COVID-19: बलरामपुर में होम क्वारंटाइन का उल्लंघन करने वाले 1931 लोगों पर केस दर्ज

बलरामपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित सभी लोग बाहर से आए हुए प्रवासी हैं (सांकेतिक तस्वीर)
बलरामपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित सभी लोग बाहर से आए हुए प्रवासी हैं (सांकेतिक तस्वीर)

एसपी बलरामपुर ने बताया कि ऐसे उद्दंड और गैर जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जनपद के 13 थानों में 56 अभियोग पंजीकृत किये गये है. भारतीय दंड संहिता, महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम की सुसंगत धाराओं में कुल 1931 लोगों को नामजद करके पुलिस ने कठोर कार्यवाही की है.

  • Share this:
बलरामपुर. जनपद पुलिस ने पिछले दो दिनों में होम क्वारन्टीन के निर्देशों का उल्लंघन करने वाले लगभग 1931 लोगों पर FIR दर्ज की है. दरअसल वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic coronavirus) के चलते देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) है काम-धंधे सब ठप पड़ जाने की वजह से विभिन्न प्रदेशों व जनपदों से प्रवासी लोग वापस अपने घरों को लौट रहे हैं. मात्र 4 दिनों में बलरामपुर में 30 नए कोरोना मरीज पाए गए हैं. COVID-19 के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर बाहर से आए लोगों को 21 दिनों तक होम क्वारंटाइन (Home quarantine) रहने के निर्देश हैं.

संक्रमण फैलने का खतरा बहुत बढ़ गया है
जनपद बलरामपुर में भी भारी संख्या में अन्य प्रदेशों से लोग वापस आये आ रहे हैं. आंकड़ों के मुताबिक जिले में लगभग 60 हजार से ज्यादा प्रवासियों की आमद हो चुकी है और यह संख्या अभी भी बढ़ती ही जा रही है. पुलिस-प्रशासन को लगातार इस प्रकार की शिकायतें मिल रही थीं कि बहुत से लोग जिनको कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए होम क्वारन्टीन के लिए मेडिकल टीम द्वारा निर्देशित किया गया था, वो अपने घरों में न रहकर इधर-उधर घूमते पाए जा रहे हैं. ऐसे लोगों की इस तरह की गतिविधियों के कारण कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा बहुत बढ़ गया है. एसपी देवरंजन वर्मा ने बताया कि पुलिस द्वारा लगातार ऐसे लोगों के खिलाफ कार्यवाही की चेतावनी दी जा रही थी जो होम क्वारंटाइन का उल्लंघन कर रहे थे. एसपी बलरामपुर ने बताया कि ऐसे उद्दंड और गैर जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जनपद के 13 थानों में 56 अभियोग पंजीकृत किये गये है. भारतीय दंड संहिता, महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम की सुसंगत धाराओं में कुल 1931 लोगों को नामजद करके पुलिस ने कठोर कार्यवाही की है.

32 कोरोना पाजिटिव केस मिले
पुलिस की ओर से यह चेतावनी भी जारी की गयी है कि होम क्वारन्टीन का उल्लंघन करने वालों को चिन्हित करके उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी. गौरतलब है कि प्रवासियों के लगातार आगमन से जिले में कोविड-19 के संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है जिसको देखते हुए बाहर से आने वाले सभी लोगों को होम क्वॉरेंटाइन में रहने की सख्त हिदायत दी जा रही है. प्रवासियों के आगमन के साथ ही जिले में कोरोना का प्रकोप भी तेजी से फैला है मात्र 4 दिनों में 30 नए कोरोना मरीज पाए गए हैं. जिन्हें इलाज के लिए एल-1 जिला मेमोरियल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. जिले में अब तक कुल 32 कोरोना पाजिटिव केस मिले हैं इनमें से एक युवक ठीक होकर अपने घर जा चुका है.



जिले में अभी भी कोराना संक्रमित मरीजों की संख्या 31 हैं. जनपद में अब तक पाए गए सभी 32 कोरोना संक्रमित मरीज प्रवासी श्रमिक हैं जो लॉकडाउन के बाद देश के विभिन्न महानगरों से वापस आए हैं. इनमें एक ही परिवार के 6 संक्रमित सदस्य भी शामिल है. डीएम कृष्णा करुणेश के मुताबिक सभी आने वाले प्रवासियों को उनके घर में ही क्वारंटाइन करके उन पर गहन निगरानी रखी जा रही है. डीएम ने बताया कि समुदाय में कोविड-19 के संक्रमण का प्रसार न होने पाए इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर सभी स्वास्थ्य कर्मियों, राजस्व कर्मियों और ग्राम प्रधानों को लगाया गया है इसके साथ ही आम लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- COVID-19: कोरोना वॉरियर्स की संख्या में भी पिछड़े हैं बिहार और यूपी, कैसे लड़ेंगे महामारी से
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज