अपना शहर चुनें

States

रेप के आरोप में फरार गठबंधन प्रत्याशी ने कभी बाहुबली मुख्तार परिवार संग शुरू की थी सियासी पारी

बसपा प्रत्याशी अतुल राय की फाइल फोटो
बसपा प्रत्याशी अतुल राय की फाइल फोटो

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के करीबी और इस बार उनकी सियासी विरासत को सहेजने मैदान में उतरे अतुल राय की इलाके में एक दबंग की छवि है.

  • Share this:
घोसी लोकसभा सीट से गठबंधन के तहत बसपा प्रत्याशी अतुल राय इन दिनों मीडिया की सुर्ख़ियों में हैं. आखिरी चरण में यूपी की घोसी लोकसभा सीट पर 19 मई को मतदान होना है, लेकिन अतुल राय चुनाव प्रचार से गायब हैं. वजह है उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट. दरअसल, गठबंधन प्रत्याशी अतुल राय पर रेप का आरोप है और वे गिरफ्तारी से बचने के लिए भूमिगत हो चुके हैं.

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के करीबी और इस बार उनकी सियासी विरासत को सहेजने मैदान में उतरे अतुल राय की इलाके में एक दबंग की छवि है. अतुल राय गाजीपुर जिले के भांवरकोल थानाक्षेत्र के वीरपुर गांव के एक बड़े किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं. इनका परिवार गांव के प्रधान पद पर लगातार 20 वर्षों तक काबिज रहा. जब यह सीट सुरक्षित घोषित हो गई तो इन्हीं के समर्थकों का अब प्रधानी पर कब्ज़ा है.

कहा जाता है कि अतुल राय अंसारी परिवार के काफी करीब हैं और इसी परिवार के साथ उन्होंने अपनी राजनीति की पारी भी शुरू की. 2017 चुनाव के पहले अतुल राय ने बसपा का दामन थाम लिया था और जमानियां विधानसभा सीट से चुनाव भी लड़ा लेकिन हार गए. यह भी कहा जाता है कि कौमी एकता दल का बसपा में विलय भी अतुल राय ने ही कराया. इतना ही नहीं जमानिया नगरपालिका चेयरमैन पर बसपा को जीत दिलाने म,इ भी उनकी भूमिका रही. अतुल राय ने दिलदारनगर नगर पंचायत में भी अपने करीबी को चेयरमैन बनवाने में सफल हुए.




इस बार बीजेपी के हरि नारायण राजभर से है मुकाबला

घोसी सीट पर भारतीय जनता पार्टी के हरि नारायण राजभर महागठबंधन प्रत्‍याशी अतुल राय को टक्कर दे रहे हैं. रेप मामले में अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए राय ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन उन्हें वहां से निराशा हाथ लगी. कोर्ट ने उन्हें गिरफ्तारी पर स्टे देने से इनकार कर दिया. फिलहाल कहा जा रहा है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए राय भूमिगत हो गए हैं. इस सीट पर भाजपा जहां आक्रामक होकर अपना चुनाव प्रचार कर रही है, वहीं गठबंधन के लिए असहज स्थिति पैदा हो गई है. गठबंधन को समझ में नहीं आ रहा है कि वह राय की कमी किस तरह से पूरी करे. गठबंधन के मतदाताओं के सामने भी उलझन है कि वह फरार चल रहे प्रत्याशी के पक्ष में वोट करें अथवा उन्हें किसी और विकल्प की तलाश करनी चाहिए.

अतुल राय (File Photo)


रेप के मामले में फंसने से बिगड़ा समीकरण

वाराणसी की एक पूर्व छात्रा ने अतुल राय पर रेप का आरोप लगाया है. छात्रा का आरोप है कि राय अपनी पत्नी से मिलाने के लिए उसे अपने घर ले गए जहां उन्होंने उसका यौन उत्पीड़न किया. राय ने अपने लगे आरोप से इंकार किया है, लेकिन गत एक मई को उनके खिलाफ केस दर्ज हो गया. मामले की गंभीरता को देखते हुए न्यायालय ने उनकी गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वारंट जारी कर दिया. बताया जा रहा है कि पुलिस से बचने के लिए राय भूमिगत हो गए हैं. इधर, पुलिस उन्हें दबोचने के लिए मऊ और आस-पास के जिलों में दबिश दे रही है.

ये भी पढ़ें:

पीली साड़ी वाली महिला: पति की हो चुकी है मौत, बेटे के लिए फिल्मों का ऑफर ठुकराया

खुलासा: देवरिया जेल की बैरक नंबर-7 में सजता था अतीक अहमद का दरबार

रेप का आरोपी गठबंधन प्रत्याशी फरार, लोग परेशान किसे करें वोट?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज