍मान के साथ दिल्‍ली में उनका अंतिम संस्‍कार किया जा रहा है। आर्मी चीफ दलबीर सिंह सुहाग भी राय को श्रद्धांजलि देने के लिए अंतिम संस्‍कार में शमिल हुए।



बताया जा रहा है कि इस मुठभेड़ में कर्नल राय सहित दो सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे और हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकी आबिद और शिराज भी मारे गए थे। सैन्य अधिकारियों व स्थानीय लोगों के मुताबिक, मंगलवार को मुठभेड़ स्थल पर आतंकी आबिद के पिता जलालुद्दीन ने कर्नल राय को बताया कि उनका पुत्र आत्मसमर्पण करना चाहता है।



जलालुद्दीन के दूसरे पुत्र उवैस ने भी सुरक्षाकर्मियों से आग्रह किया कि वे फायरिंग रोक दें। उसका भाई लड़ना नहीं चाहता, वह समर्पण करने को तैयार है। आतंकी के परिजनों के यकीन दिलाए जाने पर कर्नल राय ने अपने जवानों को फायरिंग रोकने को कहा। इसके बाद कर्नल राय खुद आतंकी का समर्पण कराने के लिए उसके ठिकाने की तरफ बढ़े तो आतंकी ने मौका पाकर फायरिंग कर दी।



इसमें कर्नल जख्मी हो गए, लेकिन जमीन पर गिरने से पहले उन्होंने अपने साथियों संग जवाबी फायर कर दोनों आतंकियों को भी मार गिराया। सूत्रों के अुनसार, मकान में छिपे आतंकियों ने मान लिया था कि वह मारे जाएंगे। उन्होंने चुपचाप मरने के बजाय सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाते हुए मरने का रास्ता चुना।
Loading...



आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.


<img src="http://static.hindi.news18.com/pix/2015/01/Rai.jpg ">



First published: January 29, 2015, 11:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...