योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, मुख्तार अंसारी की पत्नी और साले की 28.58 करोड़ की संपत्ति कुर्क

माफिया मुख्तार अंसारी और पत्नी अफसा अंसारी (File Photo)
माफिया मुख्तार अंसारी और पत्नी अफसा अंसारी (File Photo)

एसपी के अनुसार मुख्तार (Mukhtar) की पत्नी और सालों पर कार्रवाई गैगस्टर एक्ट के तहत एनबीडब्ल्यू जारी होने के बाद हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 7:30 PM IST
  • Share this:
गाजीपुर. पंजाब के रोपड़ जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी (Mafia Mukhtar Ansari) की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. शनिवार शाम गाजीपुर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सदर क्षेत्र में मुख्तार की पत्नी आफशा अंसारी और सालों के नाम रजिस्टर्ड 28 करोड़ 58 लाख की संपत्ति की कुर्की की. पुलिस और प्रशासन की टीम ने डुग्गी बजवाते हुए संपत्ति के निर्माण और जमीन को कुर्क कर नोटिस चस्पा कर दिया. मुख्तार पर शिकंजा कसती पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाई के बीच लगभग 70 करोड़ की संपत्ति पर कुर्की और अवमुक्त कराने की कार्रर्वाई हो चुकी है. पुलिस प्रशासन ने 2 करोड़ की 0.539 हेक्टेयर जमीन को भी कुर्क किया है.

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि अपराधिक गैंग आईएस-191 के लीडर मुख्तार अंसारी की पत्नी और दो सालों के विरुद्ध गैंगेस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज होने के बाद एनबीडब्ल्यू वारंट जारी किया गया था, कोर्ट द्वारा निर्धारित तारीख पर नहीं पहुंचने के बाद तीनों के खिलाफ इनाम घोषित किया गया है. उन्होंने कहा कि अब इसकी 28.58 करोड़ रुपये की अनाधिकृत संपत्ति को पुलिस टीम ने कुर्क किया है. मुख्तार अंसारी की पत्नी आफसा अंसारी व उनके साले सरजील रजा और अनवर शहजाद संगठित आपराधिक गिरोह के रूप में अपराध करते है.

तीनों हैं फरार
मुख्तार की पत्नी आफसा, सरजील रजा और अनवर शहजाद फरार चल रहे हैं. मुख्तार की पत्नी आफसा पर कुर्क जमीन पर अवैध कब्जे का केस दर्ज है. वहीं सरजील रजा, अनवर शहजाद पर सरकारी ठेका हासिल करने के लिए फर्जी दस्तावेज लगाने का केस दर्ज है. आफसा अंसारी पर सरकारी धन गबन करने का भी केस है. तीनों पर गैंगस्टर का केस भी दर्ज है.
मुख्तार के फरार बेटों लखनऊ पुलिस घोषित कर चुकी है इनाम



उधर लखनऊ पुलिस ने मुख्तार के दोनों बेटों अब्बास और उमर अंसारी पर शिकंजा कस दिया है. दोनों पर 25-25 हजार का इनाम घोषित किया गया है. जल्द ही दोनों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर उनकी गिरफ़्तारी की जाएगी. लखनऊ पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने बताया कि यह कार्रवाई सरकारी जमीन पर अवैध निर्माण के मामले में दर्ज मुकदमे में की गई है. उन्होंने कहा कि इस मामले में गैर जमानती वारंट के लिए प्रार्थना पत्र कोर्ट में दिया गया है.

(रिपोर्ट- मनीष मिश्रा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज