गोंडाः अस्पताल में तड़प-तड़पकर प्रसूता की मौत, चिकित्सीय लापरवाही का आरोप

आरोप है कि डाक्टरों ने प्रसव के बाद पीड़ित महिला का इलाज इसलिए नहीं किया, क्योंकि मृतका का पति समय पर 12 हज़ार की रिश्वत नहीं दे पाया


Updated: July 18, 2018, 10:10 PM IST

Updated: July 18, 2018, 10:10 PM IST
गोंडा जिले में बुधवार को डाक्टरों की लापरवाही से एक प्रसूता की मौत होने का मामला सामने आया है. बताया जाता है बेटी को जन्म देने के बाद प्रसूता की तबियत अचानक बिगड़ गई, लेकिन समय पर इलाज नहीं मिलने से प्रसूता की तड़प-तड़पकर मौत हो गई. आरोप है कि डाक्टरों ने प्रसव के बाद पीड़ित महिला का इलाज इसलिए नहीं किया, क्योंकि मृतका का पति समय पर 12 हज़ार की रिश्वत नहीं दे पाया.

यह भी पढ़ें-गोंडा: अस्पताल ने एड्स रोगी के बेड पर लिख दिया HIV+

रिपोर्ट के मुताबिक रिश्वत में मांगे गए 12 हजार रुपए समय पर नहीं मिलने से डाक्टरों ने पीड़िता का इलाज करने से मना कर दिया, जिससे असहनीय दर्द से कराह रही प्रसूता ने मौके पर दम तोड़ दिया. दिव्यांग मृतका के परिजनों ने बताया कि महिला अस्पताल में तैनात डा. ममता श्रीवास्तव और डा. लतिता तिग्गा पर प्रसव से पूर्व 12 हज़ार रुपए रिश्वत की मांग की थी.

परिजनों के मुताबिक प्रसव पूर्व ही मृतका के पति ने डाक्टरों को 5 हज़ार रुपए दे दिए थे, लेकिन प्रसव के बाद प्रसूता की तबियत खराब होने पर डाक्टरों ने इसलिए पीड़िता का इलाज नहीं किया, क्योंकि उन्हें रिश्वत के शेष 7 हज़ार रुपए नहीं मिले थे. इस बीच पीड़िता का पति बार-बार डॉक्टरों से इलाज की गुहार करता रहा, लेकिन डाक्टरों ने इलाज शुरू नहीं किया, जिससे पीड़िता की मौत हो गई.

यह भी पढ़ें-गर्भवती महिला ने असाधारण शिशु को दिया जन्म, लोगों के लिए बना कौतूहल का विषय

वहीं, मामले पर जिलाधिकारी प्रभांशु श्रीवास्तव का कहना है कि महिला का ऑपरेशन करने के बाद बच्ची ने जन्म लिया और फिर महिला को वार्ड में भर्ती करा दिया गया, लेकिन महिला की तबियत रात में बिगड़ गई और उसकी मौत गई. हालांकि डीएम ने मजिस्ट्रेटी जांच का आदेश दे दिया है और 4 दिन में रिपोर्ट सौंपने को निर्देश दिया है.

(रिपोर्ट-देवमणि त्रिपाठी, गोंडा)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर