अपना शहर चुनें

States

माफिया मुख्तार अंसारी के बेहद करीबियों पर पुलिस का शिकंजा, फर्जीवाड़े के आरोप में दो गिरफ्तार

माफिया मुख्तार अंसारी के बेहद करीबियों पर पुलिस का शिकंजा (फाइल फोटो)
माफिया मुख्तार अंसारी के बेहद करीबियों पर पुलिस का शिकंजा (फाइल फोटो)

इस संबंध में पुलिस अधीक्षक (SP) डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि दोनों आरोपियों की लंबे समय से तलाश थी. इन्हें गिरफ्तार कर चालान कर दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 5:31 PM IST
  • Share this:
गाजीपुर. पंजाब के रोपड़ जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी (Mafia Mukhtar Ansari) की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. इसी कड़ी में शनिवार को गाजीपुर पुलिस ने गजल होटल की जमीन को मुख्तार अंसारी की पत्नी व दोनों पुत्रों के नाम से दर्ज कराने के मामले में आईएस-191 गैंग के दो सहयोगियों को धर-दबोचा है. पूछताछ के बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया, जबकि अन्य आरोपियों की तलाश जारी है. पुलिस ने बताया कि गजल होटल की भूमि कूट रचित ढंग से पत्नी आफशा अंसारी, पुत्र अब्बास अंसारी व उमर अंसारी के नाम से दर्ज करा दिया था. इस मामले में पुलिस टीम ने दो महीने पहले दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था.

कोतवाली पुलिस टीम ने घर पर छापा डालकर खुदाईपुरा नखास निवासी जफर अब्बास व सैय्यद सादिक हुसैन को गिरफ्तार कर लिया है. इस संबंध में पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि दोनों आरोपियों की लंबे समय से तलाश थी. इन्हें गिरफ्तार कर चालान कर दिया गया है. बाकी आरोपियों की तलाश जारी है.

मुख्तार अंसारी के दो बेहद करीबी गिरफ्तार
मुख्तार अंसारी के दो बेहद करीबी गिरफ्तार




तीनों हैं फरार
मुख्तार की पत्नी आफसा, सरजील रजा और अनवर शहजाद फरार चल रहे हैं. मुख्तार की पत्नी आफसा पर कुर्क जमीन पर अवैध कब्जे का केस दर्ज है. वहीं सरजील रजा, अनवर शहजाद पर सरकारी ठेका हासिल करने के लिए फर्जी दस्तावेज लगाने का केस दर्ज है. आफसा अंसारी पर सरकारी धन गबन करने का भी केस है. तीनों पर गैंगस्टर का केस भी दर्ज है.

मुख्तार के फरार बेटों लखनऊ पुलिस घोषित कर चुकी है इनाम
इससे पहले लखनऊ पुलिस ने मुख्तार के दोनों बेटों अब्बास और उमर अंसारी पर शिकंजा कसा था. दोनों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया गया था. जल्द ही दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर उनकी गिरफ़्तारी की जाएगी. लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने बताया कि यह कार्रवाई सरकारी जमीन पर अवैध निर्माण के मामले में दर्ज मुकदमे में की गई है. उन्होंने कहा कि इस मामले में गैर जमानती वारंट के लिए प्रार्थना पत्र कोर्ट में दिया गया है.

(रिपोर्ट- मनीष मिश्रा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज