बलरामपुर: मदरसे में शिक्षकों की नियुक्ति में फर्जीवाड़ा, डीएम ने दिए जांच के आदेश

बलरामपुर के एक मदरसे में शिक्षकों की नियुक्ति का फर्जीवाड़ा सामने आया है.
बलरामपुर के एक मदरसे में शिक्षकों की नियुक्ति का फर्जीवाड़ा सामने आया है.

बलरामपुर (Balrampur): डीएम कृष्णा करुणेश ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है और जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी.

  • Share this:
बलरामपुर. उत्तर प्रदेश के बलरामपुर (Balrampur) के एक मदरसे (Madrasa) में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है. इस मदरसे में शिक्षकों की नियुक्ति में भ्रष्टाचार (Corruption) का खुला खेल खेला गया. अनुदान मिलने के बाद फर्जी शिक्षकों की नियुक्ति कर उन्हें वेतन भी जारी कर दिया गया जबकि अनुदान पत्रावली में शामिल सूची के सभी शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी न्याय के लिए दर-दर भटक रहे हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएम कृष्णा करुणेश ने एसडीएम, तुलसीपुर को जांच सौंप दी है.

मामला तुलसीपुर के जरवा रोड स्थित मदरसा दारुल उलूम अतीकिया का है. 27 फरवरी 2013 को अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की सचिव लीना जौहरी ने प्रदेश के 75 मदरसों को अनुदान पर लिए जाने संबंधी एक पत्र जारी किया था. इसी क्रम में 24 अगस्त 2013 को तत्कालीन जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी विनोद कुमार जायसवाल ने आलिया स्तर के स्थाई मान्यता प्राप्त मदरसा दारुल उलूम अतीकिया, तुलसीपुर को अनुदान सूची पर लिए जाने हेतु एक प्रस्ताव रजिस्ट्रार उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद लखनऊ को भेजा था. उस समय इस मदरसे में कुल 15 शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मी कार्यरत थे.

अधिकारियों की मिलीभगत से पूरा खेल



अनुदान के लिए भेजी गई पत्रावली में मदरसे में कार्यरत 15 शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की सूची भी रजिस्ट्रार उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद को भेजी गई थी. अनुदान मिलते ही विद्यालय के प्रबंध तंत्र ने अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर भ्रष्टाचार का एक बड़ा खेल खेला. रातों-रात अनुदान के लिए भेजी गई पत्रावली में शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की सूची को बदल कर नए शिक्षकों और कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई.
डीएम ने कहा- जांच की जा रही है, दोषियों पर कठोरी कार्रवाई होगी

यही नहीं फर्जी शिक्षकों और कर्मचारियों का  वेतन निर्गत कर उसका अनुमोदन भी करा लिया गया. डीएम कृष्णा करुणेश ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है और जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज