मॉब लिंचिंग: पीएम मोदी को पत्र लिखने वालों को बीजेपी सांसद ने बताया 'नंगा गैंग'

गोंडा के भाजपा सांसद बृज भूषण शरण सिंह ने मॉब लिंचिंग के खिलाफ पत्र लिखने वाले गैंग को बताया नंगा बताया है. उन्होंने कहा कि ये नंगे लोग हैं, उनको नंगे जवाब मिल रहे हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 28, 2019, 12:13 AM IST
मॉब लिंचिंग: पीएम मोदी को पत्र लिखने वालों को बीजेपी सांसद ने बताया 'नंगा गैंग'
मॉब लिंचिंग: पीएम मोदी को पत्र लिखने वालों को बीजेपी सांसद ने बताया 'नंगा गैंग'.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 28, 2019, 12:13 AM IST
गोंडा के भाजपा सांसद बृज भूषण शरण सिंह ने मॉब लिंचिंग के खिलाफ पत्र लिखने वाले गैंग को बताया नंगा बताया है. उन्होंने कहा कि ये नंगे लोग हैं, उनको नंगे जवाब मिल रहे हैं. सांसद बृज भूषण शरण सिंह ने कहा कि इनको कश्मीर नहीं दिखता, देश के अलग-अलग हिस्सों में होने वाली घटनाएं नहीं दिखती हैं.

वे यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा कि, इनको 1984 की सबसे बड़ी मॉब लिंचिंग नहीं दिखती है. सपा सांसद आजम खान के बारे में उन्होंने कहा कि, “आजम खान हमेशा द्विअर्थी बात करते हैं, वे कीर्तिमान बनाते हैं. एक कीर्तिमान उन्होंने लोकसभा में बनाया है. अगर आजम माफी नहीं मांगते हैं तो सर्वानुमति से सदन के स्पीकर उनके खिलाफ कार्रवाई करें.” सड़कों पर नमाज व हनुमान चालीसा पढ़ने पर भी बीजेपी सांसद ने तंज कसते हुए कहा कि, ‘एक प्रथा थी तो दूसरी प्रथा भी शुरू हो गई, शायद इसी से कोई भला हो जाए.’

यह है मामला
देश के अलग-अलग हिस्सों में हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं और जय श्रीराम नारे के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए अलग-अलग क्षेत्रों की 49 हस्तियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में अनुराग कश्यप, श्याम बेनेगल, रामचंद्र गुहा, शुभा मुद्गल, अपर्णा सेन और कोंकणा सेन शर्मा जैसे अलग-अलग क्षेत्र के दिग्गजों के हस्ताक्षर हैं.

कड़े कानून बनाने की मांग
इस चिट्ठी में प्रधानमंत्री को देश में बढ़ती असहिष्णुता पर उनका ध्यानाकर्षण करने के लिए लिखा गया है. इस पत्र में लिखा गया है, 'इन दिनों देश में धर्म और जात-पात और मॉब लिंचिंग से जुड़े मामले देश में बढ़ते जा रहे हैं. हालांकि आपने मॉब लिंचिंग और इस तरह के मामलों को संसद में उठाया है लेकिन संसद में उठाना ही काफ़ी नहीं है. आपको इन मामलों पर कड़े क़ानून बनाने चाहिए ताकि इन बढ़ते मामलों की संख्या बढ़ने की बजाए कम हो लेकिन ऐसा नही हुआ.'

पत्र में है जय श्रीराम का जिक्र
Loading...

इस पत्र में यह भी कहा गया है कि इन दिनों जय श्री राम के नाम पर खुले आम जंग छिड़ रही है. लोगों को अपने ही देश में एंटी नेशनल, अर्बन नक्सल कहा जा रहा है. लोकतंत्र में इस तरह की बढ़ती घटनाओं को रोकना चाहिए और सरकार के खिलाफ उठने वाले मुद्दों को एंटी नेशनल सेंटीमेंट्स के साथ ना जोड़ा जाए. इस चिट्ठी में क़रीब 49 लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि देश में बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं का वह संज्ञान लें और कड़े क़ानून बनाएं ताकि देश में बढ़ती इन घटनाओं को रोका जा सके.

ये भी पढ़ें - 
First published: July 28, 2019, 12:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...